लोकसभा चुनाव-2019: 21 सीटों पर BJP की जीत का आंकड़ा जबर्दस्त बढ़ा, 4 पर घटा, जानिए क्यों ?

लोकसभा चुनाव में राजस्थान में बीजेपी को लगातार दूसरी बार मिली एकतरफा जीत ने नया रिकॉर्ड कायम कर दिया है. 25 में से 21 सीटों पर जीत का अंतर बढ़ा है. केवल चार सीटों पर जीत का अंतर घटा है.

Sandeep Rathore | News18 Rajasthan
Updated: May 25, 2019, 1:04 PM IST
लोकसभा चुनाव-2019: 21 सीटों पर BJP की जीत का आंकड़ा जबर्दस्त बढ़ा, 4 पर घटा, जानिए क्यों ?
राजस्थान में बीजेपी संगठन।
Sandeep Rathore
Sandeep Rathore | News18 Rajasthan
Updated: May 25, 2019, 1:04 PM IST
लोकसभा चुनाव में राजस्थान में बीजेपी को लगातार दूसरी बार मिली एकतरफा जीत ने नया रिकॉर्ड कायम कर दिया है. देशव्यापी मोदी लहर में बीजेपी ने प्रदेश में लगातार दूसरी बार 25 की 25 सीटों पर कब्जा जमाया है. लोकसभा चुनाव-2019 में बीजेपी ने न केवल वापस सभी सीटों अपने पास बरकरार रखी, बल्कि जीत के मार्जिन में भी जबर्दस्त बढ़ोतरी की है. भीलवाड़ा में तो बीजेपी प्रत्याशी सुभाष बहेड़िया ने छह लाख से ज्यादा मतों से जीतकर नया रिकॉर्ड बनाया है. 25 में से 21 सीटों पर जीत का अंतर बढ़ा है. केवल चार सीटों पर जीत का अंतर घटा है.

लोकसभा चुनाव-2019: राजस्थान में बीजेपी का मिशन-25 सफल



बीजेपी ने इस बार अपने 16 सांसदों को रिपीट किया था, जबकि आठ लोकसभा क्षेत्रों में नए चेहरों को उतारा था. नागौर लोकसभा क्षेत्र की सीट पर बीजेपी ने खीवंसर विधायक हनुमान बेनीवाल की राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी से गठबंधन कर उसके लिए छोड़ी थी. वहां एनडीए के प्रत्याशी के तौर नागौर के तेज तर्रार जाट नेता हनुमान बेनीवाल को चुनाव मैदान में उतारा गया था. बीजेपी ने सभी सीटों पर न केवल जबर्दस्त वापसी की, बल्कि जीत के अंतराल में भी रिकॉर्ड बना डाला. 25 सांसदों में से 21 सांसद दो लाख से छह लाख तक के अंतराल से जीते. शेष चार में से दो सांसद एक से दो लाख के अंतर से और केवल दो सांसदों की जीत का अंतर एक लाख से नीचे रहा.

लोकसभा चुनाव-2019: प्रदेश में धरा रहा गया मंत्रियों का दबदबा

किस सीट पर कितना बढ़ा जीत का अंतर 

लोकसभा क्षेत्र       जीत- 2014            जीत- 2019        अंतर
01.अजमेर            171983                  416424            244441
Loading...

02.अलवर            283895                  329971            46076
03.बांसवाड़ा         91916                    305464            213548
04.बाड़मेर            87461                   323808            236347
05.भरतपुर           245468                  318399            72931
06.भीलवाड़ा         246264                  612000            365736
07.बीकानेर          306079                  264081             41998   अंतर घटा
08.चित्तौड़गढ़       316857                   576247            259390
09.चूरू                294739                  334402            39663
10.दौसा               45404                     78444             33040
11.श्रीगंगानगर      291741                   406978           115237
12.जयपुर            539345                    430626           108719 अंतर घटा
13.जयपुर ग्रा.      332896                    393171            60274
14.जालोर            381145                    261110           120035
15.झालावाड़        281546                    453928           172382
16.झुंझुनूं             233835                    302547            68712
17.जोधपुर          410051                     274440            135611अंतर घटा
18.करौली           27216                       97682              70466
19.कोटा             200782                     279677            78995
20.नागौर            75218                       181260             106042
21.पाली             399039                     481597              82558
22.राजसमंद      395705                      551916              156211
23.सीकर           239196                     297156               57960
24.सवाईमाधोपुर 135506                    111291               24215अंतर घटा
25.उदयपुर         236762                    437914               156211

जोधपुर व बीकानेर में जीत का अंतर घटने का यह रहा कारण
इनमें से जोधपुर में अंतर कम होने में गहलोत फैक्टर रहा. इस सीट पर बीजेपी के गजेन्द्र सिंह शेखावत के सामने सीएम अशोक गहलोत के पुत्र वैभव गहलोत ने चुनाव लड़ा था. वहीं बीकानेर में क्षेत्र के दिग्गज नेता पूर्व मंत्री देवीसिंह भाटी बीजेपी से इस्तीफा देकर खुलकर पार्टी प्रत्याशी अर्जुनराम मेघवाल के विरोध में आ गए थे.

 

प्रदेश की इन तीन सीटों पर एक ही परिवार से 6-6 सांसद चुने जा चुके हैं, तीनों पर BJP का कब्जा

 

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...