जयपुर: 2 नगर निगम बनाने को चुनौती, हाई कोर्ट में हुई सुनवाई, आयोग नहीं पेश कर पाया जवाब
Jaipur News in Hindi

जयपुर: 2 नगर निगम बनाने को चुनौती, हाई कोर्ट में हुई सुनवाई, आयोग नहीं पेश कर पाया जवाब
आयोग के अधिवक्ता आरबी माथुर ने कोर्ट से जवाब पेश करने के लिए ओर समय मांगा है. फोटो : न्यूज 18 राजस्थान

जयपुर नगर निगम ( Jaipur Municipal Corporation) को दो भागों में बांटकर दो नए नगर निगम बनाने के मामले में शुक्रवार को हाई कोर्ट (High Court) में सुनवाई हुई. राज्य निर्वाचन आयोग इस मामले में शुक्रवार को जवाब पेश नहीं कर सका.

  • Share this:
जयपुर. नगर निगम (Municipal Corporation) को दो भागों में बांटकर दो नए नगर निगम बनाने के मामले में शुक्रवार को हाई कोर्ट (High Court) में सुनवाई हुई. दी बार एसोसिएशन जयपुर (The Bar Association Jaipur) के महासचिव अधिवक्ता सतीश कुमार शर्मा ने कोर्ट में याचिका दायर (Petition filed) करके इस पूरी प्रक्रिया को चुनौती (Challenge) दी है. पिछली सुनवाई में कोर्ट ने राज्य सरकार (State government) और राज्य निर्वाचन आयोग (State election commission) को नोटिस जारी करके पूरे मामले में जवाब मांगा था. लेकिन राज्य निर्वाचन आयोग इस मामले में शुक्रवार को जवाब पेश नहीं कर सका.

अब 19 नवंबर को होगी अगली सुनवाई
आयोग के अधिवक्ता आरबी माथुर ने कोर्ट से जवाब पेश करने के लिए ओर समय मांगा. इस पर कोर्ट ने समय देते हुए सुनवाई की अगली तिथि 19 नवंबर तय की है. इससे पहले याचिकाकर्ता की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता आरडी रस्तोगी ने कोर्ट को बताया कि सरकार ने 18 अक्टूबर को एक आदेश जारी करके जयपुर नगर-निगम को जयपुर ग्रेटर और जयपुर हैरिटेज नाम से दो भागों में विभक्त कर दिया है.

संविधान के अनुच्छेद 243-यू का उल्लंघन बताया
बकौल रस्तोगी यह संविधान के अनुच्छेद 243-यू का उल्लंघन है. क्योंकि संविधान का अनुच्छेद 243-यू के अनुसार निकाय चुनाव किसी भी दशा में उसके गठन के 5 साल तक ही वैध रहते हैं. ऐसे में जयपुर नगर निगम का वर्तमान कार्यकाल 25 नवंबर को खत्म हो रहा है. इस अवधि को किसी भी रूप में बढ़ाया नहीं जा सकता है. उन्होंने कहा कि सरकार जानबूझकर जयपुर, जोधपुर और कोटा के चुनाव टाल रही है.



आज से ही शुरू हो रहा है वार्डों के पुनः सीमांकन का कार्य
उल्लेखनीय है कि हाल ही में राज्य सरकार ने जयपुर, जोधपुर और कोटा नगर निगमों को दो-दो भागों में बांट दिया है. अब तीनों जगहों पर 2-2 नगर निगम हो गए हैं. इन तीनों निगमों के वार्डों के पुनः सीमांकन एवं पुर्नगठन का कार्य भी शुक्रवार से ही शुरू हो रहा है. इसके लिए स्वायत्त शासन विभाग की ओर से जारी निर्देशों में कहा गया है कि वार्ड निर्धारित सीटों के अनुरूप होंगे.

पाकिस्तान की सीमा के पास सेना का बड़ा युद्धाभ्यास, रणबांकुरे दिखा रहे रण कौशल

BJP प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया की बढ़ाई जाएगी सुरक्षा ! 3 PSO देने पर विचार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading