होम /न्यूज /राजस्थान /

Divyansh kidnapping case: किडनैपर की प्रेमिका भी गिरफ्तार, 8 साल से लिव इन में रह रही थी

Divyansh kidnapping case: किडनैपर की प्रेमिका भी गिरफ्तार, 8 साल से लिव इन में रह रही थी

मासूम दिव्यांश का अपहरणकर्ता हेमेन्द्र अभी पुलिस रिमांड पर है.

मासूम दिव्यांश का अपहरणकर्ता हेमेन्द्र अभी पुलिस रिमांड पर है.

दिव्यांश अपहरण केस अपडेट: जयपुर के सवाई मानसिंह अस्पताल से चार माह के मासूम दिव्यांश का अपहरण करने वाला किडनैपर हेमेन्द्र जाट (Hemendra Jat) अपनी प्रेमिका संतोष उर्फ राखी के साथ बीते आठ साल से लिव इन (Live-in relationship) में रह रहा था. दिव्यांश के अपहरण में उसने भी अपने प्रेमी हेमेन्द्र का पूरा साथ दिया था. पुलिस जांच में संतोष की भूमिका सामने आने के बाद उसे भी गिरफ्तार कर लिया गया है.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

मासूम दिव्यांश का बीते 3 अगस्त को एसएमएस अस्पताल से अपहरण किया गया था
किडनैपर को पकड़ने के लिये पुलिस ने अपने 150 से ज्यादा जवान सर्च ऑपरेशन में लगाये थे

विष्णु शर्मा.

जयपुर. राजधानी जयपुर में स्थित राजस्थान के सबसे बड़े एसएमएस अस्पताल से चार माह के मासूम बच्चे दिव्यांश का अपहरण (Divyansh kidnapping case) करने वाला किडनैपर हेमेंद्र अपनी प्रेमिका संतोष छीपा उर्फ राखी के साथ लिव इन रिलेशनशिप (Live-in relationship) में रह रहा था. पुलिस ने अपहरण कांड में उसकी भूमिका सामने आने पर उसे भी गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस ने अपहरणकर्ता को अभी रिमांड पर ले रखा है. उससे हुई पूछताछ में कई सनसनीखेज खुलासे हुये हैं.

पुलिस के अनुसार हेमेन्द्र जाट ने बीते 3 अगस्त को सवाई मानसिंह अस्पताल की बांगड़ यूनिट के गेट से मासूम दिव्यांश का अपहरण किया था. उसके बाद वह बच्चे को अपने घर ले गया. वहां वह अपनी प्रेमिका संतोष छीपा उर्फ राखी के साथ बीते करीब आठ साल से लिव इन रिलेशनशिप में रह रहा था. मासूम के घर लाने के बाद संतोष ने पड़ोसियों के सामने झूठी कहानी गढ़ी. उसने पड़ोसियों से कहा कि एक महीने पहले प्रसव हुआ था. किसी बाबा के कहने पर बच्चे को पीहर में छोड़कर आई थी. अब पीहर से बच्चा वापस लेकर आई है.

हेमन्द्र पत्नी और संतोष पति को छोड़ चुकी है
हेमेन्द्र से हुई पूछताछ में खुलासा हुआ कि उसने अपनी पत्नी को बहुत पहले ही छोड़ दिया था. वहीं संतोष भी अपने पति को छोड़ चुकी है. उसके बाद दोनों लिव इन रिलेशन में रहने लगे. जांच में इस अपहरण कांड में संतोष की भूमिका सामने आने के बाद पुलिस ने उसे मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया. हेमेन्द्र को पुलिस ने तीन दिन की रिमांड पर ले रखा है.

72 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद पकड़ा गया था अपहरणकर्ता
उल्लेखनीय है कि हेमेन्द्र ने मासूम बच्चे के परिजनों को मदद करने के बहाने अपने जाल में फांस लिया था. बाद में मासूम दिव्यांश को उसके दादा की गोद से लेकर फरार हो गया था. मामला सामने आने के बाद पुलिस ने अपहरणकर्ता को पकड़ने के लिये करीब 150 पुलिसकर्मियों को लगाया था और सैंकड़ों सीसीटीवी कैमरों के फुटेज खंगाले थे. करीब 72 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद अपहरणकर्ता हेमेन्द्र पुलिस के हाथ आया था. राज्य के सबसे बड़े अस्पताल से मासूम के किडनैप का यह मामला सोशल मीडिया में भी काफी छाया हुआ रहा था.

Tags: Crime News, Jaipur news, Kidnapping Case, Rajasthan news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर