अपना शहर चुनें

States

Rajasthan: 4 दिसंबर से फिर शुरू होगी हावड़ा-बाड़मेर-हावड़ा साप्ताहिक सुपरफास्ट स्पेशल ट्रेन

कोविड-19 के खौफ के कारण अभी रेलवे को पूरा यात्री भार नहीं मिल पा रहा है. वर्तमान में रेलवे को महज 20 से 30 प्रतिशत यात्रीभार ही मिल रहा है.
कोविड-19 के खौफ के कारण अभी रेलवे को पूरा यात्री भार नहीं मिल पा रहा है. वर्तमान में रेलवे को महज 20 से 30 प्रतिशत यात्रीभार ही मिल रहा है.

कोरोना काल के बीच रेलवे जल्द ही हावड़ा-बाड़मेर-हावड़ा साप्ताहिक सुपरफास्ट (Howrah-Barmer-Howrah weekly superfast) स्पेशल रेल सेवा का संचालन फिर से शुरू करेगा. इसका संचालन 4 दिसंबर से होगा.

  • Share this:
जयपुर. उत्तर पश्चिम रेलवे (North Western Railway) यात्रियों की सुविधा के लिये जल्द ही हावड़ा-बाड़मेर-हावड़ा साप्ताहिक सुपरफास्ट (Howrah-Barmer-Howrah weekly superfast) स्पेशल रेलसेवा का संचालन फिर से शुरू करेगा. यह रेल सेवा पूरी तरह से आरक्षित (Reserved) होगी. इस रेलसवा में फर्स्ट एसी, सैकेंड एसी, थर्ड एसी, द्वितीय शयनयान, द्वितीय कुर्सीयान, पेट्रीकार व पॉवर कार डिब्बे होंगे. इस ट्रेन का संचालन अगले महीने से फिर शुरू होगा. दिसंबर माह में यह ट्रेन दोनों तरफ से चार-चार ट्रिप करेगी. यह ट्रेन वाया जोधपुर, रतनगढ़, सादुलपुर, रेवाड़ी और दिल्ली चलेगी.

उत्तर पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी सुनील बेनीवाल के अनुसार गाड़ी संख्या-02323 हावड़ा-बाड़मेर साप्ताहिक सुपरफास्ट स्पेशल रेल सेवा 4 दिसंबर से 25 दिसंबर के बची 4 ट्रिप करेगी. यह प्रत्येक शुक्रवार को हावड़ा से शाम को 6.50 बजे रवाना होकर रविवार को सबह 7 बजकर 05 मिनट पर बाड़मेर पहुंचेगी. इसी प्रकार गाड़ी संख्या-02324 बाड़मेर-हावड़ा साप्ताहिक सुपरफास्ट स्पेशल रेल सेवा दिनांक 9 दिसंबर से 30 दिसंबर तक के बीच 4 ट्रिप करेगी. इस अवधि में यह प्रत्येक बुधवार को बाड़मेर से दोपहर 3 बजकर 55 बजे रवाना होकर शुक्रवार को सुबह 5.50 बजे हावड़ा पहुंचेगी.

Rajasthan Weather update: सर्दी ने दिखाने शुरू किये तीखे तेवर, यहां देखें कहां कितना रहा तापमान

यह रहेगा ट्रेन का रूट


यह ट्रेन आसनसोल, धनबाद जंक्शन, कोडरमा, गया जंक्शन, पं. दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन, प्रयागराज जंक्शन, कानपुर सेंट्रल, दिल्ली, रेवाड़ी, सादुलपुर, चूरू, रतनगढ़, सुजानगढ़, लाडनूं, डीडवाना, छोटी खाटू, जोधपुर, समदड़ी और बालोतरा स्टेशनों पर ठहराव करेगी. उल्लेखनीय है कि कोविड-19 के खौफ के कारण अभी रेलवे को पूरा यात्री भार नहीं मिल पा रहा है. वर्तमान में रेलवे को महज 20 से 30 प्रतिशत यात्रीभार ही मिल रहा है. इसके कारण ट्रेनों को रद्द किया जा रहा है. वहीं रेलवे को भी भारी घाटा उठाना पड़ रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज