राजस्थान में राहुल ने मंत्रियों को दिया जीत का टारगेट, प्रत्याशी हारा तो छिनेगा मंत्रीपद

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी। फाइल फोटो
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी। फाइल फोटो

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के एक फरमान ने प्रदेश मंत्रियों की टेंशन बढ़ा दी है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंत्रियों को साफ फरमान भेजा है कि लोकसभा चुनाव में उनके इलाकों में जीत होगी तो ही वे अपना पद बरकरार रख सकेंगे.

  • Share this:
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के एक फरमान ने राजस्थान के मंत्रियों की टेंशन बढ़ा दी है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंत्रियों से कहा है कि लोकसभा चुनाव में उनके इलाकों में जीत होगी तो ही वे अपना पद बरकरार रख सकेंगे. जिन मंत्रियों के इलाकों में पार्टी नहीं जीतेगी उनका पद छीना जा सकता है. विधायकों को भी पार्टी ने साफ संदेश दिया है ​कि अगर आगे मंत्री बनना है तो पहले लोकसभा में पार्टी को जीत दिलवाइए.

राजस्थान में ओलंपियंस का मुकाबला, राज्यवर्धन राठौड़ के खिलाफ कांग्रेस ने कृष्णा पूनिया को उतारा

कांग्रेस के सह प्रभारी सचिव विवेक बंसल का कहना है कि मंत्रियों को उनके इलाकों में पार्टी की जीत का टारगेट दिया गया है. उन्हें अपने इलाके में पार्टी को जीत दिलवानी होगी. तभी वे अपना पद बरकरार रख पाएंगे. राहुल गांधी ने सभी को साफ निर्देश दिए हैं कि लोकसभा चुनाव की जीत ही मंत्री पद को बरकरार रखने और नए विधायकों को मंत्री बनने का आधार होगी.



कांग्रेस की दूसरी सूची में पांच नए चेहरे, लेकिन ये राजनीति के पुराने खिलाड़ी हैं
कुर्सी बचाने के लिए फील्ड में उतरे मंत्री
राहुल गांधी के इस फरमान के बाद अब मंत्रियों ने फील्ड में मोर्चा संभाल लिया है. हर मंत्री अब इसी कवायद में जुट गया है कि जो भी हो, लेकिन उनके विधानसभा क्षेत्र से तो कम से कम कांग्रेस उम्मीदवार को बढ़त मिल जाए, ताकि कुर्सी सलामत रह सके. मंत्री बनने की चाहत रखने वाले विधायक भी इसी कवायद में जुट गए हैं. इसका असर अब फील्ड में भी दिखना शुरू हो गया है.

मंत्री शेखावत ने साधा वैभव गहलोत पर निशाना, बोले- जोधपुर में प्रवासी राजस्थानी का स्वागत

मंत्रियों के पास दोहरी जिम्मेदारी
मंत्रियों के पास दोहरी जिम्मेदारी है. अपने विधानसभा सीट पर कांग्रेस को बढ़त दिलवाने के अलावा उनके पास प्रभार वाले जिले में भी कांग्रेस को बढ़त दिलवाने का चैलेंज है. कई मंत्री दबी जुबान में यह भी कह रहे हैं कि खुद के निर्वाचन क्षेत्र में तो बढ़त दिलवाई जा सकती है, लेकिन प्रभार वाले जिले में बढ़त दिलवाना चुनौती वाला काम है.

लोकसभा चुनाव: कांग्रेस की मंगलवार की सभाएं स्थगित, सीएम-डिप्टी सीएम जाएंगे दिल्ली

इन 10 जिलों के प्रभारी मंत्रियों की बढ़ी टेंशन
विधानसभा चुनावों में कमजोर प्रदर्शन वाले 10 जिलों के प्रभारी मंत्रियों के सामने सबसे बड़ी चुनौती है. विधानसभा चुनावों में पाली, जालोर, सिरोही, भीलवाड़ा, झालावाड़, कोटा, बांसवाड़ा, डूंगरपुर, चित्तौड़गढ़ और राजसमंद में कांग्रेस बीजेपी से पीछे रही थी. इन इलाकों में कांग्रेस को बढ़त दिलवाने की जिम्मेदारी प्रभारी मंत्रियों की है. लोकसभा चुनाव के परिणाम बहुत से मंत्रियों के भाग्य का फैसला करने वाले हैं.

लोकसभा चुनाव-2019: बागियों के प्रति बीजेपी का कड़ा रुख, कहा- अभी कांग्रेस को है जरूरत

प्रत्याशी चयन में बदलाव की आहट, कांग्रेस नए जातीय समीकरण और बीजेपी देख रही फीडबैक

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज