• Home
  • »
  • News
  • »
  • rajasthan
  • »
  • जयपुर: दिल का दौरा पड़ने से हुई थी टाइगर टी-65 की मौत, IVRI की रिपोर्ट से खुलासा

जयपुर: दिल का दौरा पड़ने से हुई थी टाइगर टी-65 की मौत, IVRI की रिपोर्ट से खुलासा

(प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

(प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

Ranthambhore Tiger Reserve News: राजस्थान के रणथंभौर टाइगर रिजर्व के युवा बाघ टी-65 (Tiger T-65) की मौत के मामले में आईवीआरआई (IVRI) की विसरा रिपोर्ट ने इस बात की पुष्टि की है कि बाघ की मौत का कारण दिल का दौरा था.

  • Share this:

जयपुर. राजस्थान (Rajasthan) के रणथंभौर टाइगर रिजर्व के युवा बाघ टी-65 (Tiger T-65) की मौत के मामले में आईवीआरआई (IVRI) की विसरा रिपोर्ट ने इस बात की पुष्टि की है कि बाघ की मौत का कारण दिल का दौरा था. हालांकि पहले भी रणथंभौर के मेडिकल बोर्ड ने इसी बात का अंदेशा जताया था, लेकिन एक युवा बाघ की मौत के बाद कई सवाल खड़े हुए थे. ऐसे  में डर यह भी था कि कहीं बाघ को जहर देकर न मारा गया हो. इसीलिए बाघ के पोसटमार्टम के बाद उसके विसरा सेंपल्स लेकर विस्तृत जांच के लिए आईवीआरआई बरेली भेजे गए थे.  इसमें विभाग ने कोविड 19, सामान्य जहर, पेरासाइट, बैक्टीरियल इंफेक्शन आदि सभी तरह की जांच कराई थी.

जांच रिपोर्ट आने भले ही इस बात ये सुकून मिल गया हो कि इसमें जहर देने का मामला नहीं था, लेकिन एक युवा और सेहतमंद बाघ की सामान्य हालातों में दिल के दौरे से मौत होना भी कई सवाल खड़े करता है. गौरतलब है कि रणथम्भौर बाघ परियोजना की खण्डार रेंज में इसी महीने 6 जुलाई को बाघ टी-65 के उर्फ सूरज का आधा पानी में डूबा हुआ मिला था.

फेफड़ों व किडनी की जांच
इस मामले में बरेली के इंडियन वेटनेरी रिसर्च इंस्टीट्यट (भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान बरेली) से ये जांच रिपोर्ट सामने आई है. इसस पहले भी वन महकमे की ओर से भी पहली नज़र में बाघ की मौत की वजह कॉर्डियक शॉक को ही बताया गया था. जांच रिपोर्ट में कोविड 19, सामान्य जहर, पेरासाइट, बैक्टीरियल इंफेक्शन आदि सभी की जांच रिपोर्ट नेगेटिव आई है. विभाग की ओर से बाघ के फेंफड़ो, किडनी, लीवर स्लीपन आदि की जांच भी कराई गई थी, जो सामान्य बताये गए हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज