जयपुर: बैन के बावजूद भी लोगों ने जमकर की आतिशबाजी, रॉकेट गिरने से होटल में लगी आग

राजस्थान में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार ने पूरे प्रदेश में आतिशबाजी और पटाखे की बिक्री पर रोक लगा रखी है.
राजस्थान में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार ने पूरे प्रदेश में आतिशबाजी और पटाखे की बिक्री पर रोक लगा रखी है.

नगर निगम जयपुर (Municipal Corporation Jaipur) के सहायक अग्निशमन अधिकारी छोटू राम ने बताया ​कि रात करीब सावा 11 बजे कंट्रोल रूम पर वैशाली के होटल सरोवर में आग की सूचना मिली.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 16, 2020, 3:26 PM IST
  • Share this:
जयपुर. राजस्थान की राजधानी जयपुर (Jaipur) में आतिशबाजी (Fireworks) पर बैन लगने के बाद भी लोगों दिवाली पर जमकर पटाखे फोड़े. शहर के कई जगह लोगों ने रोक के बावजूद देर रात तक पटाखे जलाए. इस दौरान वैशाली नगर स्थित एक होटल (Hotel) की छत पर रॉकेट के गिरने से आग (Fire) लग गई, जिससे वहां रखे टेबल- कुर्सी व अन्य फर्नीचर के सामान जलकर राख हो गए. गनीमत ये रही कि आग ज्यादा नहीं फैली वरना बड़ा हादसा हो सकता था.

नगर निगम जयपुर के सहायक अग्निशमन अधिकारी छोटू राम ने बताया ​कि रात करीब सावा 11 बजे कंट्रोल रूम पर वैशाली के होटल सरोवर में आग की सूचना मिली. सूचना मिलते ही हमारी टीम 2 फायर ब्रिगेड लेकर मौके पर पहुंच गई,  लेकिन तब तक होटल प्रबंधन की ओर से काफी हद तक आग पर काबू पा लिया गया था. उन्होंने बताया कि त्यौहार होने के कारण होटल खाली था. इससे कोई बड़ा हादसा नहीं हुआ.

इस घटना में किसी भी तरह की जनहानि नहीं हुई
उन्होंने बताया कि आग का मुख्य कारण जलते हुए पटाखे का आना माना जा रहा है, क्योंकि जिस समय हादसा हुआ उस समय होटल की छत पर कोई नहीं था और पूरा एरिया बंद था. आस- पास कुछ जगहों पर आतिशबाजी भी हो रही थी, जिसको देखकर आशंका जताई जा रही है कि कोई रॉकेट या पटाखे की चिंगारी फर्नीचर पर गिरी होगी हो उससे आग लगी होगी. उन्होंने बताया कि इस घटना में किसी भी तरह की जनहानि नहीं हुई.




31 दिसंबर तक है अतिशबाजी और पटाखा बिक्री पर रोक
बता दें कि राजस्थान में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार ने पूरे प्रदेश में आतिशबाजी और पटाखे की बिक्री पर रोक लगा रखी है. इस बैन के तहत सरकार ने 31 दिसंबर तक पटाखे बेचने पर 10 हजार रुपए और आतिशबाजी करने पर 2 का जुर्माना लगाने का भी फैसला किया है. यह कार्रवाई राजस्थान महामारी अधिनियम 2020 के तहत करने का प्रावधान किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज