800 KM दूर होनी है शादी.. लेकिन दिन भर भटकने के बाद भी दूल्हे को जाने की नहीं मिली परमिशन
Jaipur News in Hindi

800 KM दूर होनी है शादी.. लेकिन दिन भर भटकने के बाद भी दूल्हे को जाने की नहीं मिली परमिशन
दुल्हे कमल को नहीं मिल रही पठानकोट जाने की परमिशन (फाइल फोटो)

सोमवार को पंजाब के पठानकोट में दूल्हे कमल की शादी होनी है. बारात को 800 किलोमीटर दूर जाना है मगर रविवार को दिन भर भटकने के बावजूद प्रशासन से उसे जयपुर से बाहर जाने की अनुमति नहीं मिली

  • Share this:
जयपुर. कोरोनावायरस (COVID-19) के कारण देश में फिलहाल लॉकडाउन (Lockdown) की स्थित है. इसके चलते जहां कई लोगों ने अपनी शादी का प्रोग्राम कैंसिल कर उसे आगे की तारीख के लिये बढ़ा दिया है, तो वहीं कुछ लोग इसे कैंसिल ना कर बेहद सादगी से विवाह कर रहे हैं. लेकिन क्या हो जब जब दूल्हा-दुल्हन में एक कहीं और हो और दूसरा कहीं और. राजस्थान (Rajasthan) की राजधानी जयपुर में ऐसा ही वाकया सामने आया है, जहां दूल्हा-दुल्हन शादी करना चाहते हैं लेकिन दूरियों की वजह से कर नहीं पा रहे.

जयपुर जिले की किशनगढ़ रेनवाल तहसील के लूनियावास गांव के कमल की शादी पठानकोट निवासी सोमा के साथ होनी थी. लेकिन लॉकडाउन और कर्फ्यू के कारण बारात पठानकोट नहीं जा पा रही है. कमल इसके लिये रविवार सुबह से जयपुर जिला कलेक्ट्रेट से लेकर गृह विभाग तक के चक्कर काट रहे हैं लेकिन बात नहीं बन पा रही है.

दरअसल सोमवार को कमल की शादी होनी है. बारात को पंजाब के पठानकोट जाना है मगर जयपुर से बाहर जाने की अनुमति नहीं मिल रही है. दूल्हा जयपुर में फंसा हुआ है तो दुल्हन पठानकोट में. दूल्हे कमल ने जयपुर जिला कलेक्ट्रेट से दो कारों के जरिए पठानकोट जाने की अनुमति मांगी थी. जयपुर जिला प्रशासन ने उसे अनुमति दे दी है मगर इस बीच गृह विभाग ने राजस्थान से बाहर उसके बारात ले जाने की अनुमति खारिज कर दी. इसके चलते दूल्हा कमल रविवार को दिन भर परेशान रहा. वो दूल्हे की वेशभूषा में ही इधर-उधर भटकते रहे. पास बनवाने वालों की भीड़ में दूल्हे राजा की भाग-दौड़ लोगों के बीच चर्चा का विषय बनी रही. दूल्हा आला अधिकारियों को अपनी शादी के तमाम सबूत देता रहा मगर देर शाम तक उसे परमिशन नहीं मिल पाई. जहां संभव हो सकता था वहां से उसने फोन करवाए मगर बात नहीं बनी.



800 किलोमीटर दूर होनी है शादी
शादी के लिए कमल को अपनी बारात लेकर 800 किलोमीटर दूर जाना है. मगर वो परमिशन की खातिर जयपुर में पूरे दिन इधर-उधर भटकता रहा. दूसरी तरफ ससुरालवाले दूल्हे को बार-बार फोन कर बारात लाने के लिए दबाव बना रहे हैं. लेकिन ये अभी तय नहीं है कि सोमवार को कमल अपनी शादी के लिए पठानकोट जा पाएगा या नहीं.

ये भी पढ़ें: COVID-19 Update: कोरोना की चपेट में आए राजस्थान के 31 जिले, कोरोना पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा हुआ 3741
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज