VIDEO: परीक्षा में सैकड़ों गुरुजी हो गए फेल, जयपुर में दंड से बचने के लिए गढ़ रहे बहाने

दसवीं और बारहवीं के अपेक्षित परीक्षा परिणाम लाने में फेल रहे तमाम गुरुजी को शिक्षा विभाग ने जयपुर तलब कर लिया है. ये अपनी असफलता को छिपाने के लिए सफाई में तरह-तरह के बहाने गढ़ रहे हैं.

Babulal Dhayal | News18 Rajasthan
Updated: June 10, 2019, 4:14 PM IST
Babulal Dhayal | News18 Rajasthan
Updated: June 10, 2019, 4:14 PM IST
शिक्षा महकमे की परीक्षा में सैकड़ों गुरुजी फेल हो गए हैं. कम परीक्षा परिणाम वाले मास्टरजी की इन दिनों जयपुर के शिक्षा संकुल में क्लास चल रही है. ऐसै गुरुजी अपनी विफलता को छुपाने के लिए तरह- तरह के बहाने गिना रहे हैं मगर महकमा नरम पड़ने का नाम ही नहीं ले रहा. हलोत सरकार ने सरकारी स्कूलों में शिक्षा का स्तर सुधारने के लिए नए नियम कायदे तय किए हैं. स्कूल का कुल परीक्षा परिणाम 65 फीसदी तक होना जरूरी है. अगर इससे कम रिजल्ट रहता है तो प्रिंसिपल के खिलाफ कार्रवाई होती है.

नतीजों में रहे फिसड्डी गुरुजी अब भुगतेंगे सजा

गुरुजी दसवीं और बारहवीं के नतीजों में फेल तमाम गुरुजी को जयपुर तलब कर लिया गया है. अब ये सारे गुरुजी तरह- तरह के बहाने कर बचने के तरीके ढूंढ रहे हैं. हर शिक्षक के लिए सरकार ने अस्सी फीसदी नतीजे देने की अनिवार्यता लागू कर रखी है. इससे नीचे परीक्षा परिणाम देने वाले मास्टरजी पर सरकार कार्रवाई करती है. उन्हें नोटिस दिया जाता है.

रोका जाता है इंक्रीमेंट, भेजा जाता है दूर 

तनख्वाह में होने वाली बढ़ोत्तरी रोक दी जाती है. इंक्रीमेंट का लाभ नहीं दिया जाता. ऐसे टीचर अगर अपने घर के पास के ही स्कूल में तैनात हैं तो उन्हें दूर भेजा जाता है. ताकि वो पढ़ाई-लिखाई के प्रति समर्पणभाव दिखा सके. राज्य सरकार न्यून परिणाम वाले स्कूल और उनमें कार्यरत शिक्षिकों की परफोरमेंस की पड़ताल कर रही है. शिक्षकों की सफाई और उनकी ओर से दिए गए तर्कों का बारीकी से विश्लेषण हो रहा है.
ये भी पढ़ें-
राजस्थान आठवीं बोर्ड परीक्षा का परिणाम घोषित, अजमेर से हुआ जारी

VIDEO: खराब रिजल्‍ट से नाराज ग्रामीणों ने स्‍कूल में जड़ा ताला

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...