Home /News /rajasthan /

कैबिनेट मंत्री हेमाराम चौधरी बोले, 'सीएम गहलोत ने मुझे दिया सबसे चुनौती वाला विभाग'

कैबिनेट मंत्री हेमाराम चौधरी बोले, 'सीएम गहलोत ने मुझे दिया सबसे चुनौती वाला विभाग'

कैबिनेट मंत्री हेमाराम चौधरी ने कहा कि वैसे तो मुझे अभी विभाग बहुत विस्तार से समझना है और एक-एक योजना का रिव्यू करना है.

कैबिनेट मंत्री हेमाराम चौधरी ने कहा कि वैसे तो मुझे अभी विभाग बहुत विस्तार से समझना है और एक-एक योजना का रिव्यू करना है.

Jaipur news : राजस्थान के मंत्रिमंडल विस्तार में कद्दावर नेताओं को कई अहम जिम्मेदारियां दी गई हैं. पायलट खेमे के सबसे वरिष्ठ नेता हेमाराम चौधरी इस बार मंत्रिमंडल विस्तार में सबसे पहले शपथ लेने वाले कैबिनेट मंत्री थे. हेमाराम चौधरी मंत्रिमंडल विस्तार से लेकर शपथ ग्रहण और पदभार संभालने तक मीडिया से दूर ही रहे, लेकिन पदभार संभालने के बाद न्यूज़ 18 ने उनसे बात की हेमाराम ने अपने दिल की सामने रखी.

अधिक पढ़ें ...

जयपुर. मंत्रिमंडल विस्तार में कैबिनेट मंत्री बने हेमाराम चौधरी ने कहा कि वन विभाग को लोग चुनौती और जिम्मेदारी वाला विभाग ज्यादा मानते हैं. मैं भी इसे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा दी गई एक अहम चुनौती के रूप में देखता हूं, जिस पर मुझे खरा उतरना है. हेमाराम ने कहा कि वन, वन्यजीव, पर्यावरण, जलवायु परिवर्तन और प्रदूषण ऐसी चीजें हैं जो सीधे तौर पर इंसानी जिंदगी और मौत से जुडी हुई हैं.

इस विभाग को कभी गंभीरता से नहीं लिया गया. लेकिन अगले दो साल में इस विभाग के सभी लक्ष्यों को एक चुनौती के रूप में लूंगा और अगले चुनाव से पहले नतीजे लाकर दिखाएंगा. पायलट खेमे के सबसे वरिष्ठ नेता रहे हेमाराम अब खुद वन विभाग के पायलट बने हैं.

हेमाराम ने कहा कि वैसे तो मुझे अभी विभाग बहुत विस्तार से समझना है और एक-एक योजना का रिव्यू करना है. लेकिन एक आम आदमी की हैसियत से जो मोटी-मोटी बात समझ में आती है, उसके मुताबिक जंगल लगतार घट रहे हैं. इसी वजह से हरियाली घट रही है. जंगल घटने की वजह है वो भूमाफिया जो लगातार वन भूमियों को निशाना बना रहा है. लोग छोटे-छोटे लालच की वजह से अपने भविष्य का सौदा कर रहे हैं.

जंगलों में सबसे ज्यादा एक्टिव हैं अवैध खनन माफिया
वन मंत्री ने कहा कि ऐसे ही जंगलों में सबसे ज्यादा एक्टिव हैं अवैध खनन माफिया. जो लंगातार जंगलों से हमारे प्राकृतिक संसाधनों का दोहन कर रहे हैं, उन पर नकेल कसी जाएगी. रणथंभौर जैसे टाइगर रिजर्व में होटल माफिया का प्रकोप है, उसे कंट्रोल किया जाएगा. इस तरह के सभी माफियाओं को खत्म करके किसी भी नये माफिया को पनपने नहीं दिया जाएगा.

माफिया से मिलीभगत पर कोई रियायत नहीं होगी
उन्होंने जोर देकर कहा कि राजस्थान में हरियाली बढ़ानी है तो वन भूमि को बचाना होगा. ऐसे में कम समय में कई अहम काम करने होंगे. खासतौर पर किसी भी तरह के माफिया से अगर वन विभाग के कर्मचारियों और अधिकारियों की मिलीभगत पाई जाती है उसे लेकर बिल्कुल भी रियायत नहीं दी जाएगी. कठोर कार्रवाई अमल में लाई जाएगी. हेमाराम ने कहा कि मैं पहले कई महत्वपूर्ण विभागों में रहा हूं.

अगले दो साल में ही नतीजे लाने का लक्ष्य
उन्होंने कहा कि वन विभाग को भी मैं बहुत ही अहम विभाग मानता हूं. सीधा-सा लक्ष्य तय किया है कि अगले दो साल में नतीजे लाने हैं. अगले दो साल बाद विभाग रुखसत होता हूं तो सब याद रखें कि हेमाराम इस विभाग में बतौर कैबिनेट मंत्री आये थे. हेमाराम ने बताया कि विभाग में सचिव श्रेया गुहा, वरिष्ठ अधिकारी डॉ डीएन पांडे और मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक अरिंदम तोमर से मुलाकात कर कुछ बातचीत हुई है. पहली बैठक जोधपुर जिले की करने बाद वापस जयपुर आउंगा और एक रिव्यु बैठक की जाएगी.

Tags: Ashok gehlot, Ashok Gehlot Vs Sachin Pilot, Rajasthan news, Rajasthan news in hindi, Sachin pilot

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर