राजस्थान में 1 जून से खुल जाएंगे बॉयोलॉजिकल पार्क और जू, ये होंगे नियम...
Jaipur News in Hindi

राजस्थान में 1 जून से खुल जाएंगे बॉयोलॉजिकल पार्क और जू, ये होंगे नियम...
एक जून से खुल जाएंगे बॉयोलॉजिकल पार्क

राजस्थान में पर्यटन से जुड़े स्मारकों के खुलने के आदेश के बाद अब वन विभाग (Wild Department) ने भी प्रदेश में इको टूरिज्म को शुरू करने के आदेश जारी कर दिए हैं. 1 जून से ईकोटूरिज्म शुरू कर दिया जाएगा.

  • Share this:
जयपुर. कोरोना संकट (Corona Crisws) के बाद पर्यटन (Tourism) को पूरे एहतियात और सुरक्षा के साथ सुचारू करने की कवायद शुरू कर दी गई है. राजस्थान में पर्यटन से जुड़े स्मारकों के खुलने के आदेश के बाद अब वन विभाग (Wild Department) ने भी प्रदेश में इको टूरिज्म को शुरू करने के आदेश जारी कर दिए हैं. प्रदेश के टाइगर रिजर्व सेंचुरी जंगल सफारी बायोलॉजिकल पार्क और जू में 1 जून से ईकोटूरिज्म शुरू कर दिया जाएगा. इसके लिए लंबे इंतजार के बाद आज वन विभाग ने गाइडलाइंस जारी कर दी है, जिनका सख्ती से पालना के आदेश दिए गए हैं.

राजस्थान के मुख्य वन्य जीव प्रतिपालक अरिंदम तोमर ने आदेश जारी किए हैं कि प्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए तमाम सावधानियों के साथ में पर्यटन शुरू किया जाएगा. वह सभी एहतियात जो कि कोरोना से बचाव के लिए जरूरी है, पर्यटन के दौरान बरते जाएंगे.

यहां शुरू किए जाएंगे पर्यटन



राजस्थान में रणथंभौर टाइगर रिजर्व सरिस्का टाइगर रिजर्व मुकुंदरा हिल्स टाइगर रिजर्व केवलादेव घना पक्षी अभ्यारण झालाना लेपर्ड सफारी सभी सेंचुरी क्षेत्र जयपुर का नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क उदयपुर का सज्जनगढ़ बायोलॉजिकल पार्क और जोधपुर का माचिया बायोलॉजिकल पार्क पर्यटन के लिए शुरू कर दिया जाएगा. इनके साथ ही प्रदेश के सभी चिड़ियाघर और उद्योग में भी पर्यटकों की आवक शुरू कर दी जाएगी. पर्यटन के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग पर खास ध्यान दिया जाएगा. पर्यटकों को थर्मल स्क्रीनिंग के बाद एंट्री दी जाएगी. उनका मास्क पहनना अनिवार्य होगा. दस्ताना पहनना अनिवार्य होगा. सैनिटाइजर का इस्तेमाल किया जाएगा. सभी जगह पर्यटकों को केवल 4 घंटे ही किसी भी पर्यटन क्षेत्र में एंट्री की इजाजत रहेगी. बुकिंग्स में ऑनलाइन को ज्यादा तवज्जो दी जाएगी. पेमेंट भी डिजिटल देने पर ज्यादा जोर दिया जाएगा.



वन स्टाफ के लिए जारी की गई गाइडलाइंस

पर्यटकों के साथ में वन विभाग के स्टाफ नेचर गाइड वाहन चालक सभी को गाइडलाइंस सख्ती से पालना करनी होगी. किसी भी पर्यटन क्षेत्र में प्रवेश के दौरान कोई भी पर्यटक बिना अपने हाथों को सैनिटाइज किये किसी जगह को छू नहीं सकेगा. पर्यटन के वाहनों में पर्यटकों के बैठने में भी एक से डेढ़ मीटर के सोशल डिस्टेंसिंग का खास ध्यान रखा जाएगा. किसी भी पर्यटन क्षेत्र में कोई भी पर्यटक, स्टाफ, वनकर्मी, नेचर गाइड या वाहन चालक कहीं भी नहीं थूकेगा. पर्यटन क्षेत्रों में वॉटर बॉडीज की खाद सुरक्षा की जाएगी. पर्यटन के पहले और पर्यटन के बाद सभी पर्यटन स्थलों को पूरी तरह से सैनिटाइज किया जाएगा. पर्यटन के दौरान इस बात का खास ख्याल रखा जाएगा कि कोई भी ऐसा पर्यटक जो कि संभावित कोरोना संक्रमित हो सकता है उसे एंट्री ना दी जाए.

बाघों की सुरक्षाा का रखा जाएगा खास ख्याल

वन विभाग ने पर्यटन को लेकर स्पष्ट कर दिया है कि हमारा मुख्य फोकस पर्यटन के दौरान संक्रमण को किसी भी तरह से बढ़ने नहीं देने पर होगा.  पर्यटक और पर्यटन स्थल दोनों की सुरक्षा के साथ में सबसे खास ध्यान वन्यजीवों का रखा जाएगा. किसी भी सूरत में संक्रमण वन्यजीवों तक ना पहुंचे,  इसके लिए सभी जिला स्तर के वन अधिकारियों को निर्देशित कर दिया गया है. अमेरिका एक मामले में इंसानों से कोरोना वायरस का संक्रमण बाघ में होने की पुष्टि हो चुकी है. ऐसे में प्रदेश में सभी टाइगर रिजर्व ईको टूरिस्म साइट, बायोलॉजिकल पार्क और चिड़ियाघरों में बाघों की सुरक्षा के लिए खास तौर पर निर्देशित किया गया है. पर्यटन के दौरान पर्यटकों को विश्वास में लिया जाएगा और इस बात का एक संदेश दिया जाएगा पर्यटन पूरी तरह से सुरक्षित है.

ये भी पढ़ें: राजस्थान में 12 घंटों में 76 नए कोरोना पॉजिटिव मिले, जयपुर में एक की मौत

Youtube और Helo App पर ढूंढा तरीका, फिर प्रेमी संग की पति की हत्‍या
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading