• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • Inside Story: राजस्थान कांग्रेस के लिये क्यों अहम है माकन की विधायकों से वन-टू-वन मुलाकात

Inside Story: राजस्थान कांग्रेस के लिये क्यों अहम है माकन की विधायकों से वन-टू-वन मुलाकात

जयपुर पहुंचने के बाद कांग्रेस प्रभारी अजय माकन ने पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा के साथ करीब एक घंटे तक विधायकों के वन-टू-वन मुलाकात कार्यक्रम पर विस्तार से चर्चा की.

जयपुर पहुंचने के बाद कांग्रेस प्रभारी अजय माकन ने पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा के साथ करीब एक घंटे तक विधायकों के वन-टू-वन मुलाकात कार्यक्रम पर विस्तार से चर्चा की.

Rajasthan congress politics: राजस्थान कांग्रेस प्रभारी अजय माकन की विधायकों से वन-टू-वन होने वाली मुलाकात से प्रदेश का सियासी पारा गरमाया हुआ है. माकन विधायकों से गहलोत सरकार (Gehlot Government) का पूरा फीडबैक लेंगे. उसके बाद यह रिपोर्ट राहुल गांधी को सौंपी जायेगी.

  • Share this:
जयपुर. गहलोत मंत्रिमंडल के प्रस्तावित विस्तार और फेरबदल (Gehlot cabinet expansion) को लेकर विधायकों से रायशुमारी करने के लिये राजस्थान कांग्रेस प्रभारी अजय माकन (Ajay Maken) ने जयपुर में डेरा डाल दिया है. वे आज और कल गहलोत तथा पायलट खेमों के विधायकों के साथ ही सरकार समर्थित 13 विधायकों से भी वन-टू-वन मुलाकात कर पूरा फीडबैक लेंगे. वे विधायकों से मंत्रियों और अधिकारियों के काम को लेकर फीडबैक लेंगे. माकन फीडबैक की पूरी रिपोर्ट तैयार कर राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को सौंपेगे. मंत्रिमडंल फेरबदल में ये फीडबैक रिपोर्ट अहम होगी. विधायकों से मुलाकात के दौरान निगम बोर्डों में नियुक्ति को लेकर नाम पूछे जायेंगे. वहीं जिलाअध्यक्षों की नियुक्ति के लिए भी विधायकों की राय लेंगे.

बताया जा रहा है कि राजनीतिक और जिलाध्यक्षों की नियुक्तियों में ये रायशुमारी बड़ा आधार होगी. इस पूरी कसरत के दो मकसद हैं. पहला कांग्रेस में नीचे तक ये संदेश देना कि पार्टी हाईकमान सर्वोपरि है. हाईकमान की नजर सब पर है. काम करने वालों को पुरस्कृत किया जाएगा और नोन परफोर्मर को ड्रोप. इसका दूसरा मकसद गहलोत बनाम पायलट की गुटबाजी पर लगाम लगाने और पार्टी के विधायकों, नेताओं और कार्यकर्ताओं में ये संदेश देना है कि फैसले लेने वाली सत्ता दोनों से ऊपर है.

मंत्रियों में मची हुई है खलबली
राजस्थान में गहलोत मंत्रिमंडल में फेरबदल की चर्चा के साथ मंत्रियों में खलबली मची हुई है. कई मंत्रियों को पद से हटाये जाने का डर सता रहा है. इस बीच सचिन पायलट मंगलवार को दिल्ली गये हैं. माना जा रहा है कि पायलट वहां शीर्ष नेताओं से मिलेंगे. बताया जा रहा है कि संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल मंगलवार को दिल्ली में राहुल गांधी से मिले दिल्ली और राजस्थान के मसले पर चर्चा की. इस बीच में जिन मंत्रियों को हटाए जाने की चर्चा है उनमें से एक भंवरसिंह भाटी ने सफाई दी कि उनका भरोसा पार्टी हाईकमान पर है. उन्हें जो ठीक लगेगा वो करेंगे.

विधायक हेमाराम चौधरी का नाम भी है चर्चा में
हालांकि शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटसरा खुद के हटाए जाने की चर्चा पर तो बात करने को तैयार नहीं हुए. लेकिन अजय माकन के विधायकों से मुलाकात के कार्यक्रम की जानकारी दी. प्रस्तावित फेरबदल में जिन विधायकों को मंत्री बनाया जा सकता है उनमें एक नाम बाड़मेर के गुढ़ामलानी से विधायक हेमाराम चौधरी का भी है. चौधरी ने कहा कि मैं अजय माकन से मुलाकात करने जयपुर आया हूं.

विधायक पद से इस्तीफा दे चुके हैं हेमाराम
हेमाराम गहलोत से नाराजगी के चलते विधायक पद से इस्तीफा दे चुके हैं. लेकिन हेमाराम का इस्तीफा अभी तक विधानसभा अध्यक्ष ने मंजूर नहीं किया गया है. उन्हें मनाने की लगातार कोशिश की जा रही है. अब हेमाराम को मंत्री बनाया जाना लगभग तय बताया जा रहा है. हेमाराम आठवीं बार विधायक व कई दफा मंत्री रह चुके हैं. हेमाराम को मंत्री बनया तो राजस्व मंत्री हरीश चौधरी की छुट्टी हो सकती है. हरीश चौधरी भी बाड़मेर से हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज