Jaipur: बाघिन MT-2 की मौत पर सरकार का बड़ा एक्शन, फील्ड डायरेक्टर और डीसीएफ को किया APO
Jaipur News in Hindi

Jaipur: बाघिन MT-2 की मौत पर सरकार का बड़ा एक्शन, फील्ड डायरेक्टर और डीसीएफ को किया APO
वन विभाग ने इस मामले से जुड़े तमाम डेटा एनटीसीए के साथ साझा किए हैं.

प्रदेश के हाड़ौती इलाके में स्थित मुकुंदरा हिल्स टाइगर रिजर्व (Mukundara Hills Tiger Reserve) में बाघिन MT-2 की मौत के मामले में राज्य सरकार ने कड़ा कदम उठाते हुए मुकुंदरा हिल्स के फील्ड डायरेक्टर आनंद मोहन और डीसीएफ टी मोहनराज को एपीओ कर दिया है.

  • Share this:
जयपुर. प्रदेश के हाड़ौती इलाके में स्थित मुकुंदरा हिल्स टाइगर रिजर्व (Mukundara Hills Tiger Reserve) में बाघिन MT-2 की मौत के मामले में राज्य सरकार ने कड़ा कदम उठाते हुए मुकुंदरा हिल्स के फील्ड डायरेक्टर आनंद मोहन और डीसीएफ टी मोहनराज को मंगलवार देर रात एपीओ कर दिया है. मामले की जांच हाई लेवल कमेटी (High level committee) को सौंपी गई है. इसके साथ ही रिजर्व के MT-1 और MT-2 दोनों के ट्रेकिंग रिकॉर्ड को भी जांचा जा रहा है.

वनमंत्री बोले सरकार मामले को लेकर गंभीर
वन मंत्री सुखराम विश्नोई ने बताया कि राजस्थान में बाघ संरक्षण को लेकर राज्य सरकार और खुद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बेहद गंभीर हैं. इसलिए मामला सामने आते ही पीसीसीएफ (एचओएफएफ) डॉ. जीवी रेड्डी और मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक अरिंदम तोमर को तुरंत मौके पर भेज दिया गया था. वहां एनटीसीए के 2 प्रतिनिधियों, स्थानीय अधिकारियों और प्रेस की उपस्थिति में मंगलवार शाम को MT-2 का पोस्टमार्टम कराया गया. उसके बाद मानक ऑपरेटिंग प्रक्रिया (SOP) के अनुसार बाघिन के शव का अंतिम संस्कार किया गया.

Rajasthan: मुकुंदरा रिजर्व में बाघ MT-3 के 10 दिन बाद बाघिन MT-2 की भी मौत
MT-1 से भिड़ंत हो सकती है MT-2 की मौत की वजह


एनटीसीए के डीआईजी वैभव माथुर भी मुकुंदरा पहुंचे हैं. उन्होंने बाघिन के मौत वाली जगह और दूसरे क्षेत्रों का निरीक्षण किया है. राजस्थान के वन विभाग ने इस मामले से जुड़े तमाम डेटा एनटीसीए के साथ साझा किए हैं. बाघिन का बचा हुआ शावक भी काफी कमजोर है. उसे कोटा ज़ू पहुंचाकर वहां उसका गहन उपचार किया जा रहा है. वहीं दूसरे शावक की तलाश में बड़े पैमाने पर अभियान चलाया जा रहा है. इसमें 80 से भी ज्यादा लोग शामिल हैं. वनमंत्री सुखराम विश्नोई ने बताया कि प्रथम दृष्टया MT-2 की मौत की वजह शायद शावक के बचाव में MT-1 से हुई भिड़ंत लगती है. लेकिन अंतिम तथ्य विसरा रिपोर्ट और पूरी जांच के आने बाद ही सामने आ पाएंगे.

Rajasthan: बसपा विधायकों के कांग्रेस में विलय का मामला, हाई कोर्ट ने स्टे देने से किया मना

कमेटी को जांच रिपोर्ट जल्द देने के निर्देश
पहले प्रारंभिक जांच फील्ड डायरेक्टर एमटीआर कर रहे थे लेकिन अब मामले में उनकी लापरवाही सामने आने पर फील्ड डायरेक्टर आनंद मोहन और डीसीएफ टी मोहनराज को एपीओ कर दिया गया है. अब इस मामले की जांच हाई लेवल कमेटी कर रही है. उसे भी जल्द ही जांच रिपोर्ट प्रस्तुत करने का निर्देश दिये गये हैं. एमटीआर में तैनात कर्मचारियों और प्रशिक्षण के लिए आये वन विभाग के कर्मचारियों के बयान लिये जा रहे हैं. गश्त और निगरानी कर रहे कर्मचारियों की ओर से बतरी गई ढिलाई के मसले की भी विशेष तौर पर जांच की जा रही है. उल्लेखनीय है कि बाघिन MT-2 की सोमवार को मौत हो गई थी. इससे पहले करीब 12 दिन पहले इसी रिजर्व में बाघ-MT-3 की मौत हो गई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज