राजस्थान: जयपुर में आईएलआई मरीजों का घर-घर होगा सर्वे, प्रशासन ने तैयार किया एक्शन प्लान

नेहरा ने कहा की हर टीम के पास ऑक्सीजन स्तर जांचने के लिए पल्स ऑक्सी मीटर एवं तापमान की जांच के लिए टेम्परेचर मॉनिटर होने चाहिए.

नेहरा ने कहा की हर टीम के पास ऑक्सीजन स्तर जांचने के लिए पल्स ऑक्सी मीटर एवं तापमान की जांच के लिए टेम्परेचर मॉनिटर होने चाहिए.

Influenza Like Illness : जयपुर जिला कलेक्टर अंतर सिंह नेहरा ने स्वास्थ्य विभाग को निर्देश दिये हैं कि राजधानी में आईएलआई मरीजों का पता लगाने के लिये घर-घर सर्वे किया जाये. उन्होंने सर्वे 15 दिन में पूरा करने के निर्देश दिये हैं.

  • Share this:
जयपुर. कोरोना संक्रमण से जूझ रही राजधानी जयपुर (Jaipur) में आईएलआई मरीजों  का पता लगाने के लिये अब घर-घर सर्वे किया जायेगा. यह अभियान 15 दिन तक चलेगा. जिला कलेक्टर अंतर सिंह नेहरा ने मंगलवार को मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों की बैठक लेकर उन्हें घर-घर इन्फ्लूएंजा लाइक इलनेस (Influenza Like Illness) के मरीजों का पता लगाने का काम अगले 15 दिवस में पूरा करने के निर्देश दिये हैं.

जिला कलेक्टर नेहरा ने इसके साथ ही हेल्पलाइन पर आने वाले प्रकरणों पर भी त्वरित कारवाई करने के निर्देश दिए हैं. नेहरा ने कहा कि जो भी प्रकरण 181 पर प्राप्त होते हैं उन्हें उसी दिन निस्तारित किया जाना सुनिश्चित किया जाए. हेल्पलाइन पर आने वाले हर कॉल का पूरी संवेदनशीलता से जवाब दिया जाए.

v
Youtube Video


होम आईसोलेशन के प्रकरण भी प्राथमिकता से निपटायें
नेहरा ने कहा कि होम आईसोलेशन के संबंध में हर प्रकरण को प्राथमिकता से निस्तारित किया जाये. संबंधित व्यक्ति के साथ कॉलबैक कर बात की जाए. उनके यहां टीम भेजकर आवश्यकतानुसार दवाएं भेजी जाए. उन्होंने जयपुर शहर में घर-घर इन्फ्लूएंजा लाइक इलनेस के मरीजों के सर्वे के लिए हर डिस्पेंसरी पर 5-5 कर्मचारियों की टीम लगाकर 15 दिन में सर्वे पूरा करने के निर्देश दिए हैं. नेहरा ने कहा की हर टीम के पास ऑक्सीजन स्तर जांचने के लिए पल्स ऑक्सी मीटर एवं तापमान की जांच के लिए टेम्परेचर मॉनिटर होने चाहिए.

नर्सिंगकर्मियों को भी टीम में शामिल किया जाये

कलेक्टर ने निर्देश दिये कि विशेष रूप से तैयार किये गए आवश्यक दवाओं के मेडिकल किट भी टीम के पास होने चाहिये जो कि आईएलआई के लक्षणों वाले मरीजों को उन्हें उपयोग लेने की जानकारी के साथ उपलब्ध कराये जायें. उन्होंने टीम में बीएलओ और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के साथ आवश्यकता के अनुसार नर्सिंगकर्मियों को भी शामिल करने के लिये कहा है. बैठक में अतिरिक्त जिला कलेक्टर उत्तर बीरबल सिंह, मुख्य चिकित्सा एवं स्वस्थ अधिकारी प्रथम नरोत्तम शर्मा और द्वितीय हंसराज समेत अन्य अधिकारी शामिल थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज