जयपुर ब्लास्ट पीड़ित की बिटिया की शादी करवाएगा हिंदू परिवार, शानों शौकत से होगा निकाह
Jaipur News in Hindi

जयपुर ब्लास्ट पीड़ित की बिटिया की शादी करवाएगा हिंदू परिवार, शानों शौकत से होगा निकाह
जयपुर ब्लास्ट के पीड़ित के बेटी की शादी 19 जुलाई को होगी.

13 मई 2008 को राजस्थान (Rajasthan) के जयपुर बम ब्लास्ट (Jaipur Bomb Blast) का शिकार हुए हनीफ खान की बेटी की शादी समाज सेवी रवि नैयर कराएंगे.

  • Share this:
जयपुर. 13 मई 2008 को राजस्थान (Rajasthan)  के जयपुर बम ब्लास्ट (Jaipur Bomb Blast) का शिकार हुए हनीफ खान की बेटी की शादी समाज सेवी रवि नैयर कराएंगे. 19 जुलाई को हनीफ खान की बेटी नेहा की शादी दिल्ली रोड स्थित होटल रोशन हवेली में पूरी शानों शौकत के साथ होगी और शादी का पूरा खर्च रवि नैयर उठाएंगे. रवि नैय्यर इससे पहले जयपुर बम धमाकों के पीड़ित परिवार में 7 बेटियों की शादी करवा चुके हैं. ये आठवीं शादी वे करवा रहे हैं. ताकि समाज आपसी भाईचारे और कौमी एकता का संदेश दिया जा सके. इस नेक काम मे रवि नैयर का साथ कई समाज सेवी दे रहे हैं.

नेहा अंजुम के पिता हनीफ खान के जाने के बाद सारी जिम्मेदारी नेहा की मां मुबीना पर आ गयी थी. प्रदेश की राजधानी पिंकसिटी जयपुर में 19 जुलाई को गंगा-जमुनी तहजीब की एक मिसाल देखने को मिलेगी. 19 जुलाई को जयपुर की बेटी नेहा अंजुम की शादी होगी और यह शादी एक हिंदू समाज सेवियों की ओर से कराई जा रही है. हनीफ खान के तीन बच्चे थे और तीनों बच्चों की परवरिश की जिम्मेदारी हनीफ खान की मौत के बाद पत्नी मुबीना पर आ गई थी. हनीफ खान की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी, वे बिस्कुट फैक्ट्री में काम करते थे. 13 मई 2008 को सांगानेरी गेट पर एक दुकान पर बिस्कुट देने आए थे, बम धमाकों की वजह से कभी घर न लौट सके.
ये भी पढ़ें: हॉर्स ट्रेडिंग केस: SOG ने दो खान व्यवसायियों को किया गिरफ्तार, सरकार गिराने की थी साजिश! 
इस शादी को भी बनाएंगे मिसाल
इससे पहले भी बम धमाकों में मारे गए लोगों की 7 बेटियों की शादी रवि नैयर और उनके साथी समाजसेवियों ने करवा दी है. रवि नैय्यर कहते हैं कि 19 जुलाई को होने वाली नेहा अंजुम की शादी भी गंगा-जमुनी तहजीब की एक मिसाल होगी और भाईचारे का पैगाम देगी. बम धमाकों में मारे गए लोगों की बेटियों की यह आठवीं शादी होगी. नेहा अंजुम की शादी चार दरवाजा निवासी मोहसिन के साथ हो रही है. रवि नैयर ने बताया की जब जयपुर में बम धमाके हुए तो मारे गए लोगों की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी, उन पर उस वक्त जैसे मुसीबतों का पहाड़ टूट पड़ा था. उस समय समाज सेवियों इस टीम ने मारे गए लोगों के बच्चों की शादी करने की ठानी, ताकि मारे गए लोगों के परिजनों को ऐसा लगे कि कोई उनके साथ खड़ा है। रवि नैय्यर ने कहा कि 7 बच्चियों की शादी कैसे हुई उन्हें नहीं पता, यह सब ईश्वर ने किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज