प्रदूषण और कोविड-19 को देखते हुए राजस्थान में दिवाली पर पटाखों से दूर रहे लोग

पिछले वर्षों की तुलना में राजस्थान की राजधानी जयपुर समेत कई शहरों में लोगों ने कम पटाखे जलाए (फाइल फोटो)
पिछले वर्षों की तुलना में राजस्थान की राजधानी जयपुर समेत कई शहरों में लोगों ने कम पटाखे जलाए (फाइल फोटो)

कोरोना वायरस महामारी (Corona Virus) के बीच राज्य सरकार द्वारा पटाखे जलाने और पटाखों की बिक्री पर लगाई रोक के चलते इस बार राजधानी जयपुर (Jaipur) सहित अन्य शहरों में पटाखों की आवाजें नहीं सुनाई दीं. इस बार पटाखों की दुकानें भी नहीं लगीं. सरकार भी लोगों को पटाखे नहीं जलाने के लिए प्रोत्साहित कर रही थी

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 16, 2020, 3:26 PM IST
  • Share this:
जयपुर. राजस्थान में रोशनी का त्योहार दिवाली (Diwali 2020) परंपरागत उत्साह के साथ मनाया गया. सरकार (Rajasthan Government) की ओर से पाबंदी की वजह से लोग पटाखों से दूर (Ban On Crackers) रहे. हालांकि दिन में बाजारों में खूब भीड़ देखी गई. कोरोना वायरस महामारी (Corona Virus) के बीच राज्य सरकार द्वारा पटाखे जलाने और पटाखों की बिक्री पर लगाई रोक के चलते इस बार राजधानी जयपुर सहित अन्य शहरों में पटाखों की आवाजें नहीं सुनाई दीं. इस बार पटाखों की दुकानें भी नहीं लगीं. सरकार भी लोगों को पटाखे नहीं जलाने के लिए प्रोत्साहित कर रही थी.

वहीं शनिवार को दिवाली के दिन विशेषकर मिठाई और पूजा सामग्री की दुकानों पर खूब भीड़ रही. कई जगहों पर लोग सामाजिक दूरी (सोशल डिस्टेंसिंग) पर ध्यान नहीं देते हुए नजर आए.

इससे पहले दिन में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जनता को दीपावली की शुभकामनाएं देते हुए इस बात पर खुशी जताई कि धनतेरस, छोटी दिवाली पर लोगों ने पटाखे नहीं जलाए. उन्होंने ट्वीट किया, 'मुझे इस बात की खुशी है कि धनतेरस, छोटी दिवाली पर जिस तरह से सभी ने सहयोग दिया और पटाखे नहीं जलाए, बल्कि दीपक जलाकर उल्लास से पर्व मनाया, मैं चाहूंगा आज भी सभी सहयोग करें. दिवाली की खुशियां परिवार के साथ मनाएं, भीड़भाड़ से बचें और आतिशबाजी न करें.'







हालांकि पटाखे और फुलझड़ियों पर प्रतिबंध से बच्चे निराश दिखे. दिवाली पर घरों में खूबसूरत और आकर्षक रंगोली सजाई गईं, साथ ही रोशनी भी की गई. (भाषा से इनपुट)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज