पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा से पहले आधा दर्जन नकल गिरोहों पर पुलिस ने कसा शिकंजा

इस बार पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में नकल जैसी गड़बड़ी को रोकने के लिए राजस्थान पुलिस ने अभूतपूर्व इंतजाम किए हैं.

News18 Rajasthan
Updated: July 14, 2018, 1:59 PM IST
पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा से पहले आधा दर्जन नकल गिरोहों पर पुलिस ने कसा शिकंजा
फोटो: न्यूज18 राजस्थान
News18 Rajasthan
Updated: July 14, 2018, 1:59 PM IST
प्रदेश में विभिन्न प्रतियोगिता परीक्षाओं में नकल कराने वाले कई नकल गिरोह सक्रिय हैं. राजस्थान पुलिस ने कांस्टेबल भर्ती परीक्षा से पहले सतर्कता बरतते हए नकल गिरोह के खिलाफ अभियान छेड़ा तो महज दो-तीन दिन में ही करीब आधा दर्जन नकल गिरोह पुलिस के शिकंजे में आ गए. इस बार पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में नकल जैसी गड़बड़ी को रोकने के लिए राजस्थान पुलिस ने अभूतपूर्व इंतजाम किए हैं.

अभियान के तहत पुलिस ने जोधपुर, जयपुर, भरतपुर, अलवर और सीकर में इन नकल गिरोहों की पहचान कर उन्हें गिरफ्त में ले लिया. इन गिरोहों के पकड़े गए सभी शातिर हाईटेक तरीके नकल करवाने के साथ ही परीक्षा में पास करवाने के नाम पर कई अभ्यर्थियों से लाखों रुपए ऐंठ चुके हैं. पुलिस ने गिरफ्तार आरोपियों से कई मोबाइल और अभ्यर्थियों के दस्तावेज बरामद किए हैं.

अलवर में ओएमआर सीट बदलने का झांसा
अलवर में पकड़ा गया गिरोह कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में ओएमआर सीट बदलने और नकल करवाने के नाम पर ठगी कर रहा था. गिरोह के मुख्य सरगना ओमदत्त शर्मा और उसके दो साथियों भागेन्द्र जाट और मनीष मेघवाल ने वाट्सएप के जरिये 27 अभ्यर्थियों से परीक्षा में पास कराने के नाम पर 5 से 6 लाख रुपये में सौदा तय किया था.

सीकर में पास कराने की गारंटी
सीकर में पकड़े गए गिरोह का सरगना संदीप कुमार अपने नौ साथियों के साथ अभ्यार्थियों को नकल करवाकर पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में चैलेंज से पास कराने की गारंटी ले रहे था. पुलिस ने संदीप और महावीर जाट सहित नौ लोगों को गिरफ्तार किया है. उनके पास सैंकड़ों की संख्या में अभ्यर्थियों के एडमिट कार्ड मिले हैं.

जयपुर में नकल की योजना
जयपुर में एसओजी की गिरफ्त में आया नकल माफिया सरगना अजयराज उर्फ विजेंद्र सिंह पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा में नकल कराने की योजना बनाकर परीक्षार्थियों से पैसे ऐंठ रहा था।.

जोधपुर में सात लाख में पास की गारंटी
जोधपुर में पुलिस के हत्थे चढ़ा गिरोह अभ्यर्थियों से 7 लाख रुपए में सौदा तय करके भर्ती परीक्षा पास कराने की गारंटी ले रहा था. जोधपुर पुलिस ने 11 लोगों को गिरफ्तार किया है. इनमें नकल माफिया और इनामी वांटेड बदमाश जगदीश विश्नोई का भाई भीखाराम जाणी भी शामिल है. वह एक कोचिंग सेंटर चलता है.

भरतपुर में बिना परीक्षा दिए पास कराने का ठेका
भरतपुर पुलिस ने नकल गिरोह के चार दलालों पर शिंकजा कसा. ये दलाल अभ्यर्थियों से बिना परीक्षा दिए पास कराने का झांसा देकर लाखों रुपए की ठग चुके हैं. इनका सरगना जितेंद्र रेलवे में हेल्पर के पद पर कार्यरत है. उसने अपने साथियों के साथ उत्तर प्रदेश पुलिस की भर्ती में भी नवयुवकों को झांसा देकर लाखों रुपए की ठगी की वारदात को अंजाम दिया था.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर