लोकसभा चुनाव-2019: तीन लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ सकती है माकपा !

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी इस बार प्रदेश की तीन लोकसभा सीटों पर प्रत्याशी उतारने का मन बना रही है. 1967 से लगातार हर लोकसभा चुनाव में भाग्य आजमा रही पार्टी को केवल एक बार एक सीट पर जीत नसीब हुई है.

Dinesh Sharma | News18 Rajasthan
Updated: March 16, 2019, 3:12 PM IST
लोकसभा चुनाव-2019: तीन लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ सकती है माकपा !
फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।
Dinesh Sharma | News18 Rajasthan
Updated: March 16, 2019, 3:12 PM IST
लोकसभा चुनाव को लेकर बीजेपी और कांग्रेस के साथ ही दूसरी राजनीतिक पार्टियों ने भी तैयारियां शुरू कर दी है. मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी इस बार प्रदेश की तीन लोकसभा सीटों पर प्रत्याशी उतारने का मन बना रही है. इस पर अंतिम निर्णय केन्द्रीय कमेटी को करना है. 1967 से लगातार हर लोकसभा चुनाव में भाग्य आजमा रही पार्टी को केवल एक बार एक सीट पर जीत नसीब हुई है.

लोकसभा चुनाव-2019: वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मंत्री देवी सिंह भाटी ने दिया बीजेपी से इस्तीफा

माकपा के राज्य सचिव रवीन्द्र शुक्ला का कहना है कि पार्टी ने गरीब, मजदूर, किसान और छात्र वर्ग के लिए प्रदेश में खूब संघर्ष किया है. यही वजह है कि विधानसभा चुनाव में पार्टी को अच्छे वोट मिले. जिन क्षेत्रों में पार्टी को एक लाख से ज्यादा वोट मिले हैं उन क्षेत्रों से प्रत्याशी उतारने का फैसला किया गया है. पार्टी को सीकर, बीकानेर और चूरू जिले में एक लाख से ज्यादा वोट मिले हैं. राज्य कमेटी की बैठक में फिलहाल वहां प्रत्याशी उतारने का निर्णय लिया गया है. प्रस्ताव को केन्द्रीय कमेटी को भेज दिया गया है. वहीं से इस पर अंतिम फैसला होगा.



राजस्व मंत्री हरीश चौधरी बोले, कर्नल सोनाराम को मूल जगह वापस आना चाहिए

विधानसभा में दो सीटों पर जीत मिली थी
माकपा ने विधानसभा चुनाव में प्रदेश में 28 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे थे. उनमें से वह दो सीटें जीतने में कामयाब हुई थी. श्रीडूंगरगढ में पार्टी प्रत्याशी गिरधारीलाल महिया और भादरा सीट पर बलवान पूनिया को कामयाबी मिली थी. हालांकि पार्टी को महत्वपूर्ण सीट दांतारामगढ़ और धोद में हार का सामना पड़ा था. माकपा के राज्य सचिव रवीन्द्र शुक्ला के मुताबिक पार्टी को विधानसभा चुनाव में करीब 5 लाख वोट मिले थे. वो पार्टी का मनोबल बढ़ाने के लिए काफी हैं. अब लोकसभा चुनाव में पार्टी जोश के साथ उतरेगी.

लोकसभा चुनाव-2019 : बीजेपी के लिए इस बार आसान नहीं है राह, बहाना पड़ेगा पसीना
Loading...

पार्टी का लोकसभा चुनाव में अब तक का प्रदर्शन
- 1967 में पार्टी ने एक सीट पर चुनाव लड़ा और हारी. इसमें पार्टी को 1,68,516 यानि 2.47 प्रतिशत वोट मिले.
- 1971 में तीन सीटों पर चुनाव लड़ा और तीनों सीटें हारी. महज 45,546 यानि 0.66 प्रतिशत वोट मिले.
- 1977 में दो सीटों पर चुनाव लड़ा और दोनों पर हार मिली. 31,726 वोट यानि 0.38 प्रतिशत वोट मिले.
- 1980 में एक सीट पर चुनाव लड़ा और उसमें भी हार गई. पार्टी को 21,778 यानि 0.23 प्रतिशत वोट मिले.
- 1984 में एक सीट पर चुनाव लड़ा और हारी. इस चुनाव में 20,138 यानि 0.18 प्रतिशत वोट मिले.
- 1989 में एक सीट पर चुनाव लड़ा और जीती. इसमें पार्टी को 2,96,719 यानि 2.08 प्रतिशत वोट मिले.
- 1991 में एक सीट पर चुनाव लड़ा और फिर हारी. पार्टी को 82,945 यानि 0.68 प्रतिशत वोट मिले.
- 1996 में एक सीट पर चुनाव लड़ा. परिणाम हार. पार्टी को 56,452 यानि 0.44 प्रतिशत वोट मिले.
- 1998 में दो सीटों पर चुनाव लड़ा और हारी. 2,25,822 यानि 1.28 प्रतिशत वोट मिले.
- 1999 में एक सीट पर चुनाव लड़ा और हारी. पार्टी को 80,491 यानि 0.49 प्रतिशत वोट मिले.
- 2004 में दो सीटों पर चुनाव लड़ा. दोनों सीटें हारी. पार्टी को 89,042 यानि 0.52 प्रतिशत वोट मिले.
- 2009 में तीन सीटों पर चुनाव लड़ा. तीनों जगह हारी. 2,27,982 यानि 1.27 प्रतिशत वोट मिले.
- 2014 में तीन सीटों पर चुनाव लड़ा और फिर तीनों पर हारी. पार्टी को 78,856 यानि 0.29 प्रतिशत वोट मिले.

लोकसभा चुनाव 2019: प्रदेश में बीजेपी-कांग्रेस के इन दिग्गजों पर रहेगी सभी की नजरें

प्रत्याशी चयन में बदलाव की आहट, कांग्रेस नए जातीय समीकरण और बीजेपी देख रही फीडबैक

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

 
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...