लाइव टीवी

जयपुर: संघर्ष में मारा गया रणथम्भौर का जालिम टाइगर T-25, कपाल की हड्डियां टूटी मिलीं

Arbaaz Ahmed | News18 Rajasthan
Updated: January 20, 2020, 7:01 PM IST
जयपुर: संघर्ष में मारा गया रणथम्भौर का जालिम टाइगर T-25, कपाल की हड्डियां टूटी मिलीं
वन विभाग ने बाघ के शव का मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम कराने के बाद दाह संस्कार कर दिया है. T-25 का नाम दुनिया के सैंकड़ों रिसर्च पेपर्स में दर्ज है.

सवाई माधोपुर के रणथम्भौर टाइगर रिजर्व (Ranthambore Tiger Reserve) के बाघ T-25 की मौत वर्चस्व की लड़ाई (Battle for supremacy) में हुई है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट (Post mortem report) में बाघ जिस्म पर चोट के कोई खास निशान नहीं मिले हैं, लेकिन उसके कपाल में अंदरूनी चोटें (Internal injuries) पाई गई हैं.

  • Share this:
जयपुर. सवाई माधोपुर के रणथम्भौर टाइगर रिजर्व (Ranthambore Tiger Reserve) के बाघ T-25 की मौत वर्चस्व की लड़ाई (Battle for supremacy) में हुई है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट (Post mortem report) में बाघ के जिस्म पर चोट के कोई खास निशान नहीं मिले हैं, लेकिन उसके कपाल में अंदरूनी चोटें (Internal injuries) पाई गई हैं. उसके कपाल के अंदर कई हड‌्डियां टूटी (Bones broken) हुई मिली हैं. इसी इलाके में दूसरे बाघ T-66 का भी मूवमेंट (Movement) हैं. बाघ T-66 इन दिनों बाघिन T-54 से संपर्क बना रहा है. ऐसे में माना जा रहा है कि दोनों के मिलन के दौरान चुनौती देने पर बाघ T-66 ने T--25 को मार डाला. बाघ T-25, युवा बाघ T-66 का ताकतवर हमला बर्दाश्त नहीं कर पाया और मारा गया.

सीएम गहलोत ने जताया दुख
रणथम्भौर रिजर्व के सबसे प्रसिद्ध बाघ T-25 का सोमवार को सुबह खंडार रेंज में बनास नदी के पास शव मिला था. बाघ के मौत की खबर से वन विभाग में मायूसी छा गई. वहीं बाघ प्रेमियों में भी गम का माहौल हो गया. सीएम अशोक गहलोत ने T-25 की मौत पर दुख जताया है. उन्होंने कहा कि वो जबरदस्त बाघ था. उसे दो अनाथ शावकों को पालने के लिए दुनिया में जाना जाता है. सीएम में कहा कि बाघ T-25 को हमेशा याद किया जाएगा. वन विभाग ने बाघ के शव का मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम कराने के बाद दाह संस्कार कर दिया है. T-25 का नाम दुनिया के सैंकड़ों रिसर्च पेपर्स में दर्ज है.

दो शावकों को पालकर मिसाल कायम की थी
बाघ T-25 को डॉलर मेल और जालिम के नाम से भी जाना जाता था. उसके खूंखार बर्ताव के कारण उसे जालिम नाम दिया गया था. T-25 के शरीर पर बने डॉलर के निशान की वजह से उसे डॉलर मेल भी कहा जाता था. T-25 वर्ष 2011 में उस समय चर्चा में आया था, जब बाघिन T-5 की अचानक मौत हो गई थी. उसके दो दूध मुंहे शावकों को पाल पोसकर बाघ T-25 ने ही बड़ा किया था. इससे पहले ऐसा माना जाता था कि बाघ कभी शावकों को पालते नहीं है, बल्कि उन्हें मार देते हैं. लेकिन T-25 ने दोनों शावकों को पाल पोसकर बड़ा किया. T-25 ने दुनिया के सामने ये एक मिसाल कायम की थी कि बाघ भी शावकों को पाल सकते हैं.

जयपुर: एक और बाघ ने तोड़ा दम, रणथम्भौर के T-25 की मौत, खंडार रेंज में मिला शव

जयपुर: सरपंच उम्मीदवार ने तोड़े खर्चे के सभी रिकॉर्ड, कहा- सब जनता कर रही है

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 20, 2020, 5:49 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर