Rajasthan Crisis : सियासी संकट के बीच बड़ा फैसला, कांग्रेस कमेटी की प्रदेश कार्यकारिणी के साथ सभी विभाग-प्रकोष्ठ भंग
Jaipur News in Hindi

Rajasthan Crisis : सियासी संकट के बीच बड़ा फैसला, कांग्रेस कमेटी की प्रदेश कार्यकारिणी के साथ सभी विभाग-प्रकोष्ठ भंग
सियासी संकट के बाद कांग्रेस ने बड़ा कदम उठाया है.

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव और राजस्थान के प्रभारी अविनाश पांडे (Avinash Pandey) ने राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी (Rajasthan Pradesh Congress Committee) की प्रदेश कार्यकारिणी, समस्त विभागों, प्रकोष्ठ को तत्काल प्रभाव से भंग कर दिया है.

  • Share this:
जयपुर. सियासी संकट के बीच अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव और राजस्थान के प्रभारी अविनाश पांडे (Avinash Pandey) ने राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी (Rajasthan Pradesh Congress Committee) की प्रदेश कार्यकारिणी, समस्त विभागों, प्रकोष्ठ को तत्काल प्रभाव से भंग कर दिया है. उन्‍होंने कहा कि राजस्थान प्रदेश कांग्रेस के नए अध्यक्ष की नियुक्ति के साथ ही नए प्रदेश कार्यकारिणी, विभागों एवं प्रकोष्ठों का गठन किया जाएगा. साथ ही उन्होंने कहा कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasara) की अनुमति के बिना कोई भी कांग्रेस जन मीडिया से संवाद नहीं करेगा.

कांग्रेस ने कही ये बात
कांग्रेस के राष्‍ट्रीय महासचिव और राजस्थान के प्रभारी अविनाश पांडे ने कहा कि नए प्रदेशाध्यक्ष की नियुक्ति के साथ ही सभी कार्यकारिणी स्वतः भंग होने का प्रावधान है, लिहाजा डोटासरा की नियुक्ति के साथ प्रदेश कांग्रेस की सभी कार्यकारिणी भंग होने के साथ जिला और ब्लॉक की सभी कार्यकारिणी भंग हो गयी है. वहीं, अग्रिम संगठनों और विभाग प्रकोष्ठों की कार्यकारिणी भी यही नियम लागू होगा. अविनाश पांडे ने कहा कि अब कांग्रेस में प्रदेश से लेकर जिला और ब्लॉक तक नियुक्तियां नए सिरे से होंगी, जो कि गोविंद सिंह डोटासरा के दिशा निर्देश में की जाएंगी.





गहलोत ने राज्‍यपाल को सौंपी लिस्‍ट
इससे पहले राजस्‍थान में सियासी घमासान के बीच सीएम अशोक गहलोत ने राज्‍यपाल कलराज मिश्र को 104 विधायकों के समर्थन की लिस्‍ट सौंपी है. जबकि गुरुवार को शपथ ग्रहण समारोह का आयोजन होगा. इसके अलावा कैबिनेट की बैठक के दौरान सीएम अशोक गहलोत ने नए प्रदेश अध्‍यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा को बधाई दी.

इसके अलावा सियासी घटनाक्रम में सचिन पायलट समेत समर्थक विधायकों को जारी होंगे नोटिस. व्हिप के उल्लंघन के आरोप में दिए जाएंगे कारण बताओ नोटिस. मुख्य सचेतक महेश जोशी नोटिस जारी करेंगे. आपको बता दें कि विधायक दल की बैठक में सभी विधायकों को बुलाया गया था, लेकिन सचिन समेत उनके समर्थक विधायक नहीं पहुंचे.

सचिन को लेकर उमा भारती ने कही ये बात
भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष उमा भारती ने राजस्थान में सचिन पायलट के विद्रोह के लिये कांग्रेस पार्टी द्वारा उनके साथ किये गये अपमान को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि राजस्थान में कांग्रेस सरकार का मौजूदा संकट राहुल गांधी और गांधी परिवार की वजह से ही है. सचिन, राजेश पायलट के बेटे हैं. राजेश मेरे लिए एक भाई की तरह थे और हमारे उनके परिवार से बड़े ही आत्मीय संबंध थे. मुझे पता है कि वह (सचिन) कितने स्वाभिमानी परिवार का है, कैसे वह जी पाया होगा एक-डेढ़ साल, मैं समझ सकती हूं, कितना अपमान हुआ होगा उसका.

राजस्थान में सत्ता परिवर्तन को लेकर बीजेपी ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है. राजस्थान बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया का कहना है कि गहलोत सरकार का संकट अभी टला नहीं है. जबकि राजस्‍थान के नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने बड़ा बयान दिया है. उन्‍होंने कहा कि जो हुआ वो पहले से ही तय लग रहा था, सब जानते थे कि दोनों में 36 का आंकड़ा था. ये लोग हम पर आरोप लगा रहे थे, लेकिन हमने कहा था कि कांग्रेस डूबेगी तो अपने आप से ही. साथ ही उन्‍होंने कहा कि अगर गहलोत में दम है तो पहले विधानसभा में फ्लोर टेस्ट करवाएं. आज की तारीख में गहलोत सरकार अल्पमत में है. जबकि बहुमत साबित करने से पहले मंत्रिमंडल विस्तार करना गलत है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading