आरक्षण को लेकर राजस्थान में फिर शुरू हुआ गुर्जर महापंचायत, तीन जिलों में इंटरनेट बंद

बीते डेढ़ दशक में आरक्षण की मांग को लेकर राजस्थान में गुर्जर समुदाय सातवीं बार आंदोलन कर रहा है (फोटो: ANI)
बीते डेढ़ दशक में आरक्षण की मांग को लेकर राजस्थान में गुर्जर समुदाय सातवीं बार आंदोलन कर रहा है (फोटो: ANI)

महापंचायत कर रहे गुर्जरों (Gurjar Mahapanchayat) की तीन मुख्य मांगे हैं, जिसमें पहला है कि सरकार मोस्ट बैकवर्ड कैटेगरी में सरकारी नैकरियों में भर्तियों का बैकलॉग पूरा करे. दूसरा गुर्जर आरक्षण आंदोलन में मारे गए लोगों की विधवाओं को सरकारी नौकरी दे और तीसरी मांग है कि गुर्जरों को दिए आरक्षण को केंद्र सरकार से नौवीं अनुसूची में डलवाया जाए

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 17, 2020, 5:02 PM IST
  • Share this:
भरतपुर. आरक्षण के मुद्दे (Reservation Quota) पर राजस्थान में गुर्जर एक बार फिर आंदोलन (Gurjar Agitation) की राह पर हैं. शनिवार को भरतपुर (Bharatpur) के अड्डा गांव में गुर्जरों की महापंचायत (Gurjar Mahapanchayat) चल रही है. इस आंदोलन के उग्र होने की आंशका के चलते रात 12 बजे तक तीन जिलों में इंटरनेट सेवाएं (Internet Services) बाधित कर कर दी गई हैं. इसके अलावा सुरक्षा के मद्देनजर आरएससी और एसटीएफ की तीन कंपनियां तैनात की गई हैं. रेलवे ने दिल्ली-मुबंई रेल ट्रैक की सुरक्षा के लिए आरपीएफ के जवानों को आंदोलनस्थल के आस-पास तैनात किया है.

कोरोना काल में संक्रमण रोकने के लिए जहां एक तरफ राजस्थान सरकार सोशल डिसटेंसिंग की मुहिम चला ही है वहीं भरतपुर जिले के अड्डा गांव में गुर्जर महापंचायत में भीड़ जुट रही है. ऐसे में यहां न तो सोशल डिसटेसिंग और न ही मास्क का ख्याल रखा जा रहा है. बता दें कि गुर्जर समाज पिछले डेढ़ दशक में सातवीं बार आरक्षण के मुद्दे पर आंदोलन कर रहा है. अभी यह तय नहीं कि महापंचायत के गुर्जरों का अगला कदम क्या होगा. बीजेपी ने आरोप लगाया है कि सरकार की लापरवाही की वजह से ऐसे हालात खड़े हुए हैं.


आरक्षण के लिए आंदोलन कर रहे गुर्जरों की हैं तीन मांगें



देशराजस्थान सरकार के खेल मंत्री अशोक चांदना को आंदोलनकारी गुर्जर नेताओं से बात करने के लिए भेजा गया है. वहीं कांग्रेस ने आरक्षण के लिए बीजेपी पर इस आंदोलन को खड़ा करने का आरोप लगाया है.

इस बीच महापंचायत के आंदोलन उग्र होने की आंशका में भरतपुर, करौली और सवाई माधोपुर में रात 12 बजे तक इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगा दी गई है. इसके अलावा सुरक्षा के लिए अतिरिक्त कंपनियां गुर्जर बहुल इलाकों में भेजी गई हैं. आंदोलनकारियों के रेलवे ट्रैक जाम करने या नुकसान पहुंचाने की आंशका को देखते हुए रेलवे ने आरपीएफ को ट्रैक की सुरक्षा में तैनात किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज