Rajasthan: मुकुंदरा रिजर्व में बाघ MT-3 के 10 दिन बाद बाघिन MT-2 की भी मौत
Kota News in Hindi

Rajasthan: मुकुंदरा रिजर्व में बाघ MT-3 के 10 दिन बाद बाघिन MT-2 की भी मौत
बाघिन MT-2 की मौत की खबर सन्न करने वाली है. इस मामले में बड़ा सवालिया निशान मुकुंदरा हिल्स के स्थानीय स्टाफ पर भी लग रहा है.

प्रदेश के मुकुंदरा हिल्स टाइगर रिजर्व से फिर बुरी खबर आई है. हाल ही में दो शावकों के जन्म की खुशखबरी देने वाली बाघिन MT-2 की सोमवार को अचानक मौत हो गई.

  • Share this:
जयपुर/कोटा. प्रदेश के मुकुंदरा हिल्स टाइगर रिजर्व (Mukundara Hills Tiger Reserve) से फिर बुरी खबर आई है. हाल ही में दो शावकों के जन्म की खुशखबरी देने वाली बाघिन MT-2 की सोमवार को अचानक मौत (Death) हो गई. इससे बाघ प्रेमियों में शोक की लहर दौड़ गई है. बाघिन की मौत के कारणों का अभी पता नहीं चल पाया है. करीब 10 दिन पहले ही इस टाइगर रिजर्व में बाघ MT-3 की मौत हो गई थी.

चार दिन से बाघिन नज़र नहीं आ रही थी
बाघिन MT-2 की मौत की खबर सन्न करने वाली है. इस मामले में बड़ा सवालिया निशान मुकुंदरा हिल्स के स्थानीय स्टाफ पर भी लग रहा है. बताया जा रहा है कि पिछले चार दिन से बाघिन नज़र नहीं आ रही थी और उसकी लोकेशन भी एक ही जगह आ रही थी. ऐसे में बाघिन को खोजने के लिए कोई प्रयास नहीं किये गये. हो सकता है बाघिन की मौत हुए 2 से 3 दिन हो गए हो, क्योंकि मुकुंदरा प्रशासन अभी भी पूरे मामले की सही जानकारी नहीं दे रहा है.

Jaipur: 2 घंटे जोरदार बारिश, नाले में फंसी कार, लो-फ्लोर बसों में भरा पानी, देखें Video
बाघिन की मौत की जानकारी को छिपा रहा है मुकुंदरा प्रशासन


मुकुंदरा प्रशासन जानकारियां छिपाने में पहले भी बदनाम रहा है. MT-3 की मौत के वक्त भी मुकुंदरा प्रशासन ने पूरे मामले में अपनी गलतियों को छुपाने के लिए पर्दा डाल दिया था. अब भी पूरी जानकारी नहीं दी जा रही है. इससे मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक अरिंदम तोमर काफी नाराज हैं. वे खुद आज सुबह ही जयपुर से मुकुंदरा के लिए रवाना हो चुके हैं. जबकि एक टीम दिल्ली से नेशनल टाइगर अथॉरिटी की भी आ रही है. वह मौके पर पूरे मामले की तफ्तीश करेगी.

सियासी संकट के बीच गहलोत सरकार ने फिर बदला ब्यूरोक्रेसी का चेहरा, 57 IFS और 31 RAS का तबादला, देखें पूरी सूची

बाघिन का एक शावक अभी लापता है
पिछले दिनों बाघिन के दोनों शावक लापता हो गए थे. उनमें से एक तो मिल गया है, लेकिन दूसरे का अभी तक कोई सुराग नहीं लग पाया है. उसकी तलाश जारी है. वन विभाग को उम्मीद है कि जल्द ही दूसरे शावक का भी मूवमेंट मिल जाएगा. करीब 10 दिन पहले गत 23 जुलाई को ही यहां बाघ MT-3 की मौत हुई थी. उसकी मौत का कारण फेफड़ों में संक्रमण बताया गया था.

मजनूं से जा मिली लैला
उल्लेखनीय है गत 23 जुलाई को मौत का शिकार हुआ बाघ MT-3 और MT-2 की कमेस्ट्री बेहद अच्छी थी. बताया जा रहा है कि MT-3 बाघ अपनी प्रेमिका MT-2 की तलाश में सभी बंधन पार करके रणथंभौर से मुकुंदरा तक पहुंच गया था. बाद में वह यहीं का होकर रह गया था. लेकिन वन विभाग ने उनको मिलने नहीं दिया. MT-3 ने 10 दिन पहले MT-2 के पिंजरे के बाहर दम तोड़ दिया था और अब MT-2 भी इस दुनिया को अलविदा कह गई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज