अपना शहर चुनें

States

निकाय चुनाव परिणाम: कांग्रेस की जीत के बावजूद 4 मंत्रियों और 18 विधायकों के क्षेत्रों में पार्टी को नहीं मिला बहुमत

कांग्रेस के 5 विधायकों को छोड़कर शेष के यहां अकेले पार्टी के दम पर बोर्ड नहीं बना है.
कांग्रेस के 5 विधायकों को छोड़कर शेष के यहां अकेले पार्टी के दम पर बोर्ड नहीं बना है.

Local Body Election Results: निकाय चुनाव परिणामों से खुश हो रही कांग्रेस के 4 मंत्रियों और 18 विधायकों के क्षेत्रों में पार्टी को स्पष्ट बहुमत (Majority) नहीं मिला है.

  • Share this:
जयपुर. राजस्‍थान के 50 शहरी निकायों के चुनाव नतीजों (Local Body Election Results) में कांग्रेस ने बीजेपी (BJP) को पछाड़ दिया है. इसके बावजूद कांग्रेस (Congress) के दिग्ग्ज मंत्रियों और विधायकों के इलाकों के नगरपालिकाओं में पार्टी के बोर्ड नहीं बन सके हैं. अब भी 30 निकाय ऐसे हैं, जहां निर्दलीय ही निर्णायक हैं.

कांग्रेस के 18 विधायकों और 4 मंत्रियों के क्षेत्रों में कांग्रेसबहुमत से दूर रह गई है. इनके क्षेत्रों में निर्दलीयों का बोलबाला है. इन 18 विधायकों और 4 मंत्रियों के क्षेत्रों के शहरी निकायों में निर्दलीयों के बिना नगरपालिका अध्यक्ष नहीं बन सकेंगे. चार मंत्रियों में केवल कृषि मंत्री लालचंद कटारिया के क्षेत्र जोबनेर नगरपालिका में ही कांग्रेस का बोर्ड बना है. बाकी मंत्रियों के इलाकों में कांग्रेस को नगरपालिकाओं में बहुमत नहीं मिला है. मंत्री राजेंद्र यादव के क्षेत्र कोटपूतली नगरपालिका में निर्दलीयों का दबदबा है. मंत्री भजनलाल जाटव के विधानसभा क्षेत्र में वैर और भुसावर नगरपालिकाओं में निर्दलीयों का बोलबाला है. यहां भी कांग्रेस बहुमत से दूर है. खान मंत्री प्रमोद जैन भाया के क्षेत्र अंता में नगरपालिका में कांग्रेस को बहुमत नहीं मिला है. यहां भी निर्दलीयों के सहयोग से ही कांग्रेस को बोर्ड बनाना पड़ेगा. उद्योग मंत्री परसादीलाल मीणा के क्षेत्र लालसोट में कांग्रेस को बहुमत नहीं मिला है यहां भी निर्दलीय निर्णायक हैं.

Rajasthan: पंचायत चुनाव परिणाम से सकते में कांग्रेस, हार ने पार्टी के लिए बजाई खतरे की घंटी

यह है हाल


कांग्रेस के 5 विधायकों को छोड़ किसी भी क्षेत्र में कांग्रेस अपने दम पर बोर्ड नहीं बना सकी है. कांग्रेस विधायकों में गुरमीत कुन्नर स्टार परफॉर्मर रहे हैं. कुन्रर के इलाके में 4 नगरपालिकाओं में कांग्रेस को बहुमत मिला है. रोहित बोहरा के क्षेत्र राजाखेड़ा, गिर्राज सिंह मलिंगा के क्षेत्र बाड़ी, पायलट खेमे के विधायक पीआर मीणा के क्षेत्र टोडाभीम और इंद्राज गुर्जर के क्षेत्र विराटनगर में कांग्रेस को पूर्ण बहुमत मिला है. कांग्रेस के 18 विधायक ऐसे हैं, जिनके इलाकों में पार्टी अपने दम पर बहुमत नहीं ला सकी है. हांलाकि, भरतपुर के डीग और कुम्हेर नगरपालिकाओं में कांग्रेस ने एक भी उम्मीदवार सिंबल पर नहीं उतारा था. अब पीसीसी चीफ तर्क दे रहे हैं कि एक रणनीति के तहत ही कांग्रेस के टिकट की बजाय निर्दलीय को चुनाव लड़वाया गया. कांग्रेस के पास विपक्ष में रहते हुए इन 50 में से 14 शहरी निकायों में अध्यक्ष थे. अब 16 में कांग्रेस को स्पष्ट बहुमत मिला है. कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष 40 पर अध्यक्ष बनाने का दावा कर रहे हैं.

2015 में कांगेस के पास थे ये निकाय
खेड़ली, अंता, बारां, नगर, कुम्हेर, बांदीकुई, बाड़ी, धौलपुर, राजाखेड़ा, चाकसू, हिंडौन, टोडाभीम, अनूपगढ़ और केसरी सिंह पुर.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज