Home /News /rajasthan /

कफील खान ने सुनाई आपबीती- मथुरा जेल में हुई लाठियों से पिटाई, प्रियंका गांधी ने की मदद

कफील खान ने सुनाई आपबीती- मथुरा जेल में हुई लाठियों से पिटाई, प्रियंका गांधी ने की मदद

 कफील खान ने जयपुर में बड़ा बयान दिया है. (File)

कफील खान ने जयपुर में बड़ा बयान दिया है. (File)

जेल से रिहा होने के बाद डॉ. कफिल खान (Kafeel Khan) बोले यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से गुजारिश करूंगा ताकि फिर से नौकरी ज्वाइन कर सकूं.

जयपुर. रासुका लगने के बाद पिछले 8 महीने से जेल काट रहे उत्तर प्रदेश के गोरखपुर के डॉ. कफील खान अपनी सुरक्षा को लेकर काफी चिंतित हैं. इस वजह से डॉ. कफील खान (Kafeel Khan) अपने परिवार के साथ जयपुर में शरण लेने पहुंचे. उनका कहना है परिवार की प्रियंका गांधी से बात हुई है. राजस्थान में कांग्रेस (Congress) सरकार है और सुरक्षा का भरोसा दिलाया गया है. कफील खान ने कहा कि जेल में मेर साथ अमानवीय बर्ताव किया गया है. UP सरकार कभी कोई भी नया केस दर्ज कर सकती है. मैं परिवार के साथ सुरक्षित रहना चाहता हूं. डॉ. कफील ने कहा कि इस बार जेल में मुझे बहुत ज़्यादा टॉर्चर किया गया. 8 महीने जेल में काफी शारीरिक प्रताड़ना हुई. 72 घण्टे तक खाना नहीं मिलता था, लाठियों से मारा जाता था. अब भी कोर्ट के आदेश के बाद रात 11.55 पर जेल से छोड़ा गया.

कफील खान का कहना है कि अब भी कोई नया केस बना कर मुझे फंसाया जा सकता है, लेकिन मैं बाहर आकर अब कोरोना के खिलाफ जंग में मदद करना चाहता हूं. कोरोना वैक्सीन ट्रायल के लिए खुद को वालंटियर के तौर पर प्रस्तुत करने का भी इच्छुक हूं. डॉ. कफील ने कहा कि मैं अभी सियासत से दूर हूं, लेकिन आगे का कुछ नहीं पता. बता दें कि गुरुवार को जयपुर में कफील खान ने मीडिया से बात की. इस दौरान कफील खान ने कहा कि यहां आने के लिए प्रियंका गांधी ने कहा कि हम आपको सुरक्षित जगह देंगे. यूपी सरकार शायद कोई दूसरा केस लगा दे. जान को भी खतरा है, इसलिए यूपी से थोड़ा दूर रहेंगे. कफील खान ने कहा कि सुबह साढ़े 11 बजे मथुरा जेल सुप्रीटेंडेट को कोर्ट का ऑर्डर मिल गया था कि रिहा कर दो. डीएम अलीगढ़, उत्तर प्रदेश सरकार और केंद्र के गृहमंत्रालय को ऑर्डर मिल गया कि तुरंत रिहा किया जाए. इसके बावजूद रिहाई नहीं की गई. डीएम कहते रहे कि मैं लखनऊ में बैठे लोगों का ऑर्डर मानूंगा. मैं चीफ जस्टिस का ऑर्डर नहीं मानूंगा. मुझे छोड़ा रात को 11.55 बजे. जब डेडलाइन खत्म होने वाली थी.

'प्रियंका गांधी ने की मदद'

कफील खान का कहना है कि राजस्थान मथुरा के बॉर्डर से लगा हुआ है. हम लोग इसलिए भरतपुर में एंट्री कर गए. प्रियंका गांधी ने भी मदद की है. कांग्रेस की यहां सरकार है. इसलिए हम यहां सुरक्षित रह सकते हैं. परिवार को भी ऐसा ही लगा. पिछले साढ़े सात महीने मेंटल हरेसमेंट हुआ. वहीं, फिजिकली भी टॉर्चर किया. मुझे यही कहा जाता था कि सरकार के खिलाफ मत बोलो, इसलिए चाहता था कि ऐसी जगह पर रहूं, जहां परिवार के साथ वक्त बिता सकूं. मैंने जनवरी में ही कोरोना के खतरे के बारे में बताया था. इसके अलावा कोरोना की बात कि जाए तो 27 जनवरी 2020 को जब कोरोना का देश में एक भी केस नहीं था उस वक्त मैंने वीडियो बनाया था. उसमें सबसे आग्रह किया था कि कैसे कोरोना से बचना है. कैसे हाथ साफ करने हैं. मुझे 29 जनवरी को गिरफ्तार कर लिया गया. मैंने पीएम मोदी को भी मेडिकल व्यवस्था पर पत्र लिखा. आज ये हालत है कि हम ब्राजील को मात देने जा रहे हैं. आज कहना चाहता हूं कि करीब 1 करोड़ लोग इससे इफेक्ट होंगे.

ये भी पढ़ें: हिमाचल सरकार पर बढ़ा खतरा! अब कैबिनेट मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर Corona Positive

 मुख्यमंत्री से करूंगा गुजारिश

कफिल खान का कहना है कि अब मेरा प्रयास रहेगा कि यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाश से गुजारिश करके फिर से अपनी नौकरी ज्वॉइन कर सकूं, इसलिए लेटर लिखूंगा. कफील ने कहा कि मेरे परिवार को लगता है कि मुझे फिर से किसी केस में फंसाया जा सकता है. जब बिहार, असम और केरल जाऊंगा तो भी सुरक्षित रहूंगा. डॉ. कफील ने कहा कि साजिश के तहत रसुका लगा दिया गया था, जिसमें मुझे बेवजह जेल में रखा गया. वहीं, इलाहबाद कोर्ट ने साफ लहजे में कहा कि डीएम अलीगढ़ ने भारतीय कानून व्यवस्था का दुरुपयोग किया।

Tags: Jaipur news, Mathura news, Rajasthan government, Rajasthan latest news, Uttar Pradesh Government

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर