अपना शहर चुनें

States

Rajasthan: अब ग्राम सेवा सहकारी समिति के पास फसल गिरवी रखकर कर्ज ले सकेंगे किसान

मूल्यांकित राशि की 70 प्रतिशत राशि कर्ज के रूप में उपलब्ध कराई जाएगी.
मूल्यांकित राशि की 70 प्रतिशत राशि कर्ज के रूप में उपलब्ध कराई जाएगी.

राजस्थान (Rajasthan) में किसान (Farmer) अब अपनी फसल को गिरवी रखकर कर्ज ले सकेंगे. सहकार किसान कल्याण योजना (Sahakar Farmers Welfare Scheme) के तहत यह क्रॉप मॉर्गेज लोन किसानों को दिया जाएगा.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान में किसान (Farmer) अब अपनी फसल को गिरवी रखकर कर्ज ले सकेंगे. सहकार किसान कल्याण योजना (Sahakar Farmers Welfare Scheme) के तहत यह क्रॉप मॉर्गेज लोन किसानों को दिया जाएगा. सीएम अशोक गहलोत ने कृषक कल्याण कोष से सहकार किसान कल्याण योजना में हर साल 50 करोड़ रुपए का अनुदान देने फैसला किया है. इस अनुदान की रकम से किसानों को 3 फीसदी ब्याज दर पर कर्ज दिया जाएगा. इसका 7 प्रतिशत ब्याज राज्य सरकार द्वारा कृषक कल्याण कोष से वहन किया जाएगा. पहले राज्य सरकार द्वारा इसका केवल 2 प्रतिशत ब्याज वहन किया जाता था.

ग्राम सेवा सहकारी समिति स्तर पर लागू की जाएगी योजना
इसके तहत लघु और सीमान्त किसानों को 1.50 लाख और बड़े किसानों को 3 लाख रूपए तक का कर्ज 3 फीसदी ब्याज दर पर दिया जाएगा. किसान को 90 दिन की अवधि के लिए यह कर्ज मिलेगा. विशेष परिस्थितियों में यह सीमा 6 माह तक हो सकेगी. निर्धारित समय में कर्ज चुकाने पर किसान को ब्याज अनुदान मिलेगा. इस योजना को ग्राम सेवा सहकारी समितियों के स्तर पर लागू किया जाएगा. योजना के तहत जीएसएस या लैम्पस के सभी ऋणी और अऋणी किसान सदस्य उपज गिरवी रख कर्ज लेने के पात्र होंगे.

किसान साहूकारों के चंगुल से बच सकेगा
योजना के लागू होने किसान साहूकारों के चंगुल से बच सकेगा और उसे मजबूरी में कम कीमत पर अपनी उपज नहीं बेचनी पड़ेगी. आमतौर पर बाजार में फसल आने के समय उनके भाव कम होते हैं. लेकिन उस समय किसान को पैसे की जरूरत होती है. लिहाजा उसे मजबूरन कम कीमत में अपनी उपज बेचनी पड़ती है. आवश्यकताओं की पूर्ति और संस्थागत ऋणों को चुकाने के लिए किसान कम दामों पर ही फसल बेचने को मजबूर हो जाते हैं. फसल नहीं बेचें तो जरूरी कार्यों के लिए उन्हें साहूकारों या बिचौलियों के पास अपनी उपज रहन रखकर ऊंची ब्याज दरों पर ऋण लेना पड़ता है.



70 प्रतिशत राशि कर्ज के रूप में उपलब्ध कराई जाएगी
लेकिन अब किसान अपनी फसल ग्राम सेवा सहकारी समिति के पास गिरवी रखकर कर्ज ले सकेगा और जब उसे उंचे भाव मिले तब बेच सकेगा. योजना के तहत किसानों को उनकी गिरवी रखी गई उपज का बाजार मूल्य या समर्थन मूल्य जो भी कम हो के आधार पर मूल्यांकन किया जाएगा. मूल्यांकित राशि की 70 प्रतिशत राशि कर्ज के रूप में उपलब्ध कराई जाएगी.

राजस्थान हाईकोर्ट का आदेश- लॉकडाउन के समय नहीं माफ होगी स्कूल फीस 

Rajasthan: गहलोत सरकार ने स्टाम्प ड्यूटी पर 10% सरचार्ज बढ़ाया, आम आदमी पर भार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज