अपना शहर चुनें

States

Rajasthan News: आयकर का सबसे बड़ा छापा! तहखाने में छिपाई थी 1400 करोड़ की संपत्ति

एक कमरे में एक दीवार के आगे दूसरी दीवार खड़ी की गई थी. दोनों दीवारों के बीच के भाग को खोदकर उसे गहरा किया हुआ था. उसके बाद उसमें काले धन की गवाही देने वाले डिजिटल डेटा को छिपाया हुआ था.
एक कमरे में एक दीवार के आगे दूसरी दीवार खड़ी की गई थी. दोनों दीवारों के बीच के भाग को खोदकर उसे गहरा किया हुआ था. उसके बाद उसमें काले धन की गवाही देने वाले डिजिटल डेटा को छिपाया हुआ था.

IT Raid-Survey: राजस्थान के 3 कारोबारी समूहों के ठिकानों पर 4 दिनों से चल रही आयकर विभाग की कार्रवाई में कई चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं. इनमें जेम्स एंड ज्वेलरी के कारोबारी के घर में एक सुरंग (Tunnel) मिली है. उसमें डिजिटल डेटा छिपाया गया था.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान में पिछले चार दिन से अलग-अलग जगहों पर आयकर विभाग के छापों से बड़े खुलासे हो रहे हैं. प्रदेश के तीन कारोबारी समूहों (Business groups) के विभिन्न ठिकानों पर चल रही आयकर छापों और सर्वे (Income tax raid and surveys) की कार्रवाई में कई चौंकाने वाली जानकारी सामने आ रही है. आयकर विभाग की करीब 40 टीमों में शामिल 200 अधिकारी और कर्मचारी इन छापों के दौरान खोद-खोदकर काला धन निकालने में जुटे हैं. 19 जनवरी को तड़के 4 बजे शुरू हुई इस कार्रवाई में अब तक करीब 1400 करोड़ रुपये की अघोषित संपत्ति का खुलासा हो चुका है. केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड अनुसार इनमें दो बिल्डर और एक ज्वेलर शामिल हैं.

इन कारोबारियों के कुल 31 ठिकानों कार्रवाई की जा रही है. इनमें 20 ठिकानों पर रेड डाली गई है और 11 ठिकानों पर सर्वे की कार्रवाई की जा रही है. इनमें काला धन मिलने के दौरान सबसे चौंकाने वाला खुलासा ज्वेलरी कारोबारी के यहां हुआ है. इस कारोबारी के घर में एक सुरंग मिली है. उसमें इसने अपने काले धन से जुड़े डिजिटल डेटा को छिपा रखा था. इसके लिये एक कमरे में एक दीवार के आगे दूसरी दीवार खड़ी की गई थी. दोनों दीवारों के बीच के भाग को खोदकर गहरा कर दिया था. उसके बाद उसमें काले धन की गवाही देने वाले डिजिटल डेटा को छिपाया हुआ था.

राजस्थान: आयकर छापों में 1400 करोड़ रुपए की Black money का खुलासा, 3 कारोबारी समूहों के ठिकानों पर कार्रवाई



बेशकीमती प्रैशियस और सैमी प्रैशियस स्टोन
ज्वैलर के ठिकानों पर छापे की कार्रवाई में भारी मात्रा में बेशकीमती प्रैशियस और सैमी प्रैशियस स्टोन्स, सोने-चांदी की ज्वैलरी , एंटिक आभूषण, हस्तशिल्प, कालीन और कपड़ों का बड़ा भंडार मिला है. इस कारोबारी के घर में बनी गुफा में पिछले छह साल में किए सोने और चांदी के आभूषणों के बेहिसाब निर्माण और विक्रय का काला चिठ्ठा मिला है. जबकि गुफा के अंदर ही 15 करोड़ रुपये से ज्यादा की बेनामी संपत्ति से संबंधित दस्तावेज भी जब्त किए गए हैं. हैरानी की बात ये है की इस कारोबारी द्वारा न तो आयकर रिटर्न में ये इनकम और कारोबार को दर्शाया गया है और न ही बही-खातों में इनका इंद्राज किया गया है.

सीक्रट कोड्स को डीकोड करने में लगी टीम
ज्वैलर के घर स्थित गुफा में मिले दस्तावेजों में अल्फा-न्यूमेरिक सीक्रेट कोड के भारी पैमाने पर दस्तावेज मिले हैं. इन सीक्रेट कोड में ही कारोबारी के प्रत्येक आइटम की वास्तविक बिक्री की कीमत छुपी हुई है. आयकर विभाग की टीमें इन सीक्रेट कोड्स को डीकोड करने में जुटी हुई हैं. गुप्त गुफा से दो हार्ड-डिस्क और कई पेन-ड्राइव भी जब्त किए गए हैं. आयकर अधिकारी आईटी एक्सपर्ट से हार्ड डिस्क और पेन ड्राइव के डेटा की डिटेल को निकलवा रहे हैं. इस कारोबारी समूह के ठिकानों से मिले दस्तावेजों में विदेशी यात्रियों को बड़ी कीमतों पर बेची गई ज्वैलरी का खुलासा हुआ है. वहीं नियम विरुद्ध 122 करोड़ रुपये का नकद लोन लेने के दस्तावेज भी जब्त किए गए हैं. समूह से ठिकानों से अब तक 525 करोड़ रुपये की अघोषित संपत्ति के दस्तावेज जब्त किए जा चुके हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज