• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • Rajasthan: जयपुर ग्रेटर नगर निगम विवाद, निलंबित मेयर डॉ. सौम्या गुर्जर केस का फैसला आज

Rajasthan: जयपुर ग्रेटर नगर निगम विवाद, निलंबित मेयर डॉ. सौम्या गुर्जर केस का फैसला आज

पुलिस ने सौम्या गुर्जर सहित पांच लोगों के खिलाफ राजकार्य में बाधा डालने और मारपीट करने के आरोपों को प्रमाणित माना है.

पुलिस ने सौम्या गुर्जर सहित पांच लोगों के खिलाफ राजकार्य में बाधा डालने और मारपीट करने के आरोपों को प्रमाणित माना है.

JGMC Mayor’s Suspension Case : 4 जून को तत्कालीन मेयर सौम्या गुर्जर के चैम्बर में निगम आयुक्त यज्ञमित्र सिंह देव के साथ बदसलूकी और मारपीट के बाद मेयर के निलंबन के मामले में दायर याचिका पर हाईकोर्ट आज अपना फैसला सुनाएगा. मेयर ने नगरपालिका अधिनियम प्रावधानों की वैधानिकता को चुनौती दे रखी है.

  • Share this:
जयपुर. नगर निगम ग्रेटर विवाद मामले में निलंबित मेयर डॉ. सौम्या गुर्जर ( Dr. Soumya Gurjar) की याचिका पर आज फैसला आएगा. जस्टिस पंकज भंडारी की खंडपीठ मामले में फैसला सुनाएगी. गुर्जर ने स्वायत्त शासन विभाग के निलंबन आदेश (Suspension order) को अदालत में चुनौती दी थी. इस पर 14 जून को अदालत ने सुनवाई पूरी करके जजमेंट रिजर्व कर लिया था.

गुर्जर ने याचिका में नगरपालिका अधिनियम की धारा-39 के प्रावधानों की वैधानिकता को चुनौती देते हुए कहा था कि स्वायत्त शासन विभाग का निलंबन आदेश पूरी तरह से अवैध है. इसे रद्द करते हुए उन्हें बहाल किया जाए.

निलंबित 3 पार्षदों की याचिका पर सुनवाई अगले महीने
मेयर गुर्जर के बाद उनके साथ निलंबित किये गये तीन अन्य पार्षद भी हाईकोर्ट पहुंच चुके हैं. उनकी याचिका पर सुनवाई अगले माह होगी.

यह है पूरा मामला
दरसअल इस विवाद की शुरुआत 4 जून को तत्कालीन मेयर सौम्या गुर्जर के चैम्बर से हुई थी. निगम आयुक्त यज्ञमित्र सिंह देव ने चैम्बर में खुद के साथ मारपीट होने और बदसलूकी करने का आरोप लगाया था. इसकी शिकायत राज्य सरकार से करते हुए उन्होंने तीन पार्षदों के खिलाफ ज्योति नगर थाने में मामला भी दर्ज करवाया था. उसके बाद सरकार ने पूरे प्रकरण की जांच करते हुए मेयर और तीनों पार्षदों को निलंबित कर दिया था. उसके खिलाफ मेयर ने हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी.

पुलिस पेश कर चुकी है चालान
इस मामले में निगम आयुक्त यज्ञमित्र सिंह देव ने ज्योति नगर थाने में मामला भी दर्ज करवाया था. उस पर जांच करते हुए पुलिस ने न्यायालय में चालान भी पेश कर दिया है. अपनी जांच में पुलिस ने सौम्या गुर्जर सहित पांच लोगों के खिलाफ राजकार्य में बाधा डालने और मारपीट करने के आरोपों को प्रमाणित माना है. चालान में पुलिस ने मेयर सौम्या गुर्जर, पार्षद शंकर शर्मा, पारस जैन, अजय सिंह और रामकिशोर प्रजापत के खिलाफ चालान पेश किया गया है. इस मामले को लेकर बीजेपी और कांग्रेस में घमासान मचा हुआ है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज