लोकसभा चुनाव 2019: अब BJP बदलेगी चुनावी रणनीति, 10 वोटर पर RSS का एक वर्कर

विधानसभा चुनावों में मात खा चुकी बीजेपी अब लोकसभा चुनाव में फूंक-फूंककर कदम रख रही है. लोकसभा चुनाव में किसी भी तरह की गड़बड़ नहीं हो इसके लिए इस बार चुनावी रणनीति में बदलाव किया जाएगा. लोकसभा चुनाव में संघ अपनी भूमिका को बढ़ाएगा.

Sudhir sharma | News18 Rajasthan
Updated: March 15, 2019, 2:35 PM IST
लोकसभा चुनाव 2019: अब BJP बदलेगी चुनावी रणनीति, 10 वोटर पर RSS का एक वर्कर
फाइल फोटो।
Sudhir sharma | News18 Rajasthan
Updated: March 15, 2019, 2:35 PM IST
विधानसभा चुनावों में मात खा चुकी बीजेपी अब लोकसभा चुनाव में फूंक-फूंककर कदम रख रही है. लोकसभा चुनाव में किसी भी तरह की गड़बड़ नहीं हो इसके लिए इस बार चुनावी रणनीति में बदलाव  किया जाएगा. इसके तहत लोकसभा चुनाव में संघ अपनी भूमिका को बढ़ाएगा. इस कड़ी में पार्टी स्तर पर अन्य तमाम तरह की सावधानियों के साथ इस बार लोकसभा चुनाव में पर्दें की पीछे से संघ ही फ्रंट मोर्चे की कमान संभालेगा. लोकसभा चुनाव 2019: प्रदेश में बीजेपी-कांग्रेस के इन दिग्गजों पर रहेगी सभी की नजरें सूत्रों की मानें तो बदली रणनीति के साथ बीजेपी ने तैयारियां शुरू भी कर दी हैं. पार्टी स्तर पर बूथ की मजबूती पर फोकस के साथ-साथ अब प्रत्येक दस मतदाताओं पर संघ अपना एक कार्यकर्ता को लगाएगा. यह कार्यकर्ता उन दस मतदाताओं से लगातार संपर्क में रहकर उन्हें पार्टी के पक्ष में जोड़े रखेगा. कार्यकर्ता की इस जिम्मेदारी की पूरी निगरानी की भी जाएगी. सूत्रों के अनुसार संघ का मनाना है कि गत विधानसभा चुनाव और उससे पहले अजमेर और अलवर के लोकसभा तथा भीलवाड़ा की मांडलगढ़ विधानसभा सीट के लिए हुए उपचुनाव में संघ का दखल कम रहा, जिसका परिणाम पार्टी को भुगतान पड़ा. लिहाजा इस बार यह गलती नहीं की जाएगी.

लोकसभा चुनाव-2019 : बीजेपी के लिए इस बार आसान नहीं है राह, बहाना पड़ेगा पसीना

15 जिलाध्यक्ष बदले इससे पहले बीजेपी ने विधानसभा चुनावों में रही हुई खामियों को दूर करते हुए संगठन स्तर पर पहले ही बदलाव कर दिया था. इसके तहत पार्टी ने कमजोर परफोर्मेंस वाले 15 जिलाध्यक्षों को बदल दिया था. नए जिलाध्यक्षों की नियुक्ति में जातीय समीकरणों पर खास फोकस किया गया. प्रत्याशी चयन में बदलाव की आहट, कांग्रेस नए जातीय समीकरण और बीजेपी देख रही फीडबैक
Loading...

बागियों की होगी वापसी वहीं विधानसभा चुनावों में बगावत करने वालों की घर वापसी का भी इंतजाम किया जा रहा है। इसके लिए पार्टी में मंथन चल रहा है. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से हरी झण्डी मिलने के बाद उनकी वापसी हो जाएगी. असल में विधानसभा चुनाव में वोटों की गणित में बीजेपी बेहद कम मतों से कांग्रेस से पिछड़ी थी. लिहाजा जिन बागियों के साथ वोट बैंक छिटका उसे वापस जोड़ने की कवायद की जा रही है ताकि लोकसभा चुनावों में फायदा मिल सके. लोकसभा चुनाव 2019 से पहले राजस्थान BJP में इन दिग्गज नेताओं की होगी घर वापसी! सांसदों की परफोर्मेंस पर फोकस टिकट चयन में भी इस बार बेहद सतर्कता बरती जा रही है. इसके तहत मौजूदा सांसदों की परफोर्मेंस पर खास फोकस किया जा रहा है. तमाम तरह की रिपोर्टों के साथ-साथ मुख्यालय से क्षेत्रों में कार्यकर्ताओं को फोनकर सीधे भी सांसदों का फीडबैक लिया जा रहा है. इस कवायद में करीब आठ से दस सांसदों के टिकटों में बदलाव की संभावना बताई जा रही है. केन्द्रीय मंत्री शेखावत का कांग्रेस पर हमला, किसानों को गुमराह करने का लगाया आरोप लोकसभा चुनाव 2019: राजस्थान में दो चरणों में होंगे चुनाव, 29 अप्रेल और 6 मई को होगा मतदान एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...