Jaipur: उत्तर प्रदेश के DG होमगार्ड की पत्नी बनी निर्विरोध सरपंच
Jaipur News in Hindi

Jaipur: उत्तर प्रदेश के DG होमगार्ड की पत्नी बनी निर्विरोध सरपंच
सरपंच सहित सभी नौ वार्ड पंचों को भी निर्विरोध चुना गया है. यह पंचायत राज के इतिहास में रिकॉर्ड माना जा रहा है. गोपाल मीणा 1987 बैच के यूपी कैडर के आईपीएस अधिकारी हैं.

जयपुर जिले की आमेर तहसील की चिताणु कलां ग्राम पंचायतमें उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के डीजी होमगार्ड (DG Home Guard) गोपाल मीणा की पत्नी सोनिया देवी निर्विरोध सरपंच चुनी गई हैं.

  • Share this:
जयपुर. जिले की आमेर तहसील की चिताणु कलां ग्राम पंचायत  में उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के डीजी होमगार्ड (DG Home Guard) गोपाल मीणा की पत्नी सोनिया देवी उर्फ लाली मीणा निर्विरोध सरपंच चुनी गई हैं. हालांकि राज्य निर्वाचन आयोग ने उनके निर्विरोध सरपंच चुने जाने का सर्टिफिकेट अभी तक जारी नहीं किया है. आयोग ने कानूनी अड़चनों के चलते फिलहाल प्रथम चरण में निर्विरोध चुने गए पंच-सरपंचों को सर्टिफिकेट जारी करने पर रोक लगा रखी है.

रिकॉर्ड ! पूरी पंचायत निर्विरोध निर्वाचित
रिटर्निंग अधिकारी लादूराम शर्मा ने बताया कि सरपंच के लिए सोनिया देवी का एकमात्र आवेदन प्राप्त हुआ था. सरपंच सहित सभी नौ वार्ड पंचों को निर्विरोध चुना गया है. यह पंचायत राज के इतिहास में रिकॉर्ड माना जा रहा है. सोनिया मीणा को निर्विरोध सरपंच बनाने के लिए ग्रामीणों ने सप्ताहभर पूर्व सर्व समाज की बैठक बुलाई गई थी. इसमें उनके निर्विरोध चुनाव का फैसला किया गया था.

मीणा 1987 बैच के यूपी कैडर के आईपीएस अधिकारी हैं



गोपाल मीणा क्षेत्र के एकमात्र आईपीएस अधिकारी हैं. गोपाल मीणा 1987 बैच के यूपी कैडर के आईपीएस अधिकारी हैं. उनका गांव और क्षेत्र से लगातार लगाव रहा है. राज्य में पंचायतराज चुनाव का रंग अब पूरी तरह जमने लगा है. कहीं निर्विरोध निर्वाचन हो रहा है तो कहीं उम्मीदवारों के बीच कड़ी टक्कर की स्थिति बन रही है.



पहली बार पंचायत चुनाव चार चरणों में कराए जा रहे हैं
प्रदेश में इस बार पंचायतों और पंचायत समितियों का पुर्नगठन किया गया है. इससे प्रदेश में पंचायतों और पंचायत समितियों की संख्या में काफी बढ़ोतरी हुई है. प्रदेश में पहली बार चार चरणों में पंचायत चुनाव कराए जा रहे हैं. इससे पहले पंचायत चुनाव तीन चरण में ही करवाए जाते हैं. पहले चरण के चुनाव के लिए 17 जनवरी को वोट डाले जाएंगे. इसके लिए नामांकन की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है. 8 जनवरी को नामांकन भरे गए थे. उसके बाद 9 जनवरी को नामांकन-पत्रों की जांच की गई थी. इसी दिन नाम वापसी की अंतिम तारीख थी.

ये भी पढ़ेंः पंचायत चुनाव: निर्विरोध चुने जाने वाले सरपंचों का अभी जारी नहीं होगा परिणाम

पंचायत चुनाव 2020: चौथे चरण के चुनाव में हो सकता है बड़ा बदलाव, यह है कारण

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading