कल से उत्तर भारत में फिर सक्रिय होगा पश्चिमी विक्षोभ, राजस्थान में 18 मार्च से दिखेगा असर

उत्तर भारत में पश्चिमी विक्षोभ के चलते तापमान में बढ़ोतरी नहीं हो सकी है (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

उत्तर भारत में पश्चिमी विक्षोभ के चलते तापमान में बढ़ोतरी नहीं हो सकी है (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

मौसम विभाग (IMD) ने सिस्टम के असर से राजस्थान (Rajasthan) में 18 से 20 मार्च के दौरान मेघगर्जन के साथ कहीं-कहीं हल्के दर्जे की बारिश होने की संभावना जताई है. कई संभागों में इसका असर दिखेगा. साथ ही 18 मार्च को शेखावाटी क्षेत्र और आसपास के जिलों में दोपहर के बाद मेघगर्जन के साथ हल्की बारिश हो सकती है

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 16, 2021, 7:48 PM IST
  • Share this:
जयपुर. सूर्य के तीखे होते तेवरों के बीच बुधवार से उत्तर भारत के राज्यों में पश्चिमी विक्षोभ (Western Disturbance) सक्रिय होने की संभावना है. राजस्थान (Rajasthan) में 18 मार्च से इसका असर दिखेगा. पश्चिमी विक्षोभ के चलते तीन दिन मेघगर्जन के साथ हल्की बारिश के आसार हैं. मौसम विभाग (IMD) ने बुधवार से उत्तर भारत के राज्यों में पश्चिमी विक्षोभ के प्रभावी होने के आसार जताए हैं. पश्चिमी विक्षोभ के असर के कारण तापमान में गिरावट आने की संभावना है.

विभाग ने सिस्टम के असर से राजस्थान में 18 से 20 मार्च के दौरान मेघगर्जन के साथ कहीं-कहीं हल्के दर्जे की बारिश होने की संभावना जताई है. कई संभागों में इसका असर दिखेगा. साथ ही 18 मार्च को शेखावाटी क्षेत्र और आसपास के जिलों में दोपहर के बाद मेघगर्जन के साथ हल्की बारिश हो सकती है. जबकि 19 और 20 मार्च को उदयपुर, कोटा, अजमेर, जयपुर, भरतपुर और बीकानेर संभाग के उत्तरी भागों में मेघगर्जन के साथ हल्की बारिश होने की संभावना है.

हाल के दिनों में मार्च के महीने में तीसरी बार पश्चिमी विक्षोभ प्रदेश में सक्रिय हो रहा है. पश्चिमी विक्षोभ के असर के कारण गर्मी अपने तेवर नहीं दिखा पा रही है. दरअसल, मार्च महीने में गर्मी अपना असर दिखाना शुरू कर देती है. लेकिन इस बार लगातार पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हो रहा है जिसके चलते पारे में ज्यादा बढ़ोतरी दर्ज नहीं देखी जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज