Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    गुर्जर आंदोलन: राजस्थान के 8 जिलों में 3 महीने तक लगा NSA, बैंसला गुट पर कसा शिकंजा

    गुर्जर आंदोलन के मद्देनजर गहलोत सरकार प्रशासनिक तैयारी में जुटी हुई है. (फाइल फोटो)
    गुर्जर आंदोलन के मद्देनजर गहलोत सरकार प्रशासनिक तैयारी में जुटी हुई है. (फाइल फोटो)

    गुर्जर आंदोलन (Gujjar Agitation) के मद्देनजर राजस्थान की अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) सरकार ने राज्य के 8 जिलों में रासुका लगा दी है. कोटा, बूंदी, झालावाड़, करौली, धौलपुर, भरतपुर और टोंक जिलों में NSA लगाया गया है.

    • Share this:
    जयपुर. एक नवंबर से प्रस्तावित गुर्जर आंदोलन (Gujjar Agitation) के मद्देनजर अशोक गहलोत सरकार (Ashok Gehlot Government) ने राज्य के 8 जिलों में रासुका (NSA) लगा दिया है. गृह विभाग ने इस बाबत शनिवार को अधिसूचना जारी कर दी. अधिसूचना की तिथि से आगामी 3 महीने तक आदेश प्रभावी रहेगा. गृह विभाग के आदेश के बाद कोटा, बूंदी, झालावाड़, करौली, धौलपुर, भरतपुर, टोंक समेत अन्य गुर्जर बाहुल्य जिलों के कलेक्टर्स को अतिरिक्त शक्तियां मिल गई हैं.

    हिरासत में लेने की शक्ति देता है कानून
    सुरक्षा अधिनियम-1980, देश की सुरक्षा के लिए सरकार को अधिक शक्ति देने से संबंधित एक कानून है. यह कानून केंद्र और राज्य सरकार को किसी भी संदिग्ध नागरिक को हिरासत में लेने की शक्ति देता है. सरकार को लगता है कि कोई व्यक्ति कानून व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने में उसके सामने बाधा खड़ी कर रहा है तो वह उसे हिरासत में लेने का आदेश दे सकती है. इस कानून का इस्तेमाल जिलाधिकारी, पुलिस आयुक्त, राज्य सरकार अपने सीमित दायरे में भी कर सकती है.


    बैंसला गुट पर कसा शिकंजा


    गहलोत सरकार ने 8 जिलों में रासुका लगाकर वार्ता में शामिल नहीं हो रहे कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला गुट पर शिकंजा कस दिया है. राज्य सरकार बैंसला गुट को वार्ता के लिए लगातार बुला रही है, लेकिन बैंसला गुट वार्ता नहीं कर रहा है. अब ऐसे में माना जा रहा है कि 1 नवंबर को यदि आंदोलन होता है तो सरकार बैंसला गुट के नेताओं को गिरफ्तार कर सकती है.

    आरक्षण की मांग को लेकर आंदोलन की तैयारी
    गौरतलब है कि आरक्षण की मांग नहीं माने जाने से नाराज गुर्जर समाज ने सड़क पर उतरने का ऐलान किया है. गुर्जर समाज ने भरतपुर जिले के बयाना स्थित पीलूपुरा से आंदोलन शुरू करने का निर्णय लिया है. इसके लिए 1 नवंबर को सुबह 10 बजे शहीद स्थल पर महापंचायत होगी. इसी दिन नगर निगम चुनावों के दूसरे चरण के तहत वोटिंग भी होनी है.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज