अपना शहर चुनें

States

राजस्थान के अन्नदाताओं की केंद्र को ललकार, 12 और 13 दिसंबर को करेंगे दिल्ली कूच, NH होगा ब्लॉक

राजस्थान के किसान 13 दिसंबर को दिल्ली कूच करेंगे. (File)
राजस्थान के किसान 13 दिसंबर को दिल्ली कूच करेंगे. (File)

राजस्थान के किसान नए कृषि कानून (New Agriculture Law 2020) के खिलाफ एक जुट होने की तैयारी  कर रहे है. सूबे के अन्नदाता 13 दिसंबर को दिल्ली कूच करेंगे. तो वहीं जयपुर-दिल्ली हाईवे ब्लॉक भी किया जा सकता है.

  • Share this:
जयपुर. नए कृषि कानून के खिलाफ दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन को धार देने के लिए अब राजस्थान के अन्नदाता सामने आ गए हैं. सूबे के किसान जयपुर-दिल्ली हाईवे बंद करने की योजना बना रहे हैं. हाईवे को जयपुर- दिल्ली मार्ग पर राजस्थान हरियाणा की सीमा शहांजहांपुर पर ब्लॉक किया जा सकता है. राजस्थान में हालांकि अभी तक कोई भी किसान संगठन किसानो की बड़ी संख्या विरोध के लिए नहीं जुटा पाया, लेकिन अब किसान संगठनों का फोकस 12 दिसंबर पर है.

सीपीआई से संबधित अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति ने राजस्थान के सभी जिलों के किसानो को 12 दिसंबर को कोटपूतली में इकट्ठा होने के लिए कहा है. जयपुर से किसान 12 दिसंबर को जयपुर-दिल्ली हाईवे से कोटपूतली पहुंचेंगे. जिलों के किसान नेताओं से ट्रेक्टर ट्रालियां बिस्तर और राशन साथ में लाने के लिए कहा गया है. कई दिन की पूरी तैयारी के साथ किसानों को बुलाया गया है.

ये भी पढ़ें: हिमाचल: दिल्ली से 38 ग्राम चिट्टा लेकर कुल्लू पहुंचा था ड्रग डीलर, पुलिस ने दबोचा




दिल्ली मार्च का तैयारी में किसान 

13 दिसंबर को सुबह कोटपूतली से दिल्ली कूच करेंगे किसान. जहां भी रोकेंगे वहीं पर जयपुर -दिल्ली हाईवे जाम की तैयारी भी की जा रही है. राजस्थान में कांग्रेस की सरकार है ऐसे में किसान संगठनों को यकीन है कि राजस्थान की सीमा तक यानी शहांजाहांपुर तक कूच करने में अधिक परेशानी नहीं होगी. लेकिन जैसे ही हाईवे पर शहांजहांपुर से आगे हरियाणा की सीमा पर हाईवे पर कूच करेंगे तो जाहिर हरियाणा की बीजेपी सरकार कम ही उम्मीद है कि किसानों को आगे बढ़ने दे. ऐसे में राजस्थान-हरियाणा की सीमा पर टकराव की आशंका बन सकती है. लेकिन टकराव की आंशका तभी है जब कोटपूतली में किसान संगठन बड़ी तादाद में किसान जुटा पाएंगे.

दूसरी तरफ राष्ट्रीय लोकांत्रिक पार्टी के संयोजक हनुमान बेनिवाल ने 12 दिसंबर को ही कोटपूतली से दिल्ली कूच का ऐलान कर रखा है. बेनिवाल ने ट्वीट कर कहा कि पीएम से कहा कि किसानों की मांगों पर फैसला कर कृषि बिल वापस नहीं. चेतावनी दी कि नहीं तो किसान आंदोलन देशभर में होगा.
राजस्थान में पंचायत चुनाव की वजह से अभी तक राजनीतिक संगठन और किसान संगठन पंचायत चुनावों में व्यस्त थे. किसान नेताओं को उम्मीद है कि पंचायत चुनाव खत्म होने से अब अधिक किसान कूच में शामिल होंगे. मालूम हो कि जयपुर दिल्ली हाईवे देश की चुनिंदा सबसे व्यस्त हाईवे में से एक है. नेशनल हाईवे संख्या आठ दिल्ली से सिर्फ जयपुर तक नहीं, अहमदाबाद और मुंबई तक है. जाहिर है इस हाईवे के थमने का असर देश की राजधानी से आर्थिक राजधानी तक पड़ सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज