• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • JAIPUR INSECTS FOUND IN VEGETABLE OF INDIRA RASOI YOJANA UPROAR MAYOR REACHED RJSR

Rajasthan News: गहलोत सरकार की इंदिरा रसोई योजना की सब्जी में मिले कीड़े, हंगामा मचा तो पहुंचीं मेयर

हंगामा होने पर मेयर सौम्या गुर्जर मौके पर पहुंची और खाने की जांच की तो कीड़े मिलने की शिकायत सही पाई गई.

Insects found in vegetable of Indira Rasoi Yojana: गहलोत सरकार की इंदिरा रसोई योजना में गड़बड़ी का बड़ा मामला सामने आया है. राजधानी जयपुर में इस योजना के तहत बने खाने में एक जगह सब्जी में कीड़े मिले हैं.

  • Share this:
जयपुर. जरूरतमंदों को सस्ते में भोजन मुहैया करवाने के उद्देश्य से शुरू की गई गहलोत सरकार की महत्वाकांक्षी इंदिरा रसोई योजना (Indira Rasoi Yojana) पर उसके वेंडर और लालफीताशाही ही पलीता लगाते नजर आ रहे हैं. ताजा मामला जयपुर के अपेक्स सर्किल के पास संचालित होने वाली इंदिरा रसोई का है. यहां इंदिरा रसोई के भोजन में कीड़े (Insects) मिले हैं.

इलाके के पार्षद गोविन्द छीपा की शिकायत पर ग्रेटर नगर निगम मेयर सौम्या गुर्जर मौके पर पहुंची और शिकायत सही मिलने पर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई का दावा किया है. अपेक्स सर्किल स्थित इंदिरा रसोई की सब्जी में गुरुवार को कीड़े निकले. भोजन करने पहुंचे लोगों ने इसकी सूचना पार्षद गोविन्द छीपा को दी. इस पर वे मौके पर पहुंचे और भोजन को देखने के बाद उन्होंने इसकी शिकायत मेयर सौम्या गुर्जर से की.

साफ पानी में रखकर देखा गया और पिक्चर क्लियर हो गई
कुछ देर बाद मेयर सौम्या भी वहां पहुंची और उन्होंने खाने को देखा. सब्जी में कीड़े दिखे तो एक बार तो सबको लगा कि ये सब्जी में डाला जाने वाला जीरा या राई हैं. लेकिन, बाद में उन्हें निकालकर साफ पानी में रखकर देखा गया तो स्पष्ट हो गया कि ये कीड़े हैं. इससे वहां मौजूद सभी लोग खासे आक्रोशित नजर आए.

मेयर ने दिया सख्‍त कार्रवाई का भरोसा
ग्रेटर नगर निगम की मेयर सौम्या गुर्जर ने इस घटना पर नाराजगी जाहिर की और कहा कि सब्जी में कीड़े मिलने की शिकायत आई हैं. पूरे खाने को फेंकने के लिए कहा गया है. इसके जिम्मेदार दोषियों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी.

सरकार का महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट है इंदिरा रसोई
आपको बता दें कि इंदिरा रसोई योजना राज्य सरकार का महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट हैं. इसमें जरुरतमंद को 8 रुपए में भरपेट भोजन उपलब्ध कराया जा जाता है. स्वायत्त शासन विभाग के निर्देशन में नगरीय निकाय इस योजना को संचालित करते हैं.