लाइव टीवी
Elec-widget

प्रभारी मंत्रियों की बढ़ाई जिम्मेदारी, अब हर 15 दिन में करनी होगी जनसुनवाई

Goverdhan Chaudhary | News18 Rajasthan
Updated: December 1, 2019, 6:22 PM IST
प्रभारी मंत्रियों की बढ़ाई जिम्मेदारी, अब हर 15 दिन में करनी होगी जनसुनवाई
मंत्रियों को नियमित रूप से जिलों के दौरे करने के साथ साथ लगातार जनता के संपर्क में रहने की हिदायत भी दी गई है.

प्रभारी मंत्रियों (Ministers in charge) की जिम्मेदारी अब और बढ़ा दी गई है. प्रभारी मंत्रियों को अब हर 15 दिन में जिलों में जाकर में जनसुनवाई (Public Hearing) कर जनता की समस्याओं का समाधान करना होगा.

  • Share this:
जयपुर. प्रभारी मंत्रियों (Ministers in charge) की जिम्मेदारी अब और बढ़ा दी गई है. प्रभारी मंत्रियों को अब हर 15 दिन में जिलों में जाकर में जनसुनवाई (Public Hearing) कर जनता की समस्याओं का समाधान करना होगा. कांग्रेस के जन घोषणा-पत्र (Public manifesto) में किए गए वादों को पूरा करने के लिए अब विभागवार मॉनिटरिंग और बैठकें होगी. ये फैसले रविवार को राजधानी जयपुर में सीएम अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) के आवास पर आयोजित मंत्रिपरिषद की बैठक (Council of Ministers meeting) में किए गए. बैठक में कई राजनीतिक और गुड गवर्नेंस से जुड़े मुद्दों पर चर्चा और फैसले हुए.

आमजन को ज्यादा से ज्यादा राहत दें
सीएम अशोक गहलोत की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में तय किया गया कि सरकार की पहली वर्षगांठ पर एक साल की उपलब्धियों को जनता तक पहुंचाने के लिए सरकार और संगठन मिलकर काम करेंगे. प्रभारी मंत्रियों को 15 दिन में अपने प्रभार वाले जिले में जिला मुख्यालय या अन्य किसी उपयुक्त स्थान पर जनसुनवाई करनी होगी ताकि आमजन को ज्यादा से ज्यादा राहत मिल सके.

इन अहम मुद्दों पर हुई चर्चा

मंत्रिपरिषद की बैठक​ में गांधीजी की 150वीं जयंती और राजीव गांधी की 75वीं जयंती के कार्यक्रमों, पंचायत चुनाव के बाद चलाए जाने जाने वाले 'प्रशासन शहरों के संग' और 'प्रशासन गांवों के संग' अभियानों समेत सात अहम मुद्दों पर विस्तापूर्वक चर्चा की गई. इसके साथ ही मंत्रियों को जिला स्तर की राजनीतिक नियुक्तियों के लिए जल्द रिपोर्ट देने को कहा गया है. वहीं मंत्रियों को नियमित रूप से जिलों के दौरे करने के साथ साथ लगातार जनता के संपर्क में रहने की  हिदायत भी दी गई है.

बैठक में ये मंत्री नहीं हो पाए शामिल
मंत्रिपरिषद की इस बैठक में डिप्टी सीएम सचिन पायलट सहित करीब 20 मंत्री मौजूद रहे. वहीं मंत्री विश्वेंद्र सिंह, हरीश चौधरी, अर्जुन बामणिया और मास्टर भंवरलाल मेघवाल जयपुर से बाहर होने के कारण बैठक में शामिल नहीं हो पाए. इस बैठक के बाद सीएमआर में ही सत्ता-संगठन की साझा बैठक आयोजित हुई. इस बैठक में आगामी 14 दिसंबर को दिल्ली में होने वाली रैली की कार्ययोजना पर चर्चा की गई.
Loading...

कांग्रेस की दिल्ली रैली की तैयारी, राजस्थान से 50 हजार की भीड़ जुटाने का लक्ष्य

रणथम्भौर: बाघिन सुल्ताना जब पर्यटकों के पीछे दौड़ी तो उड़े होश, देखें वीडियो

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 1, 2019, 6:19 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...