लाइव टीवी

जयपुर: गैंगवार की घटनाओं पर सख्त हुई गहलोत सरकार, नया पैरोल एक्ट-2020 लाएगी

Prem Meena | News18 Rajasthan
Updated: January 13, 2020, 6:13 PM IST
जयपुर: गैंगवार की घटनाओं पर सख्त हुई गहलोत सरकार, नया पैरोल एक्ट-2020 लाएगी
माना जा रहा है कि सरकार फरवरी में संभावित विधानसभा-सत्र में इस बिल को पास करवा सकती है.

प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार (Ashok Gehlot Government) नए वर्ष में अपराधियों की जेल और बाहर होने वाली गैंगवार (Gangwar) को रोकने को लेकर सख्त (Strict) हो गई है. राज्य सरकार नया पैरोल एक्ट-2020 (New Parole Act -2020) ला रही है.

  • Share this:
जयपुर. प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार (Ashok Gehlot Government) नए वर्ष में अपराधियों की जेल और बाहर होने वाली गैंगवार (Gangwar) को रोकने को लेकर सख्त (Strict) हो गई है. राज्य सरकार  नया पैरोल एक्ट-2020 (New Parole Act -2020) ला रही है. इसके तहत जेल में अगर कैदी के पास मोबाइल (Mobile) मिलता है तो इसे संज्ञेय अपराध (Serious crime) की श्रेणी में रखा जाएगा. मोबाइल मिलने पर कैदी पर सेशन कोर्ट (Session court) में ट्रायल चलेगा. कैदी की सेशन कोर्ट से नीचे जमानत (Bail) नहीं होगी. अभी तक जेल में कैदी के पास मोबाइल मिलने पर सिर्फ एफआईआर (FIR) दर्ज होती है. इसे संज्ञेय अपराध नहीं माना जाता है.

विधानसभा के अगले सत्र में इस बिल को पास करवा सकती है
राज्य के गृह विभाग के निर्देश पर डीजी जेल एनआरके रेड्डी की अध्यक्षता में गठित कमेटी नवीन पैरोल नियमों का ड्राफ्ट तैयार कर रही है. माना जा रहा है कि सरकार फरवरी में संभावित विधानसभा-सत्र में इस बिल को पास करवा सकती है. जेल अधिकारियों का मानना है की जेलों में मोबाइल के चलते ही गैंगवार की घटनाएं होती हैं. सूचनाओं का आदान प्रदान करने में मोबाइल का अहम रोल रहता है. अपराधी जेल में रहकर ही गैंगवार जैसी घटनाओं को अंजाम दे देते हैं. मोबाइल मिलने पर इसे संज्ञेय अपराध की श्रेणी में रखे जाने पर गैंगवार की घटनाओं में कमी आएगी.

नए एक्ट में कैदियों को भी कुछ राहत दी जाएगी

नवीन पैरोल नियमों का ड्राफ्ट धरातल पर आ जाता है तो इसमें कैदियों को भी कुछ राहत दी गई है. जिला कलक्टर की अध्यक्षता में गठित पैरोल कमेटी किसी कैदी का पैरोल प्रार्थना-पत्र खारिज कर देती है तो उसे अपील का एक और अवसर दिया जाएगा. कैदी की शारीरिक और स्वास्थ्य समस्याओं के लिए भी प्रावधान रखे गए हैं. इसमें भी कैदियों को काफी राहत मिलने की संभावना है.

 

18 साल में इस हेड कांस्टेबल ने 20 गांवों में बना डाली 2.66 करोड़ की संपत्ति 

बीकानेर: न्याय की गुहार लेकर पत्नी के शव के साथ कलक्ट्रेट पहुंचा पति

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 13, 2020, 6:01 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर