Lockdown: इस बार अबूझ सावे आखातीज पर नहीं गूंजेगा 'आज मेरे यार की शादी है', हजारों विवाह समारोह स्थगित
Jaipur News in Hindi

Lockdown: इस बार अबूझ सावे आखातीज पर नहीं गूंजेगा 'आज मेरे यार की शादी है', हजारों विवाह समारोह स्थगित
पुलिस ने मौके पर पहुंच कर रुकवाया बाल विवाह (प्रतीकात्मक तस्वीर)

वर्षभर के श्रेष्ठ अबूझ सावों में से एक आखातीज (अक्षय तृतीया) इस बार 26 अप्रैल की है. आखातीज पर इस बार शादियों (Marriage) का सर्वाधिक लोकप्रिय गीत 'आज मेरे यार की शादी है' सुनाई नहीं देगा.

  • Share this:
जयपुर. वर्षभर के श्रेष्ठ अबूझ सावों में से एक आखातीज (अक्षय तृतीया) इस बार 26 अप्रैल (रविवार) को है. आखातीज पर इस बार शादियों (Marriage) का सर्वाधिक लोकप्रिय गीत 'आज मेरे यार की शादी है' सुनाई नहीं देगा. शहनाई भी नहीं बजेगी और बड़ी संख्या में जोड़े भी विवाह दांपत्य सूत्र में नहीं बंध सकेंगे. देशव्यापी लॉकडाउन (Lockdown) के चलते इस बार आखातीज के दिन प्रस्तावित करीब 50 हजार एकल और सामूहिक विवाह समारोह स्थगित कर दिये गए हैं.

सीएम गहलोत ने की है अपील
कोरोना वायरस के संक्रमण से लोगों को बचाने के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेशवासियों से मई और जून में विवाह समारोह नहीं करने की अपील की है. राज्य सरकार का मानना है कि शादी समारोह में भीड़भाड़ अधिक होती है. इसके कारण सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो पाता है. ऐसे में कोरोना वायरस के फैलने का खतरा बना रहता है.


मई और जून की शादियां टली तो नवंबर में ही होंगे फेरे


पंडित रामनारायण व्यास के अनुसार मलमास खत्म होने के बाद 15 अप्रेल से विवाह के शुभ मुहूर्त शुरू हुए थे. 20 और 25 अप्रैल  के बाद अब  26 अप्रैल (अक्षय तृतीया) और 27 अप्रैल के मुहूर्त हैं. मई में 1, 2, 4, 6,17,18,19 तारीख को तथा जून में 13,15 व 30 तारीख को मुहूर्त हैं. इस दौरान 29 मई से 12 जून तक शुक्र अस्त होने से मुहूर्त नहीं है. 31 जून को देवशयनी एकादशी और 25 नवंबर को देवउठनी एकादशी है. यानी जुलाई से 24 नवंबर तक विवाह समारोहों पर ब्रेक रहेगा. नवंबर में दूसरा मुहूर्त 30 को तथा दिसंबर में 7 व 9 तारीख को है. अगर कोरोना महामारी के चलते मई और जून में भी शादियां टली तो फिर नवंबर में ही फेरे हो पाएंगे.

टैंट और हलवाइयों की एडवांस बुकिंग रद्द
कोराना के कहर के कारण टैंट और सराफा से लेकर हलवाइयों की एडवांस बुकिंग रद्द होने लग गई है. विवाह स्थल समिति के पदाधिकारियों के मुताबिक प्रदेशभर में इस अवधि में 50,000 से अधिक एकल और सामूहिक विवाह सम्मेलन नहीं होंगे. लॉकडाउन की अवधि बढ़ जाने से 26 अप्रेल को आखातीज पर होने वाली शादी समारोह समेत मई में होने वाले विवाह समारोह भी स्थगित हो गए हैं. लोग मैरिज गार्डन, कैटरर्स, टेंट और बैंड की बुकिंग कैंसिल करा चुके हैं. इससे सराफा सहित अन्य क्षेत्र में कारोबार काफी प्रभावित हुआ है.

व्यापारी और किसान के लिए आखातीज का सावा अहम
लॉकडाउन को लेकर बड़े व्यापारियों सहित राज्य का किसान भी चिंतित है. ज्योतिषचार्यों के मुताबिक आखातीज का दिन व्यापार जगत और किसानों के लिए भी खास होता है. पैसे का अधिकतर लेनदेन इसी दिन होता है. कोरोना के कारण इस बार अक्षय तृतीया पर शादियों के अबूझ मुहूर्त पर भी ग्रहण लग गया है. लॉकडाउन के और आगे बढ़ने की आशंका के चलते अक्षय तृतीया के साथ ही मई में होने वाली शादियां भी टल रही हैं.

COVID-19: राजस्थान में फिर बढ़े डेढ़ दर्जन नए केस, अब कुल 579 लोग संक्रमित

COVID-19: कोरोना वॉरियर्स की ड्यूटी पर मौत होने पर आश्रितों को मिलेंगे 50 लाख
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज