लाइव टीवी

'मंत्रियों और अधिकारियों से ज्यादा काम करते हैं जज'

ETV Rajasthan
Updated: April 8, 2017, 4:14 PM IST
'मंत्रियों और अधिकारियों से ज्यादा काम करते हैं जज'
फोटो-वरिष्ठ न्यायाधीश एवं राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष के.एस. झवेरी.

वरिष्ठ न्यायाधीश एवं राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष के.एस. झवेरी ने शनिवार को उच्च न्यायालय में आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत का दीप प्रज्ज्वलित कर उद्घाटन किया.

  • Share this:
वरिष्ठ न्यायाधीश एवं राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष के.एस. झवेरी ने शनिवार को उच्च न्यायालय में आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत का दीप प्रज्ज्वलित कर उद्घाटन किया.

इस अवसर पर उन्होंने लम्बित मामलों के एक सवाल पर कहा कि कभी पुलिस स्टेशन जाकर देखिए, वहां कितने मामले लम्बित हैं. एक जज किसी भी एग्जिक्यूटिव, सचिव और मिनिस्टर से ज्यादा काम कर रहे हैं. वह भी तब जब अदालतों में 50 फीसदी जजों के पद खाली पड़े हैं.

उन्होंने कहा कि गत कुछ समय से मीडिया ने लम्बित मामलों को लेकर ज्यूडिशरी के खिलाफ एक माहौल बनाया है, जबकि पहले मीडिया को अन्य विभागों में लम्बित मामले देखने चाहिए. फिर न्यायपालिका की बात करनी चाहिए.

उन्होंने बताया कि प्रदेशभर में आयोजित की जार रही राष्ट्रीय लोक अदालत में लगभग 2 लाख मुकदमे सूचीबद्ध किए गए प्रकरणों को उनकी प्रकृति के आधार पर चिन्हित किया है, जिनमें पेंशन, सेवार्निवृत लाभ, एन.आई एक्ट के मामले, पारिवारिक मामले, औद्योगिक मामले, मोटर दुर्घटना तथा जेडीए से संबंधित विवाद, पेरोल और प्रि लिटीगेशन आदि से संबंधित प्रकरणों को सम्मिलित किया गया है. जिनमें से अधिकतर मामलों का निस्तारण होने की पूरी-पूरी संभावना है.

उन्होंने बताया कि जयपुर उच्च न्यायालय में आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत में 10 बेंचों का गठन कर सभी न्यायाधीश सुनवाई करेंगे और आपसी समझाइश एवं राजीनामे के आधार पर अधिक से अधिक प्रकरणों का निस्तारण करेंगे.

उन्होंने बताया कि राज्य में 11 फरवरी को आयोजित कि गई राष्ट्रीय लोक अदालत में प्रदेशभर में हजारों मुकदमों का निस्तारण किया गया, जिसका आमजन ने लाभ उठाया.

इस मौके पर राजस्थान उच्च न्यायालय के न्यायाधीश सर्व बनवारी लाल शर्मा, मोहम्मद रफीक, महेश चन्द शर्मा, मनीष भण्डारी, पी.के. अग्रवाल, पंकज भण्डारी, अजय रस्तोगी सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी, कर्मचारी और अनेक अधिवक्ता उपस्थित थे.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 8, 2017, 4:14 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर