केवल मतदाता पर्ची पहचान का आधार नहीं होगी, इपिक कार्ड या वैकल्पिक दस्तावेज जरूरी

मुख्य निर्वाचन अधिकारी आनंद कुमार। फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।
मुख्य निर्वाचन अधिकारी आनंद कुमार। फोटो : न्यूज 18 राजस्थान ।

लोकसभा चुनाव में इस बार मतदान के लिए केवल मतदाता पर्ची पहचान का आधार नहीं होगी. मतदान के लिए इपिक कार्ड या 11 अन्य वैकल्पिक दस्तावेजों में से किसी एक को दिखाने पर ही मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकेंगे.

  • Share this:
लोकसभा चुनाव के लिए इस बार मतदान के दौरान केवल मतदाता पर्ची पहचान का आधार नहीं होगी. मतदान के लिए इपिक कार्ड (फोटोयुक्त मतदाता पहचान-पत्र) या 11 अन्य वैकल्पिक दस्तावेजों में से किसी एक को दिखाने पर ही मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकेंगे. इसके साथ ही मतदान केंद्रों पर बुनियादी सुविधाएं नहीं होने पर उसके लिए जिला कलेक्टर्स जिम्मेदार होंगे.

सुर्खियां- कांग्रेस नेताओं ने कहा बूथ पर काम करेंगे तो जीत पक्की है, बीकानेर इंजीनियरिंग कॉलेज में धांधली

मुख्य निर्वाचन अधिकारी आनंद कुमार ने कहा कि इस बार मतदान के लिए केवल मतदाता पर्ची पहचान का आधार नहीं होगी. मतदान के लिए इपिक कार्ड या 11 अन्य वैकल्पिक दस्तावेजों में से किसी एक को दिखाने पर ही मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकेंगे. मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने वैकल्पिक दस्तावेजों का ज्यादा से ज्यादा प्रचार प्रसार करने पर जोर दिया है ताकि मतदान दिवस पर मतदाता को किसी भी तरह की परेशानी का सामना नहीं करना पड़े.



राजस्‍थान: यहां कांग्रेस-बीजेपी ही नहीं, भाई-भाई और IAS-IPS के बीच भी है मुकाबला
बुनियादी सुविधाएं नहीं होने पर जिला कलेक्टर्स जिम्मेदार
मुख्य निर्वाचन अधिकारी आनंद कुमार ने बुधवार को जयपुर में सचिवालय में जयपुर संभाग के अधिकारियों की बैठक लेते हुए दो टूक कहा कि मतदान केंद्रों पर बुनियादी सुविधाएं नहीं होने पर जिला कलेक्टर्स जिम्मेदार होंगे. सभी जिला कलेक्टर्स अपने यहां मतदान केन्द्रों पर वोटर्स के लिए शुद्ध पानी, छाया और दिव्यांगजनों के लिए व्हीलचेयर की व्यवस्था सुनिश्चित करें. उन्होंने कहा कि प्रदेश में आदर्श आचार संहिता का कड़ाई से पालन किया जाएगा. आचार संहिता का उल्लंघन करने पर कार्रवाई होगी. बैठक में जयपुर, अलवर, दौसा, झुंझनूं और सीकर के जिला कलेक्टर्स समेत अन्य पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी मौजूद थे.

राजस्थान में राहुल ने मंत्रियों को दिया जीत का टारगेट, प्रत्याशी हारा तो छिनेगा मंत्री पद

लोकसभा चुनाव-2019: बागियों के प्रति बीजेपी का कड़ा रुख, कहा- अभी कांग्रेस को है जरूरत

प्रत्याशी चयन में बदलाव की आहट, कांग्रेस नए जातीय समीकरण और बीजेपी देख रही फीडबैक

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज