मासूमों की मौत पर ट्वीटर वार: चिकित्सा मंत्री ने 6 साल के आंकड़े जारी कर BJP को दिया ये करारा जवाब

चिकित्सा मंत्री ने कहा कि निरोगी राजस्थान हमारी प्राथमिकता है. केंद्र सरकार के NHM द्वारा निशुल्क दवा योजना की रैंकिंग में राजस्थान लगातार कुछ महीनों से देश में प्रथम रहा है

कोटा के जेके लोन अस्पताल (JK Lawn Hospital) में 104 बच्चों की मौत के मामले में राज्य सरकार (State Government) और बीजेपी (BJP) आमने-सामने आ खड़ी हुई हैं. दोनों के बीच आरोप-प्रत्यारोप और ट्वीटर वार (Twitter war) जारी है.

  • Share this:
जयपुर. कोटा के जेके लोन अस्पताल (JK Lawn Hospital) में बच्चों की मौत के मामले में राज्य सरकार (State Government) और बीजेपी (BJP) आमने-सामने आ खड़ी हुई हैं. दोनों के बीच आरोप-प्रत्यारोप और ट्वीटर वार (Twitter war) जारी है. एक तरफ बीजेपी की ओर से लगातार राज्य सरकार पर व्यवस्थाओं में खामियों के आरोप (Allegation) लगाए जा रहे हैं. वहीं राज्य सरकार लगातार उनके आरोपों का आक्रामकता के साथ जवाब दे रही है.

चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने किया ट्वीट
आरोप-प्रत्यारोप और ट्वीटर वार के बीच प्रदेश सरकार के चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने एक के बाद एक लगातार 3 ट्वीट कर पूर्ववर्ती बीजेपी सरकार पर जमकर निशाना साधा है. चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने ट्वीट के जरिए कोटा के जेके लॉन अस्पताल में गत छह वर्षों में हुई बच्चों की मौत के आंकड़े जारी कर कहा कि राज्य में सर्वप्रथम बच्चों की आईसीयू की स्थापना हमारी सरकार यानि कांग्रेस सरकार ने 2003 में की थी.

ये उपलब्धियां गिनाई
वहीं कोटा में भी बच्चों की ICU की स्थापना कांग्रेस सरकार ने 2011 में की थी. डॉ. रघु शर्मा ने अपने ट्वीट में लिखा की जेके लॉन अस्पताल कोटा में बीमार शिशुओं की हुई मृत्यु पर सरकार संवेदनशील है. इस पर राजनीति नहीं होनी चाहिए. चिकित्सा मंत्री ने कहा कि निरोगी राजस्थान हमारी प्राथमिकता है. केंद्र सरकार के NHM द्वारा निशुल्क दवा योजना की रैंकिंग में राजस्थान लगातार कुछ महीनों से देश में प्रथम रहा है, जिससे यह पता चलता है कि राजस्थान में चिकित्सा सेवाएं बेहतर हुई है. डॉ. रघु शर्मा ने अपने ट्वीटर हैंडल पर एक तुलनात्मक सीट के जरिए पिछले 6 साल के शिशु दर के आंकड़े जारी किए हैं.

2015 में 1260 बच्चों की हुई थी मौत
इस सीट के मुताबिक कोटा के जेके लॉन में 2014 में 1198 बच्चों की मौत हुई थी. 2015 में यह आंकड़ा बढ़कर 1260 तक पहुंच गया. 2016 में वहां 1193 बच्चों की मौत हुई है. वहीं 2017 में 1027, 2018 में 1008 और 2019 में यह आंकड़ा घटकर 963 रह गया है. डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि बीजेपी सरकार के 5 बरसों के मुकाबले 1 साल में कांग्रेस सरकार ने शिशु मृत्यु दर के आंकड़ों में कमी की है.




 



पंचायत चुनाव: 12 जिलों की 166 ग्राम पंचायतों की चुनाव तारीख बदली, देखें सूची

BJP प्रदेशाध्यक्ष पूनिया जल्द करेंगे नई टीम की घोषणा, युवाओं को मिलेगी तरजीह

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.