निकाय चुनाव: वोटर को लुभाने की कवायद, मुफ्त दवा की तर्ज पर फ्री पार्किंग का फंडा !

स्थानीय निकाय चुनाव (Local body elections) से पहले अब जयपुर नगर निगम (Jaipur Municipal Corporation) की लाइसेंस समिति (License committee) ने जनता को रिझाने के लिए नया शगूफा छोड़ा है. मुफ्त दवा (Free medicine) की तर्ज पर लोगों को सरकारी अस्पतालों में पार्किंग भी निशुल्क ( free parking) करने की मांग की गई है.

Deepak Vyas | News18 Rajasthan
Updated: September 12, 2019, 6:11 PM IST
निकाय चुनाव: वोटर को लुभाने की कवायद, मुफ्त दवा की तर्ज पर फ्री पार्किंग का फंडा !
जयपुर नगर निगम की लाइसेंस समिति के चेयरमैन लक्ष्मणदास मोरानी। फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।
Deepak Vyas | News18 Rajasthan
Updated: September 12, 2019, 6:11 PM IST
जयपुर. स्थानीय निकाय चुनाव (Local body elections) से पहले अब जयपुर नगर निगम (Jaipur Municipal Corporation) की लाइसेंस समिति (License committee) ने जनता को रिझाने के लिए नया शगूफा छोड़ा है. मुफ्त दवा (Free medicine) की तर्ज पर लोगों को सरकारी अस्पतालों में पार्किंग भी निशुल्क ( free parking) करने की मांग की गई है. इसको लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) समेत मंत्रियों को पत्र भी लिखा गया है.

इस साल 52 नगरीय निकायों में चुनाव होने हैं.
प्रदेश के 52 नगरीय निकायों में इसी साल चुनाव होने हैं. इनमें से जयपुर नगर निगम भी एक है. नगर निगम में मौजूदा जनप्रतिनिधि एक बार फिर चुनावी मैदान में कूदने के लिए जनता को रिझाने में लग गए हैं. इसका अंदाजा जयपुर नगर निगम के कांग्रेस के पार्षद एवं लाइसेंस समिति के चेयरमैन लक्ष्मणदास मोरानी की ओर से मुख्यमंत्री को लिखे गए पत्र से साफ लग रहा है. इस पत्र में मोरानी ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मांग करते हुए लिखा है कि मुफ्त दवा की तर्ज पर सरकारी अस्पतालों में मुफ्त पार्किंग की सुविधा भी की जाए. उनका कहना है कि मरीजों के परिजन और रिश्तेदारों के दिनभर में कई बार अस्पतालों में चक्कर लगते हैं.

Municipal Corporation Jaipur-नगर निगम जयपुर। फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।
नगर निगम जयपुर। फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।


पूरे राजस्थान में ऐसा करने की मांग
चेयरमैन मोरानी का कहना है कि जयपुर ही नहीं, बल्कि पूरे राजस्थान में ऐसा किया जाए जिससे सरकार की वाहवाही होगी. मोरानी का कहना है कि उन्होंने सिर्फ मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को ही नहीं बल्कि चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा और नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल को भी इसके लिए पत्र लिखा है.

यह है वजह
Loading...

दरअसल राजधानी जयपुर के सरकारी अस्पतालों में आने वाले मरीजों और उनके परिजनों की संख्या काफी बड़ी होती है. ऐसे में इन अस्पतालों के अंदर तो अस्पताल प्रशासन और बाहर होने वाली पार्किंग को नगर निगम संचालित करता है. लिहाजा शहरी सरकार के लिए वोटर को लुभाने का इससे बेहतर तरीका और क्या होगा ?

राजस्थान में भी जानलेवा हुआ कांगो फीवर, जोधपुर एम्स में 2 पीड़ितों की मौत

राबॅर्ट वाड्रा से जुड़े केस पर HC में हुई सुनवाई, 26 सितंबर को होगी अंतिम बहस

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 12, 2019, 6:02 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...