• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • वसुंधरा के करीबी नेता पर BJP ने चलाया अनुशासन का डंडा, बगावती तेवर पड़े नरम

वसुंधरा के करीबी नेता पर BJP ने चलाया अनुशासन का डंडा, बगावती तेवर पड़े नरम

बीजेपी नेता रोहिताश्व शर्मा ने सप्ताह भर पहले पार्टी और संगठन को काफी खरी-खोटी सुनाई थी

बीजेपी नेता रोहिताश्व शर्मा ने सप्ताह भर पहले पार्टी और संगठन को काफी खरी-खोटी सुनाई थी

Rajasthan News: राजस्थान बीजेपी की अनुशासन समिति ने एक और नोटिस देकर पार्टी नेता रोहिताश्व शर्मा से उनके दिए विवादित बयानों पर जवाब मांगा है. पार्टी के इस कदम से उनके तेवर नरम पड़ गए हैं.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान बीजेपी (Rajasthan BJP) में अनुशासन का डंडा चलने से आग उगलने वाले नेताओं की जुबान फिलहाल खामोश हो गई है. पार्टी के प्रदेश महामंत्री ने डॉक्टर रोहिताश्व शर्मा (Rohitashwa Sharma) को पहले नोटिस दिया, अब अनुशासन समिति ने एक और नोटिस देकर उनसे उनके दिए विवादित बयानों पर जवाब मांगा है. पार्टी के इस कदम से रोहिताश्व के तेवर नरम पड़ गए हैं. वहीं, पार्टी असंतुष्ट धड़े के नेताओं के संभल-संभलकर पर कतरने की तैयारी में जुट गया है.

एक सप्ताह पहले तक अपनी ही पार्टी पर सवाल उठाने वाले डॉ. रोहिताश्व के तेवर अब नरम हैं. अनुशासन समिति के एक ओर नोटिस के बाद बानसूर के इस फायरब्रांड लीडर के बयानों में अब वो गर्मी नहीं, जो पहले नजर आ रही थी. संगठन को आड़े हाथ लेते हुए खरी खोटी सुनाने वाले रोहिताश्व को लगता है कि उन्हें पार्टी से बाहर निकालने की तैयारी हो रही है लिहाजा वो अपने आपको पार्टी का समर्पित कार्यकर्ता करार देते हुए अनुशासन समिति की समझाइश का इंतजार कर रहे हैं. अनुशासन समिति के संयोजक ओंकार सिंह लखावत अब रोहिताश्व की आखिरी उम्मीद हैं.

एक समय रोहिताश्व शर्मा की अलवर से लेकर दौसा तक तूती बोलती थी. 75 वर्ष के रोहिताश्व तीन बार विधायक और मंत्री रहे. नेता उनकी दोस्ती की मिसालें देते हैं. कांग्रेस को अलविदा कहे तीस साल हो गये हैं मगर आज भी रोहिताश्व के सतारूढ़ दल के बड़े नेताओं से रिश्ते छिपे नहीं है. भैरोसिंह शेखावत उन्हें बीजेपी में लेकर आये और मंत्री बनाया. वसुंधरा राजे के साथ वो हमेशा खड़े रहे और जब उन्हें लगा कि वसुंधरा राजे को देश और प्रदेश का संगठन किनारे करने की कोशिश कर रहा है, तो रोहिताश्व से रहा नहीं गया. उन्होंने अपनी पार्टी के खिलाफ ऐसे बयान दिये जो संगठन को रास नहीं आया. प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनियां से लेकर प्रदेश महामंत्री भजनलाल पर उन्होंने निशाना साधा जो अब उनके लिए अब परेशानी का सबब बन गया है. सतीश पूनियां कहते हैं कि समझदार को इशारा काफी है, अनुशासनहीनता कोई भी करे बर्दाश्त नहीं होगी.

बहरहाल, एक तरफ वसुंधरा राजे के राजस्थान दौरे की तैयारियां शुरू हो रही हैं. हालांकि अभी इसकी तारीख तय नहीं हो पाई है. उससे पहले रोहिताश्व शर्मा की बीजेपी में मुश्किलें बढ़ रही हैं पर पार्टी के लिए उन जैसे कद्दावर नेता को बाहर निकालना आसान भी नहीं है क्योंकि उन्हें अगर बाहर का रास्ता दिखाया जाता है तो प्रदेश संगठन और वसुंधरा राजे के बीच कड़वाहट और ज्यादा बढ़ जायेगी, जो पार्टी के भविष्य के लिए शुभ संकेत नहीं होगा. ऐसे में सभी को रोहिताश्व शर्मा के अनुशासन समिति के समक्ष जवाब का इंतजार है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज