Home /News /rajasthan /

हाईकोर्ट में लगी याचिका के बीच जयपुर नगर निगम ने बढ़ाई सक्रियता

हाईकोर्ट में लगी याचिका के बीच जयपुर नगर निगम ने बढ़ाई सक्रियता

हाईकोर्ट में लगी याचिका के बीच जयपुर नगर निगम ने बढ़ाई सक्रियता (फाइल फोटो)

हाईकोर्ट में लगी याचिका के बीच जयपुर नगर निगम ने बढ़ाई सक्रियता (फाइल फोटो)

कोरोना संक्रमण (Coronavirus) के कारण हुए लॉकडाउन के कारण गड़बड़ाई आर्थिक स्थिति का हवाला देते हुए हाईकोर्ट में दो-दो नगर निगम बनाने के फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिकाकर्ता प्रिया यादव ने जनहित याचिका लगाई हुई है, जिस पर कोर्ट ने राज्य सरकार से जवाब भी मांगा है.

अधिक पढ़ें ...
जयपुर. राजस्थान के जोधपुर और कोटा (Jodhpur And Kota) में दो-दो नगर निगम बनाने के राज्य सरकार के फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट (Highcourt) में भले ही जनहित याचिका दायर हो और हाईकोर्ट ने सरकार से इस मामले में जवाब भी तलब किया हो. लेकिन, इस बीच जयपुर में नगर निगम प्रशासन ने आनन फानन में हेरिटेज और ग्रेटर नगर निगम को अलग-अलग संचालित करने के लिए कवायद तेज कर दी है. नगर निगम ने हेरिटेज और ग्रेटर निगम के कुल 11 नए जोन कार्यालयों के लिए स्थान तय कर दिए है.

दरअसल, मंगलवार को निगम आयुक्त एवं प्राधिकारी विजयपाल सिंह ने एक आदेश जारी किया है, जिसमें ग्रेटर निगम के 7 नए जोन कार्यालयों और हेरिटेज निगम के 4 नए जोन कार्यालयों का स्थान तय किया है.

ग्रेटर नगर निगम का विद्याधरनगर जोन कार्यालय अंबाबाडी सामुदायिक केन्द्र, मुरलीपुरा जोन कार्यालय मुरलीपुरा सामुदायिक केन्द्र, झोटवाडा जोन कार्यालय सामुदायिक भवन तारानगर डी में संचालित होगा. इसके अलावा सांगानेर जोन कार्यालय और मानसरोवर जोन कार्यालय यथावत रूप से रहेंगे. जगतपुरा जोन कार्यालय कुन्दनपुरा सामुदायिक केन्द्र में और मालवीय नगर जोन वर्तमान सिविल लाईन जोन कार्यालय में संचालित होगा. वहीं, हेरिटेज नगर निगम में आमेर-हवामहल जोन कार्यालय वर्तमान हवामहल जोन पश्चिम कार्यालय में, सिविल लाईन जोन कार्यालय वर्तमान विद्याधरनगर जोन कार्यालय में, किशनपोल जोन कार्यालय वर्तमान हवामहल जोन पूर्व कार्यालय में और आदर्शनगर जोन कार्यालय वर्तमान मोतीडूंगरी जोन में संचालित होगा.

दो-दो नगर निगम बनाने को चुनौती
दरअसल, कोरोना संक्रमण के कारण हुए लॉकडाउन के कारण गड़बड़ाई आर्थिक स्थिति का हवाला देते हुए हाईकोर्ट में दो-दो नगर निगम बनाने के फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिकाकर्ता प्रिया यादव ने जनहित याचिका लगाई हुई है, जिस पर कोर्ट ने राज्य सरकार से जवाब भी मांगा है. ऐसे में उसके बाद निगम की ओर से अब तेजी से दो नगर निगम बनाने को लेकर तैयारियां तेज कर दी गई हैं. पिछले दिनों निगम आयुक्त ने व्हाट्सअप ग्रुप पर भी अधिकारियों को दोनों नगर निगम के हिसाब से अलग-अलग रिकॉर्ड रखने समेत कई निर्देश दिए थे.

ये भी पढ़ें: Crime Report: जयपुर में जर, जोरू और जमीन के विवाद में 10 दिन में 6 मर्डर, पढ़ें कहां, क्या हुआ

Tags: Court, Jaipur news, Jodhpur News, Kota news, Rajasthan high court, Rajasthan news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर