सख्त हुआ मानवाधिकार आयोग, कहा- क्यों नहीं सम्पूर्ण पुलिस व्यवस्था को दोषी घोषित किया जाए ?

पुलिस के लचर और लापरवाहीपूर्ण रवैये पर राज्य मानवाधिकार आयोग ने सख्त रुख अख्तियार कर लिया है. हत्या के एक प्रकरण में बार-बार नोटिस दिए जाने के बावजूद स्पष्टीकरण नहीं देने से खफा आयोग ने पुलिस के विरुद्ध कड़ी टिप्पणी की है.

Dinesh Sharma | News18 Rajasthan
Updated: July 30, 2019, 1:39 PM IST
सख्त हुआ मानवाधिकार आयोग, कहा- क्यों नहीं सम्पूर्ण पुलिस व्यवस्था को दोषी घोषित किया जाए ?
आयोग अध्यक्ष जस्टिस प्रकाश टाटिया। फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।
Dinesh Sharma | News18 Rajasthan
Updated: July 30, 2019, 1:39 PM IST
पुलिस के लचर और लापरवाहीपूर्ण रवैये पर राज्य मानवाधिकार आयोग ने सख्त रुख अख्तियार कर लिया है. हत्या के एक प्रकरण में बार-बार नोटिस दिए जाने के बावजूद स्पष्टीकरण नहीं देने से खफा आयोग ने पुलिस के विरुद्ध कड़ी टिप्पणी की है. आयोग ने मुख्य सचिव को आदेश की प्रतिलिपि भेजकर पुलिस से स्पष्टीकरण लेने के निर्देश दिए हैं.

विशेष प्रतिवेदन तैयार कर विधानसभा में प्रस्तुत किया जाएगा
मानवाधिकारों से जुड़े विषयों पर संवेदनहीनता दिखाने और आयोग को असहयोग करने पर आयोग अध्यक्ष जस्टिस प्रकाश टाटिया ने टिप्पणी करते हुए सवाल किया है कि क्यों नहीं सम्पूर्ण पुलिस व्यवस्था को दोषी घोषित किया जाए? आयोग ने यह भी कहा कि दोषी अधिकारियों पर क्यों नहीं उचित विभागीय कार्रवाई की अनुशंसा की जाए. आयोग अध्यक्ष जस्टिस प्रकाश टाटिया ने आदेश में तल्ख टिप्पणी करते हुए कहा है कि यदि राज्य सरकार के उच्चाधिकारियों द्वारा आयोग के साथ और अधिक असहयोग किया जाता है तो आयोग गंभीर टिप्पणी कर आदेश पारित करेगा. इसके साथ ही विशेष प्रतिवेदन तैयार कर विधानसभा में प्रस्तुत किया जाएगा.

गुमशुदा व्यक्ति की हत्या से जुड़ा है मामला

मामला एक गुमशुदा व्यक्ति की हत्या से जुड़ा है. प्रकरण में बार-बार पत्रों और नोटिस के बावजूद अधिकारियों ने आयोग को स्पष्टीकरण नहीं दिया है. वे भरतपुर पुलिस अधीक्षक से प्राप्त रिपोर्ट को ही बार-बार बिना हस्ताक्षर के प्रेषित करते रहे हैं.

अलवर में फिर अपहरण कर नाबालिग से किया गैंगरेप

चार साल की बच्‍ची से रेप, आंगन से उठा ले गया था आरोपी
First published: July 30, 2019, 1:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...