'राम की नगरी' में महाराणा प्रताप की वीरगाथा! स्थापित होगी 1500 किलो की विशाल प्रतिमा
Jaipur News in Hindi

'राम की नगरी' में महाराणा प्रताप की वीरगाथा! स्थापित होगी 1500 किलो की विशाल प्रतिमा
जयपुर में महाराणा प्रताप की विशाल प्रतिमा का निर्माणकार्य चल रहा है

जयपुर में वीरता के प्रतीक महाराणा प्रताप (Maharana Pratap) की कांस्य प्रतिमा (Bronze Statue) तैयार की जा रही है. जिसे अयोध्या (Ayodhya) ले जाकर स्थापित किया जाएगा.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान के गौरव महाराणा प्रताप (Maharana Pratap) को अब भगवान राम की नगरी अयोध्या (Ayodhya) पहुंचाने की तैयारी की जा रही है. ये जानकर भले ही आप हैरान हो जाएं. लेकिन ये सोलह आने सच है. दरअसल जब- जब इतिहास के पन्नों को पलटा व टटोला जाता है. और बात वीरता की होती है, तो सबसे पहले नाम महाराणा प्रताप का सामने आता है. उन्होंने कभी दुश्मन की पराधिनता स्वीकार नहीं की. यूं तो महाराणा प्रताप राजस्थान के मेवाड़ में जन्मे थे. लेकिन उनकी वीरता के कारण उन्हें किसी प्रांत की परिधि में सीमित नहीं किया जा सकता है. यही वजह है कि अब राजस्थान के उसी गौरव महाराणा प्रताप की एक विशाल प्रतिमा (Statue) भगवान राम की नगरी अयोध्या में स्थापित होने वाली है. खास बात ये है कि इस प्रतिमा को जयपुर में तैयार कराया जा रहा है.

साढ़े 12 फीट की कांस्य की प्रतिमा का निर्माण 

महाराणा प्रताप की साढ़े 12 फीट की कांस्य की प्रतिमा को तैयार कराया जा रहा है. करीब सात माह से ये प्रतिमा तैयार हो रही है. जिसे अगले 10 दिन में पूर्ण रूप से तैयार कर लिया जाएगा. फिलहाल इसके निर्माण का काम अंतिम दौर में है.



इस प्रतिमा को तैयार करने वाले मूर्तिकार महावीर भारती बताते हैं कि अयोध्या के क्षत्रिय समाज के आर्डर पर इसे तैयार किया जा रहा है. प्रतिमा का निर्माणकार्य अंतिम चरण में है. सिर्फ महाराणा प्रताप के हाथ में तलवार, भाला और उनके घोड़े चेतक पर कलंगी और गर्दन पर कपड़ा लगाना बाकी है.
लोस्ट वेक्स प्रोसेस से प्रतिमा को बनाया जा रहा

करीब 1500 किलो की ये प्रतिमा अगले कुछ दिनों में बनकर तैयार हो जाएगा. जिसके बाद जयपुर से अयोध्या ले जाया गया. प्रतिमा को ले जाने में दिक्कत आने पर इसे दो हिस्सों में बांटकर अयोध्या भेजा जा सकता है. उदयपुर के मोती मगरी में सन 1960 में स्थापित महाराणा प्रताप की प्रतिमा को ध्यान में रखकर इसे बनाया जा रहा है. हालांकि उस प्रतिमा से इसमें कुछ बदलाव भी किये गए हैं.

लोस्ट वेक्स प्रोसेस से प्रतिमा को बनाया जा रहा है. पहले इसका क्ले मॉडल बनाया गया. उसके बाद डाई तैयार की गई. डाई के सांचों में वेक्स प्रोसेस किया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading