लाइव टीवी

हज यात्रा-2020: आवेदकों का रुझान सुस्त, गत 10 बरसों में इस बार सबसे कम आवेदक

Arbaaz Ahmed | News18 Rajasthan
Updated: December 9, 2019, 3:30 PM IST
हज यात्रा-2020: आवेदकों का रुझान सुस्त, गत 10 बरसों में इस बार सबसे कम आवेदक
घटते आवेदक और बढ़ते कोटे की वजह से स्थिति ये है कि हज कमेटी को सोचना पड़ रहा है कि इस साल हज का कुर्रा भी निकाला जाए या नहीं. फाइल फोटो

राजस्थान (Rajasthan) में हज यात्रा-2020 (Haj pilgrimage) के लिए आवेदन करने की आखिरी तारीख दो बार बढ़ाने के बावजूद भी हज के आवेदकों (Applicants) में इजाफा नहीं हुआ है. इस साल हज यात्रा के लिए सबसे कम रुझान (Low trend) देखने को मिल रहा है.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान (Rajasthan) में हज यात्रा-2020 (Haj pilgrimage) के लिए आवेदन करने की आखिरी तारीख दो बार बढ़ाने के बावजूद भी हज के आवेदकों (Applicants) में इजाफा नहीं हुआ है. इस साल हज यात्रा के लिए सबसे कम रुझान (Low trend) देखने को मिल रहा है. पांच साल पहले तक हज के कोटे के मुकाबले आवेदकों की संख्या दो से तीन गुना ज्यादा होती थी. लेकिन इस बार हालात से लग रहा है कि आवेदन पिछले 10 साल में सबसे कम (All time low) रहने वाले हैं.

पहले आवेदन करने वालों का तांता लगता था
एक दौर था जब राजस्थान से हज के लिए आवेदन करने वालों का तांता लगता था. हज के कोटे में इजाफे की मांग जोरों पर हुआ करती थी. लेकिन पांच साल में ही ऐसी तब्दीली आई कि अब हज के लिए आवेदक लगातार कम होते जा रहे हैं. इस साल राजस्थान से अब तक साढ़े सात हजार लोगों ने ही हज यात्रा के लिए आवेदन किया है.

दो बार बढ़ाई जा चुकी है आवेदन की तिथी

हज यात्रा के आवेदन की आखरी तारीख पहले 10 नवंबर तय की गई थी. लेकिन उस समय तक पांच हजार के आसपास ही आवेदन आए थे. इसलिए आवेदन की तिथि बढ़ाकर 5 दिसंबर कर दी गई थी. उसके बाद भी हज आवेदक महज़ सात हजार तक ही पहुंच पाए. उसके बाद फिर हज के आवेदन के लिए आखिरी तारीख को बढ़ाकर 17 दिसंबर कर दिया गया है. लेकिन अभी तक हज आवेदकों की तादाद अब तक के सबसे कम आंकड़ें पर अटकी हुई है.

राजस्थान से घटते हज आवेदक
साल 2015 में कुल आवेदन -16,519साल 2016 में कुल आवेदन -16,893
साल 2017 में कुल आवेदन -17,796
साल 2018 में कुल आवेदन -14,420
साल 2019 में कुल आवेदन -10,812
साल 2020 में कुल आवेदन -7,500 (अब तक)

यह माने जा रहे हैं प्रमुख कारण
हज यात्रा के लिए आवेदकों की घटती संख्या के पीछे कई कारण माने जा रहे हैं. इनमें लगातार महंगी होती हज यात्रा, हज यात्रा से सब्सिडी हटाया जाना और नई हज नीति में लगातार चौथी साल में आवेदकों को प्राथमिकता देने के नियमों की गई तब्दीली से आवेदकों की संख्या लगातर कम हो रही है. हालांकि पिछले कुछ साल के मुकाबले देखा जाए तो साल 2017 में अब तक के सबसे ज्यादा 17,796 आवेदन राजस्थान से आए थे. उसके बाद 2018 में आवेदन में करीब 25 फीसदी गिरावट हुई, जबकि 2019 में 40 फीसदी और गिरावट दर्ज की गई. हज यात्रा-2020 के लिए तो वर्ष 2019 से भी 25 फीसदी कम आवेदन आएं हैं.

इस साल हज का कुर्रा भी निकाला जाएगा या नहीं ?
वहीं दूसरी ओर राजस्थान के हज के कोटे में लगातार इजाफा किया जा रहा है. पिछले साल साढ़े छह हजार से ज्यादा हज यात्रियों ने राजस्थान से हज यात्रा की थी. अब घटते आवेदक और बढ़ते कोटे की वजह से स्थिति ये है कि हज कमेटी को सोचना पड़ रहा है कि इस साल हज का कुर्रा भी निकाला जाए या नहीं.

नाराज पति ने सड़क पर खड़े खड़े पत्नी से कहा, तलाक-तलाक-तलाक और छोड़ दिया

जोधपुर: हाई कोर्ट के नए भवन में शुरू हुई सुनवाई, फरवरी तक हो जाएगा पेपरलेस

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 9, 2019, 3:26 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर