राजस्थान में इस मुद्दे पर हमेशा आक्रामक रही बीजेपी लेकिन पहली बार खुद ही घिर गई

वीडियो वायरल होने पर बीजेपी नेता गुलाबचंद कटारिया ने माफी मांग ली.

वीडियो वायरल होने पर बीजेपी नेता गुलाबचंद कटारिया ने माफी मांग ली.

बीजेपी नेता गुलाबचंद कटारिया की महाराणा प्रताप पर की गई टिप्पणी से पूरे राजस्थान में राजपूत संगठनों ने विरोध प्रदर्शन किया. ये विरोध ऐसे समय में शुरू हुआ है, जब राजस्थान में तीन विधानसभा उपचुनाव के लिए 17 अप्रैल को मतदान है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 13, 2021, 6:37 PM IST
  • Share this:
जयपुर. बीजेपी नेता गुलाबचंद कटारिया की महाराणा प्रताप पर की गई टिप्पणी इतनी भारी पड़ी कि राज्य के कई शहरों में उनके खिलाफ राजपूत संगठनों ने विरोध प्रदर्शन किया. जयपुर में बीजेपी दफ्तर पर कटारिया के पोस्टर पर स्याही पोत दी. कमोबेश कुछ ऐसी ही तस्वीर डूंगरपुर औऱ उदयपुर में रही. कटारिया के खिलाफ राजस्थान के कई शहरों में राजपूत संगठनों ने विरोध प्रदर्शन किया. कटारिया को दो बार माफी मांगी मांगनी पड़ी. फिर बीजेपी को सफाई देनी पड़ी. कांग्रेस इस मुद्दे को तीन विधानसभा उपचुनाव में भुनाने में जुटी है जिससे राजपूत वोट बैंक को बीजेपी के खिलाफ कर सके.

बीजेपी नेता गुलाब चंद कटारिया ने राजसमंद में एक दिन पहले एक चुनावी सभा में भाषण में महाराणा प्रताप के बलिदान का जिक्र किया था. इस दौरान उनकी जुबान फिसल गई.  ये विरोध ऐसे समय में शुरू हुुआ है, जब राजस्थान में तीन विधानसभा उपचुनाव के लिए 17 अप्रैल को मतदान है. इनमें दो सीटे महाराणा प्रताप की शौर्य भूमि मेवाड़ की सहाड़ा और राजसमंद है. राजसमंद में ही प्रसि्द्ध हल्दीघाटी से लेकर प्रताप के कई शौर्य स्थल हैं. मामला इतना गरमा गया कि कटारिया ने एक दफा नहीं दो बार माफी मांगी. राजसमंद में बीजेपी की नैया राजपूत वोट बैंक पर टिकी है.

उधर कांग्रेस ने कटारिया के बयान को प्रताप के अपमान का चुनावी मुद्दा बनाने की कोशिश शुरू कर दी है. कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने आरोप लगाया कि कटारिया ने जानबूझ कर महाराणा प्रताप का अपमान किया. डैमेज कंट्रोल की कोशिश के लिए बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने भी सफाई दी.

गुलाबचंद कटारिया ने हालांकि अपने बयान में प्रताप का त्याग औऱ बलिदान का ही जिक्र किया लेकिन अपनी बात कहने के तरीके 'पागल कुत्ते ने काटा' और 'डूंगर डूंगर रोता फिरा' जैसे शब्द का इस्तेमाल किया. वीडियो वायरल होने पर उन्होंने आनन-फानन में माफी मांग ली. महाराणा प्रताप का नाम मेवाड़ ही नहीं, पूरे देश में आदर से लिया जाता है. महाराणा प्रताप राजस्थान में बीजेपी-कांग्रेस की सियासत के केंद्र बिंदु रहे. कभी पाठ्यक्रम का मसला हो या हल्दीघाटी युद्ध में प्रताप या अकबर की विजय की सवाल हो. बीजेपी महाराणा प्रताप के मुद्दे पर हमेश आक्रमक रही लेकिन पहली बार खुद ही घिर गई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज