Jaipur: कोरोना संकटकाल में दुकानदारों का किराया माफ कर कायम की मिसाल, व्यापारियों ने किया सम्मान
Jaipur News in Hindi

Jaipur: कोरोना संकटकाल में दुकानदारों का किराया माफ कर कायम की मिसाल, व्यापारियों ने किया सम्मान
गोवर्धन सिंह मूंडरू की जयपुर के खातीपुरा बाजार में 10 दुकानें हैं, जो उन्होंने किराये पर दे रखी हैं.

राजधानी जयपुर (Jaipur) में कोरोना संकट काल (Corona crisis) में करीब 2 महीने से ज्यादा समय तक लॉकडाउन (Lockdown) के कारण व्यापार से वंचित रहे व्यापारियों की दुकानों का किराया माफ करके सेवानिवृत्त क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी गोवर्धन सिंह मूंडरू ने संवदेनशीलता (Sensitivity) की मिसाल कायम की है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
जयपुर. राजधानी जयपुर (Jaipur) में कोरोना संकट काल (Corona crisis) में करीब 2 महीने से ज्यादा समय तक लॉकडाउन (Lockdown) के कारण व्यापार से वंचित रहे व्यापारियों की दुकानों का किराया माफ करके सेवानिवृत्त क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी गोवर्धन सिंह मूंडरू ने संवदेनशीलता (Sensitivity) की मिसाल कायम की है. सिंह के इस कदम से गद्दगद हुए व्यापारियों को उनका माला और साफा पहनाकर अभिनंदन किया.

छह माह का किराया भी कम किया
दरअसल गोवर्धन सिंह मूंडरू की जयपुर के खातीपुरा बाजार में 10 दुकानें हैं, जो उन्होंने किराये पर दे रखी हैं. कोरोना संकट के कारण प्रदेशभर में लागू हुए लॉकडाउन के दौरान सभी दुकानें बंद थी. राजस्थान में देशभर में सबसे पहले लॉकडाउन घोषित किया गया था. इससे व्यापारियों की व्यापार इस दौरान पूरी तरह से ठप रहा. व्यापारियों की इस पीड़ा को देखते हुए सिंह ने अपने सभी 10 दुकानदारों का 2 माह का किराया माफ कर दिया. यही नहीं आगामी छह माह का किराया भी कम कर दिया. इससे व्यापारियों को करीब 10 लाख रुपए की राहत मिली है. सिंह के इस कदम से उत्साहित खातीपुरा रोड व्यापार मंडल ने मंगलवार को सिंह का अभिनंदन किया. व्यापार मंडल ने सिंह का माल्यार्पण किया और साफा पहनाकर आभार व्यक्त किया. सिंह के पुत्र विक्रम सिंह कांग्रेस के नेता हैं और वे दो बार विधानसभा का चुनाव लड़ चुके हैं.

सरकार ने भी दी थी राहत



उल्लेखनीय है कि कोरोना संकट काल में राज्य सरकार ने भी किरायेदारों को राहत देते हुए मकान मालिकों को ताइद किया था कि वे संकट की इस घड़ी में किरायेदारों से किराये के लिए दबाव ना बनाएं और उन्हें 3 माह की छूट दें. कोई सक्षम है तो किराया दे दे, लेकिन उन पर किराये के लिए दबाव बनाकर उन्हें बेदखल करने जैसी कार्रवाई ना करे. इसके साथ ही सरकार ने पानी-बिजली के बिलों को जमा कराने में छूट देकर प्रभावितों को राहत देने का प्रयास किया था. संकट के इस दौर सिंह ने अपने किरायेदारों के लिए यह कदम उठाकर न केवल सराहनीय पहल की है, बल्कि एक मिसाल कायम की है.



राजस्‍थान में फिर महंगी हुई शराब, एक बोतल पर 30 रुपये तक लगा 'सरचार्ज'

Unlock- 1.0: राजस्थान रोडवेज कल से 100 नए रूट्स पर चलाएगा बसें, देखें सूची
First published: June 2, 2020, 10:24 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading