टाइगर रिजर्व मुकुंदरा हिल्स में भी बढ़ गया टाइगर्स का कुनबा, सीएम गहलोत ने दी बधाई
Jaipur News in Hindi

टाइगर रिजर्व मुकुंदरा हिल्स में भी बढ़ गया टाइगर्स का कुनबा, सीएम गहलोत ने दी बधाई
टाइगर रिजर्व मुकुंदरा हिल्स में बाघिन के साथ नजर आए नन्हे शावक

बाघिन MT-2 के दो शावकों को जन्म देने के बाद उसकी निगरानी बढ़ा दी गयी है. राजस्थान वन्यजीव सलाहकार मण्डल के सदस्य धीरेंद्र के. गोधा ने कहा कि टाइगर्स (Tigers) की संख्या बढ़ाने की कोशिशें काफी समय से जारी थीं. प्रदेश में बाघ संरक्षण (Tiger conservation) को लेकर गंभीरता बरती जा रही है

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान से वन्यजीव प्रेमियों (Wildlife lovers) के लिए खुशखबरी आई है. तकरीबन 10 साल के प्रयास के बाद राजस्थान के तीसरे टाइगर रिजर्व मुकुंदरा हिल्स (Tiger Reserve Mukundara Hills) में भी अब नन्हे शावकों से आबाद हो गया है. मंगलवार सुबह बाघिन MT-2 दो नन्हे शावकों के साथ नजर आई तो टाइगर रिजर्व में ख़ुशी की लहर दौड़ गई. इसके साक्ष्य मिलते ही वन विभाग (Forest Department) ने सीएम अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) को इसकी जानकारी दी उसके बाद सीएम ने ट्वीट के जरिये ये खुशखबरी शेयर करते हुए प्रदेशवासियों को बधाई दी.




हमारी जिम्मेदारी भी बढ़ गयी है
मुख्यमंत्री अशोक ने अपनी बधाई संदेश में कहा कि वो इस खबर से बेहद आह्लादित महसूस कर हे हैं. इस के साथ हमारी जिम्मेदारी भी बढ़ गयी है. राजस्थान का तीसरा टाइगर रिजर्व भी शावकों से आबाद हो गया है. बाघिन MT-2 के दो शावकों को जन्म देने के बाद उसकी निगरानी बढ़ा दी गयी है. राजस्थान वन्यजीव सलाहकार मण्डल के सदस्य धीरेंद्र के. गोधा ने कहा कि टाइगर्स की संख्या बढ़ाने की कोशिशें काफी समय से जारी थीं. प्रदेश में बाघ संरक्षण को लेकर गंभीरता बरती जा रही है. वहीं वन्यजीव सलाहकार मण्डल की सदस्य सिमरत संधू ने कहा कि इससे बाघों के नए आवास विकसित होने और उनके बाघ प्रजनन के लायक सुरक्षित माहौल मिलने के लिए उम्मीद बढ़ी है. प्रदेश में अब रणथम्भौर, सरिस्का और मुकन्दरा तीनो जगह प्रजनन हो रहा है. इससे प्रदेश में बाघ संरक्षण का सुनहरा दौर वापस आएगा. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भी इस खबर से काफी खुश हैं. उन्होंने पूरे प्रदेश वासियों को ये खुशखबरी सबसे पहले खुद ट्वीट कर बताई है.

अब राजस्थान में तीन-तीन टाईगर रिजर्व बाघों से आबाद
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेशवासियों को बधाई दी और बाघ संरक्षण के प्रति अपनी संवेदनशीलता को बताते हुए कहा कि राजस्थान बाघ संरक्षण के लिए बहुत सजग है और अब हमारी जिम्मेदारियां बढ़ गई हैं. एक दौर था जब राजस्थान में सिर्फ रणथम्भौर टाइगर रिजर्व से ही बाघों के प्रजनन की खुशखबरी आया करती थी, लेकिन अब राजस्थान में तीन-तीन टाईगर रिज़र्व बाघों से आबाद हो रहे हैं. कुछ दिन पहले सरिस्का में तीन शावक होने की खबर सामने आई और उसके बाद में अब मुकुंदरा हिल्स टाइगर रिजर्व में भी पहली बार बाघों के शावकों के जन्म होने की सुखद खबर सामने आई है. पहले बाघों के मामले में बेचैन करने वाली खबरें सामने आया करती थीं. लंबे अरसे से प्रदेश में बाघों के शिकार होने, गायब होने, ज़हर से मारे जाने या आपसी भिड़ंत में मर जाने की खबरें सामने आ रही थी. ऐसे में यह एक सुखद खबर है जिससे बाघों के नए घर मे बाघ संरक्षण को लेकर भरोसा जगा है.

ये भी पढ़ें- Rajasthan: बेरोजगारों के लिए खुशखबरी, भर्तियां भी हुईं 'अनलॉक', RPSC ने निकाली शिक्षक पदों की भर्ती
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading