लाइव टीवी

जयपुर: चुनाव से वंचित पंचायतों, पंचायत समितियों और जिला परिषदों में प्रशासक लगाने की तैयारी शुरू
Jaipur News in Hindi

Prem Meena | News18 Rajasthan
Updated: January 24, 2020, 3:10 PM IST
जयपुर: चुनाव से वंचित पंचायतों, पंचायत समितियों और जिला परिषदों में प्रशासक लगाने की तैयारी शुरू
प्रदेश की कुल 11,341 ग्राम पंचायतों में से 6,759 ग्राम पंचायतों के चुनाव हो गए हैं.

देश को पंचायतीराज (Panchayati Raj) देने वाले राजस्थान में पहली बार चुनाव से वंचित ग्राम पंचायतों, पंचायत समितियों और जिला प्रमुखों की कमान चुने हुए जनप्रतिनिधियों (Public representatives) के हाथ में न रहकर एसडीओ और कलक्टर्स के हाथ में रहेगी.

  • Share this:
जयपुर. देश को पंचायतीराज (Panchayati Raj) देने वाले राजस्थान में पहली बार चुनाव से वंचित ग्राम पंचायतों, पंचायत समितियों और जिला प्रमुखों की कमान चुने हुए जनप्रतिनिधियों (Public representatives) के हाथ में न रहकर एसडीओ और कलक्टर्स के हाथ में रहेगी. सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) के आदेश के बाद पंचायतीराज विभाग ने शेष बची करीब 4 हजार ग्राम पंचायतों में प्रशासक (Administrator) लगाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है. इन ग्राम पंचायतों का कार्यकाल 7 फरवरी को समाप्त हो रहा है. 7 फरवरी को ही जिला परिषदों और 352 पंचायत समितियों का कार्यकाल भी पूरा हो रहा है. इसलिए सरकार पंचायत समितियों और जिला परिषदों में प्रशासक लगाएगी.

बाकी बची पंचायतों में चुनाव अप्रेल में होने की संभावना
राज्य सरकार प्रशासक के तौर पर एसडीएम और जिला कलक्टर को नियुक्त करेगी. पंचायतों के पुनर्गठन के बाद पहली बार अस्तित्व में आई नई ग्राम पंचायतों में प्रशासक नहीं लगाए जाएंगे, क्योंकि इनमें चुनाव नहीं हुए थे. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार राजस्थान सरकार के नोटीफिकेशन के मुताबिक ही चुनाव होंगे. संभावना जताई जा रही है कि अप्रेल के दूसरे हफ्ते में बाकी बची पंचायतों में चुनाव होंगे. राज्य चुनाव आयोग को चुनाव कार्यक्रम बनाने के लिए समय मिल गया है.

6,759 ग्राम पंचायतों के चुनाव हो गए हैं

प्रदेश की कुल 11,341 ग्राम पंचायतों में से 6,759 ग्राम पंचायतों के चुनाव हो गए हैं. अब तीसरे चरण का चुनाव 29 जनवरी को होगा. शेष बची 4,582 ग्राम पंचायतों समेत जिला परिषद और 352 पंचायत समितियों के चुनाव राज्य निर्वाचन आयोग चौथे चरण में करवाएगा. राज्य निर्वाचन आयोग चुनाव का चौथा चरण अप्रेल माह में करवाने की घोषणा कर सकता है. हालांकि राज्य निर्वाचन आयोग ने चौथे चरण का कार्यक्रम पूर्व में घोषित कर दिया था. उसके तहत एक फरवरी को चुनाव होने थे, लेकिन जोधपुर हाईकोर्ट के आदेश के बाद आयोग ने लोक सूचना जारी करने पर रोक लगा दी थी.

राजस्थान से हुई थी शुरुआत

 आजादी के बाद पहली बार देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने राजस्थान के नागौर जिले के बगदरी गांव में गांधी जयंती के दिन यानी 2 अक्टूबर 1959 को पंचायती राज व्यवस्था की नींव रखी थी. उसके बाद पंचायतीराज को पूरे देश में लागू किया था.

 

भ्रष्टाचार के मामले में कोटा जिला प्रमुख गिरफ्तार, कांग्रेस ने किया निष्कासित

उदयपुर: देखिए कांग्रेस की हंसी और शरारत, तीन दिन से हो रही है जबर्दस्त चर्चा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 24, 2020, 3:06 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर