जयपुर एयरपोर्ट की सुरक्षा को लेकर CISF की बढ़ी चिंता, ये है वजह

जयपुर एयरपोर्ट सिक्योरिटी ज़ोन में इसे हाईपर सेंसेटिव एयरपोर्ट की श्रेणी में रखा गया है. लेकिन आजकल CISF कुछ अखबारों में आ रहे विज्ञापनों को देखकर चिंतित है.

Asif Khan | News18 Rajasthan
Updated: May 9, 2019, 1:19 PM IST
Asif Khan | News18 Rajasthan
Updated: May 9, 2019, 1:19 PM IST
जयपुर इंटरनेशनल एयरपोर्ट देश के 6 सबसे ज्यादा संवेदनशील एयरपोर्ट में शुमार है. एयरपोर्ट सिक्योरिटी ज़ोन में इसे हाईपर सेंसेटिव एयरपोर्ट की श्रेणी में रखा गया है. लिहाजा इसकी सुरक्षा के लिए सीआईएसएफ 24 घंटे मुस्तैद रहती है. यही वजह है कि जयपुर एयरपोर्ट पर CISF की नज़र से बचकर कुछ भी प्रतिबंधित सामान लाना या ले जाना लगभग नामुमकिन है. लेकिन आजकल CISF कुछ अखबारों में आ रहे विज्ञापनों को देखकर चिंतित है. दरअसल, एयरपोर्ट के आसपास कई बहुमंजिला निर्माणाधीन इमारत हैं, जिनका काम एयरपोर्ट की संवेदनशीलता को देखते हुए रोक दिया गया था. लेकिन अब अखबारों में बिल्डर इन इमारतों में फ्लैट बेचने के विज्ञापन निकाल रहे हैं. इन्ही विज्ञापनों को देखकर CISF फिर से चिंता में है.

ये इमारतें रन-वे के बहुत नज़दीक हैं. ऐसे में अगर बंद पड़ी इन इमारतों में लोग रहने के लिए आते हैं और फ्लैट बिकने शुरू हो गए तो CISF को डर है कि इसका इस्तेमाल असामाजित तत्व भी कर सकते हैं. इसलिए अब CISF आईबी और राज्य सरकार के पास फिर से गुहार लगाने जा रही है कि इन बहुमंजिला इमारतों को एयरपोर्ट के आस पास ना पनपने दिया जाए.



हालांकि, जब इन इमारतों का निर्माण शुरू हुआ था, तो राज्य सरकार ने पुलिस की रिपोर्ट के बाद इका निर्माण रूकवा दिया था. कुछ इमारतों का मामला कोर्ट में भी लंबित है. लेकिन अब अखबारों में आ रहे विज्ञापन CISF और एयरपोर्ट अथोरिटी के लिए परेशानी का सबब बन गए है. CISF ने राजस्थान पुलिस और सरकार को चिठ्ठी लिखकर इस खतरे से अवगत करवा दिया है.

ये भी पढ़ें-अलवर गैंग रेप: मोबाइल में न रखें वायरल वीडियो, जाना पड़ सकता है जेल

ये भी पढ़ें-सिरोही के दिलीप पटेल ने रचा इतिहास, एवरेस्ट फर्स्ट व काला पत्थर हिल पर फहराया झंडा
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...